Mon09242018

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home कारोबार एचडीएफसी बैंक ने ई-चालान सेवा के लिए यूपी पुलिस के साथ की साझेदारी
Tuesday, 10 July 2018 10:38

एचडीएफसी बैंक ने ई-चालान सेवा के लिए यूपी पुलिस के साथ की साझेदारी

Rate this item
(0 votes)

एक ही उपकरण से जुर्माना लगाने, छापने और भुगतान लेने की सुविधा

लखनऊ:  एचडीएफसी बैंक ने आज उत्तर प्रदेश पुलिस के साथ मिल कर एकीकृत ई-चालान उपकरणों का शुभारंभ किया। हाथ में रहने वाला यह उपकरण एक प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) टर्मिनल है, जो यातायात पुलिस को कई सारे काम पूरे करने की सुविधा देगा, जैसे जुर्माना लगाना, चालान छापना और भुगतान वसूलना।

इस पहल के चलते यातायात पुलिस शहर में सड़क यातायात के नियमों का उल्लंघन होने पर डिजिटल तरीके से किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड की मदद से जुर्माना वसूल सकेगी।

इस समय उत्तर प्रदेश पुलिस हर दिन 18-20 हजार चालान काटती है और उनमें से अधिकांश कागजी तौर पर जारी होते हैं। इस पहल के जरिये बैंक इस प्रक्रिया का डिजिटलीकरण करने और नकद संभालने की प्रक्रिया को परेशानियों से मुक्त बनाने का लक्ष्य रखता है।

हापुड़ चौक, राजनगर, गाजियाबाद में आयोजित एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश पुलिस के पुलिस महानिदेशक (डायरेक्टर जनरल) श्री ओ. पी. सिंह, आईपीएस ने एचडीएफसी बैंक के अधिकारियों की उपस्थिति में इस सेवा के शुभारंभ की घोषणा की। इसके बाद एक संवाददाता सम्मेलन किया गया और श्री सिंह ने एक ई-चालान निकाल कर एक उल्लंघनकर्ता को सौंपा।

एचडीएफसी बैंक के उपाध्यक्ष और क्लस्टर प्रमुख अक्षय कुमार दीक्षित ने कहा, "डिजिटल सेवाओं का उपयोग करने वाले लोगों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ हमारा प्रयास है कि विधि अनुपालक संस्थाओं को सर्वोत्तम समाधान उपलब्ध करा कर भुगतान संग्रह की नवीनतम तकनीकों से लैस किया जाये। यह पहल बैंक और विधि अनुपालक संस्थाओं के बीच समन्वय बढ़ाने में भी मदद करती है। हम इस सेवा को स्थापित करने में समर्थन और सहयोग देने के लिए गाजियाबाद पुलिस को धन्यवाद देते हैं।"

एचडीएफसी बैंक अपनी डिजिटल पहलकदमियों के अलावा अपने राष्ट्रव्यापी वितरण नेटवर्क के माध्यम से भी लोगों तक पहुँच रहा है। उत्तर प्रदेश में एचडीएफसी बैंक की 469 शाखाएँ और 1,084 एटीएम हैं। एचडीएफसी बैंक के राष्ट्रव्यापी वितरण नेटवर्क में 31 मार्च 2018 के अनुसार 2,691 शहरों में 4,787 शाखाएँ और 12,635 एटीएम मौजूद हैं।

Read 37 times