Wed12112019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home खेल जाधव-धोनी ने दिखाया दम, भारत ने जीता पहला वनडे
Saturday, 02 March 2019 17:31

जाधव-धोनी ने दिखाया दम, भारत ने जीता पहला वनडे

Rate this item
(0 votes)

हैदराबाद: महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 51) और केदार जाधव (नाबाद 81) की रिकॉर्डतोड़ साझेदारी की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहला वनडे मैच 6 विकेट से अपने नाम कर लिया। राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए जीत के लिए 237 रनों की चुनौती पेश की। भारत ने खराब शुरुआत के बावजूद इस लक्ष्य को 48.2 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर हासिल कर लिया।एक समय 99 के कुल स्कोर पर चार विकेट गंवाने के बाद भारत पर हार के बाद मंडरा रहे थे लेकिन धोनी और जाधव ने बखूब मोर्चा संभाला। दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 149 गेंदों में 141 रनों की विजयी साझेदारी की। धोनी ने 72 गेंदों की पारी में 6 चौके 1 छक्का लगाया जबकि जाधव ने 87 गेंदों की अपनी पारी में 9 चौके और 1 छक्का जड़ा। जाधव को मैच में एक विकेट और शानदार पारी खेलने के लिए मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड से नवाजा गया। इन दोनों के अलावा शिखर धवन (0), अंबाती रायडू (13) रोहित शर्मा (37) और कप्तान विराट कोहली ने 44 रनों को योगदान दिया। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरोन फिंच ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। यह फिंच के करियर का 100वां वनडे मैच है। स्पिनर एश्टन टर्नर आस्ट्रेलिया की ओर से वनडे क्रिकेट में डेब्यू कर रहे हैं। भारत ने दो स्पिन गेंदबाजों को अंतिम एकादश में शामिल किया है। रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव स्पिन की जिम्मेदारी संभाली। टी20 सीरीज में जीत के बाद मेहमान ऑस्ट्रेलियाई टीम के हौसले बुलंद हैं तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय क्रिकेट टीम अब प्रारूप बदलने के साथ अपनी जीत की लय को दोबारा हासिल करने के इरादे से उतरी है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई दो मैचों की टी20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया ने क्लीन स्वीप किया था। वहीं इससे पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय टीम सभी प्रारूपों में अपराजित रही थी और वनडे व टेस्ट सीरीज जीतकर इतिहास रचा था जिसका बदला लेने के लिए कंगारू टीम बेताब है। भारतीय टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए बेहद खराब शुरुआत की। मेजबान टीम ने पहला विकेट महज 4 के कुल स्कोर पर गिरा दिया। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन गोल्डन डक (पहली गेंद पर आउट होना ) पर आउट हो गए। उन्हें नाथन कुल्टर नाइल ने अपना शिकार बनाया। उन्होंने नाइल की गेंद पर बड़ा शॉट मारने का प्रयास किया लेकिन ग्लेन मैक्सवेल के हाथों लपके गए। भारत का दूसरा विकेट कप्तान विराट कोहली के तौर पर गिरा। शिखर धवन के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए आए कोहली ने 44 रन की पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 6 चौके और 1 छक्का जड़ा। उन्हें एडम जाम्पा ने पवेलियन की राह दिखाई। वह जाम्पा की गेंद को क्रीज पर पड़ने के बाद भांप नहीं पाए और एलबीडबल्यू आउट हो गए। उनका विकेट 80 के कुल स्कोर पर गिरा। कोहली ने दूसरे विकेट के लिए रोहित शर्मा के साथ 76 रनों की साझेदारी की। भारत को तीसरा झटका सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के रूप में लगा। वह धैर्यपूर्ण पारी खेलकर अपना विकेट गंवा बैठे। उन्होंने 66 गेंदों में 37 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 5 चौके जड़े। रोहित को नाथन कुल्टर नाइल ने 21वें ओवर की पांचवीं गेंद पवेलियन का राह दिखाई। वह नाइल की गेंद को उठाकर मारना चाहते थे लेकिन लीडिंग एज के बाद गेंद ज्यादा ऊंची उठ गई। मिड ऑफ पर खड़े एरोन फिंच ने कोई गलती किया बिना इस बड़े मौका हाथ से जाने नहीं दिया और कैच लपक लिया। रोहित 95 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौटे। चौथे नंबर पर क्रीज पर आए अंबाती रायडू टिककर बल्लेबाजी करने में नाकाम रहे। रायडू ने अपना विकेट सस्ते में गंवा दिया। वह सिर्फ 13 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। 19 गेंदों की पारी में उन्होंने 2 चौके लगाए। रायडू को एजड जाम्पा ने 24वें ओवर की तीसरी गेंद पर आउट किया बनाया। वह जाम्पा की गेंद पर गलत शॉट खेल बैठे और गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर एलेक्स कैरी के हाथों में चली गई। उनका विकेट 99 के कुल स्कोर पर गिरा। पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने निराशाजनक आगाज किया। मेहमान टीम का पहला विकेट शून्य पर ही गिर गया। पारी का आगाज करने आए उस्मान ख्वाजा और कप्तान एरोन फिंच भारतीय गेंदबाजों के सामने असहज नजर आए। भारत की ओर से गेंदबाजी की कमान मोहम्मद शमी ने संभाली। उन्होंने शानदार गेंदबाजी करते हुए उस्मान को पहले ओवर में कोई रन नहीं बना दिया। इसके बाद दूसरे ओवर डालने आए जसप्रीत बुमराह ने दूसरी ही गेंद पर फिंच को आउट कर भारत को पहली सफलता दिलाई। फिंच बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए। फिंच बुमराह की ऑफ साइड की ओर जाती गेंद को पिच पर पड़ने के बाद भांप नहीं पाए। उन्होंने शॉट खेलने का प्रयास मगर गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर एमएस धोनी के दस्तानों में समा गई। पहले पॉवर प्ले में भारतीय गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी की। पॉवर प्ले के शुरुआती 10 ओवरों में ऑस्ट्रेलिया ने महज 38 रन बनाए और 1 विकेट गंवा दिया। मेजबान गेंदबाजों ने कंगारू बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का कोई मौका नहीं दिया। एक समय तो ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 7 ओवर में 15 रन था। इसके बाद उन्होंने थोड़े तेजी से रन बनाए। पॉवर प्ले में भारत की ओर से मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह चार-चार ओवर जबकि विजय शंकर और कुलदीप यादव ने एक-एक ओवर डाला। ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका मार्कस स्टोइनिस के रूप में लगा। एरोन फिंच के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए आए स्टोइनिस ने धैर्य के साथ पारी को आगे बढ़ाया। लेकिन अपनी छठी फिफ्टी की ओर बढ़ रहे स्टोइनिस अर्धशतक से चूक गए। उन्होंने 37 के निजी स्कोर पर अपना विकेट गंवा दिया। उन्होंने 53 गेंदों की अपनी पारी में 5 चौके लगाए। उन्हें 21वें ओवर की पहली गेंद पर केदार जाधव ने पवेलियन की राह दिखाई। वह शॉट मारना चाहते थे लेकिन शॉर्ट मिडविकेट पर कप्तान विराट कोहली के हाथों लपके गए। उन्होंने उस्मान ख्वाजा के साथ दूसरे विकेट के लिए 87 रन की अहम साझेदारी की। सलामी बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा ने अर्धशतकीय पारी खेली। उन्होंने संभलकर खेलते हुए 76 गेंदों में पचास रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 5 चौके और 1 शानदार छक्का लगाया। यह उनके वनडे क्रिकेट करियर का छठा अर्धशतक है। उन्होंने 74 गेंदों में अपना पचासा पूरा किया। हालांकि, अर्धशतक पूरा करने के बाद वह टिक नहीं पाए और कुलदीप यादव का शिकार बन गए। वह कुलदीप की गेंद पर विडविकेट की ओर बड़ा शॉट मारने की फिराक में थे मगर विजय शंकर ने शानदार कैच लपककर उनकी पारी का अंत कर दिया। उनका विकेट 97 के कुल स्कोर पर गिरा। पारी का आगाज करने आए ख्वाजा ने शुरू में काफी धीमे बल्लेबाजी की। लेकिन 15 रन के निजी स्कोर के बाद उन्होंने थोड़ी रफ्तार पकड़ी। ऑस्ट्रेलियाई पारी के 30वें ओवर की अंतिम गेंद पर कुलदीप यादव ने अपनी फिरकी का कमाल दिखाया और पीटर हैंड्सकॉम्ब को आगे बढ़कर खेलने के लिए ललचाया। विकेट के पीछे धोनी तैयार थे और हमेशा की तरह कुलदीप और धोनी की जुगलबंदी विरोधी बल्लेबाज को भारी पड़ी। कुलदीप की इस फिरकी पर हैंड्सकॉम्ब काफी आगे बढ़ गए और धोनी ने आसानी से स्टंपिंग करते हुए ऑस्ट्रेलिया को 133 के स्कोर पर चौथा झटका दे दिया। ऑस्ट्रेलिया को पांचवां झटका डेब्यूटेंट एश्टन टर्नर के तौर पर लगा। एश्टन टर्नर बड़ी पारी खेलने से चूक गए और 21 रन के रन बनाकर पवेलियन लौट गए। उन्होंने 23 गेंदों की अपनी पारी में 1 चौका और छक्का मारा। उन्हें 38वें ओवर की पाचंवीं गेंद पर मोहम्मद शमी ने बोल्ड कर पवेलियन की राह दिखाई। वह शमी की गेंद को क्रीज पर पड़ने के समझ नहीं पाए और गल शॉट खेल बैठे। गेंद उनके बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर विकेटों में घुस गई। उनका विकेट 169 के कुल स्कोर पर गिरा। जबरदस्त फॉर्म में चल रहे ग्लेन मैक्सवेल अर्धशतक जमाने से चूक गए। पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए मैक्सवेल 51 गेंदों 40 रन बनाकर अपना विकेट गंवा बैठे। इस दौरान उन्होंने 5 चौके जड़े। उन्हें 40वें ओवर की पांचवीं गेंद पर मोहम्मद शमी ने अपना शिकार बनाया। वह शमी की गेंद को पिच पर पड़ने के बाद भांप नहीं पाए और ड्राइव करने की कोशिश में क्लीन बोल्ड हो गए। उनका विकेट 173 के कुल स्कोर पर गिरा। मैक्सवेल ने भारत के खिलाफ दो टी20 मैचों की सीरीज में शानदार बल्लेबाजी की थी। उन्होंने पहले और दूसरे मुकाबले में क्रमश: 56 और नाबाद 113 रन की पारी खेली थी। ऑस्ट्रेलिया को सातवां झटका नाथन कुल्टर नाइल के रूप में लगा। उन्हें जसप्रीत बुमराह ने अपना शिकार बनाया। आठवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए नाइल ने 27 गेंदों में 3 चौकों की मदद से 28 रन बनाए। नाइल ने आखिर में एलेक्स कैरी के साथ मिलकर सातवें विकेट के लिए 62 रन की साझेदारी की। मैक्सवेल के बाद नाइल और एलेक्स कैरी ने आस्ट्रेलिया का जल्दी झटका तो नहीं लगने दिया लेकिन यह दोनों रनगति में जरूरी तेजी नहीं दे पाए। नाइल का विकेट 50वें ओवर की पांचवीं गेंद पर गिरा।

Read 98 times