Mon05212018

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home राज्य मध्य प्रदेश

रांची: झारखंड के धनबाद जिले में एक वरिष्ठ कांस्टेबल को दो लड़कियों की बलि चढ़ाने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। 

पुलिस के मुताबिक, कांस्टेबल मुन्नीलाल को गुरूवार को उसके घर से गिरफ्तार कर दो लड़कियों को छुड़ाया गया है। लड़कियों के माता-पिता का कहना है कि मुन्नीलाल की मंशा उनकी बेटियों की बलि चढ़ाने की थी और उसने बेटियों के हाथ-पैर बांध दिए थे तथा तांत्रिकों से धार्मिक विधि कर रहा था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, मुन्नीलाल के घर से 11 कंकाल बरामद किए गए हैं। मुन्नीलाल से इस सम्बंध में पूछताछ की गई है। उमेश यादव की सात वर्षीया बेटी सीमा और चार वर्षीया छोटी गुरूवार शाम अपने घर के बाहर खेल रही थीं तभी मुन्नीलाल चॉकलेट का लालच देकर कथित रूप से उन्हें वहां से उठा ले गया।

जब लड़कियां शाम तक अपने घर वापस नहीं लौटीं, तब उनके परिवार वालों ने उन्हें ढूंढना शुरू किया और जो बाद में मुन्नीलाल के घर मिलीं। परिवार वालों का कहना है कि मुन्नीलाल देवी काली के सामने उनके बच्चियों की बलि चढ़ाने वाला था।

Published in राज्य

ग्वालियर: भाई-बहन के रिश्ते को कलंकित करने वाली एक घटना बुधवार को ग्वालियर के लधेड़ी के डांगर बाड़ा में सामने आई, जहां 45 वर्षीय युवक अपनी 32 वर्षीय सगी बहन से तब से दुष्कर्म कर रहा था जब वह महज 11 साल की थी। 

युवक ने मंगलवार रात फिर दुष्कर्म का प्रयास करते हुए बहन के साथ मारपीट की। दुष्कर्म की शिकार बहन जब शिकायत करने ग्वालियर थाने पहुंची तो पुलिसकर्मियों ने उस पर फब्तियां कसी। पुलिस से मदद नहीं मिलने पर निराश होकर उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

पुलिस ने दुष्कर्मी भाई को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, सीमा बाथम (32) की शादी बल्लू बाथम निवासी श्योपुर से हुई थी। 

पिछले साल बल्लू को भी यह बात पता चल गई कि सीमा के साथ उसका सगा भाई लाखन दुष्कर्म करता आ रहा है। उसने अपनी पत्नी को छोड़ दिया। महिला तीन बच्चों के साथ अपनी बहन प्रीति के साथ लोको में किराए का कमरा लेकर रहने लगी।

लाखन उसे धमकाकर डांगर बाड़ा स्थित अपने घर ले जाकर दुष्कर्म करने लगा। दोनों बहनें रात करीब तीन बजे ग्वालियर थाने पहुंची और घटना पुलिस को बताई। पुलिस ने इसे भाई-बहन में हुई साधारण मारपीट बताते हुए आदम चेक (पुलिस के अहस्तक्षेप अपराध) काट दिया। हालांकि पुलिस ने भाई को हिरासत में ले लिया।

सुबह करीब पांच बजे दोनों बहनें घर पहुंचीं। प्रीति दूसरे कमरे में सो गई। उधर सीमा को प्रताड़ना से मुक्ति पाने के लिए मौत को गले लगा लिया।

Published in राज्य