Fri05242019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home राज्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास शिक्षा पर जोर
Monday, 13 May 2019 13:12

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास शिक्षा पर जोर

Rate this item
(0 votes)

लखनऊ: सेन्ट्रल इण्डिया चार्टर्ड एकाउटेंट्स स्टूडेंट्स एसोसिएशन तथा एवोक इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से रीड इण्डिया सेन्ट्रर पर उपस्थित महिलाओं के लिए वित्तीय जागरुकता के विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए एवोक इंडिया फाउंडेशन के अध्यक्ष श्री प्रवीण कुमार द्विवेदी जी ने महिलाओं की कौशल शिक्षा पर जोर दिया तथा कहा कि कौशल शिक्षा के माध्यम से ही वे आत्मनिर्भर बन सकती है।   

कार्यशाला को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने निवेश संबंधी कई विकल्प तथा उनसे संबंधित आवश्यक तथ्यों जैसे- बचत, बजट, निवेश, टैक्स प्लानिंग , सरकारी योजनाएं जैसे- किसान विकास पत्र, डाकघर बचत योजना इत्यादि तथा उनसे संबंधित सतर्कता , जोखिम , लालच व भय आदि से सभी को अवगत कराया।

कार्यक्रम का उद्घाटन श्री प्रवीण कुमार द्विवेदी –अध्यक्ष एवोक इण्डिया ने किया। इस कार्यक्रम में सी.ए. विद्यार्थी भी उपस्थित रहे तथा अपना पूरा सहयोग दिया।

इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए श्री प्रवीण कुमार जी ने कहा कि महिलाएं परिवार का आधार होती है और यदि आधार मजबूत हो तो परिवार में खुशहाली रहती है जिसके लिए महिलाओं का वित्तीय तथा व्यवहारिक रुप से शिक्षित होना आवश्यक है। तथा महिलाओँ के साथ ही हर वर्ग के लोगों को सरकार द्वारा चलायी जा रही लाभकारी योजनाओं का ज्ञान होना चाहिए। कार्यक्रम के दौरान सी.ए. मोहसनीन मिर्जा रमजान के रोजो के बावजूद वहां उपस्थित रही तथा अन्य महिलाओं का शिक्षा के प्रति उत्साह बढ़ाया।

एवोक इंडिया फाउंडेशन ने पिछले वर्ष में 300 से अधिक जागरुकता कार्यक्रम देश के लगभग 80 शहरों में किये, लगभग 10,000 से अधिक लोगों तक वित्तीय जागरुकता का संदेश पहुँचाया , जिसमें समाज के विभिन्न वर्ग जैसे विद्यार्थी, चिकित्सक , प्रोफेसर्स, महिलाएं , युवा, सेवानिवृत लोग, पुलिस और लघु एवं मध्यम इकाईयाँ भी शामिल हैं।

Read 2 times