Fri05242019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home राजनीति पीएम मोदी ने कहा- बिहार ने जिन पर भरोसा किया, उन्होंने बदनामी के सिवाय क्या दिया?
Wednesday, 15 May 2019 17:09

पीएम मोदी ने कहा- बिहार ने जिन पर भरोसा किया, उन्होंने बदनामी के सिवाय क्या दिया? Featured

Rate this item
(0 votes)

पालीगंज: बिहार के पालीगंज में आयोजित एक चुनावी जनसभा में प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) ने राष्‍ट्रीय जनता दल, कांग्रेस (Congress) और उनके सहयोगी दलों पर जमकर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि जितने भी ये महामिलावटी हैं, ये घोर नकारात्मकता के साथ चुनाव लड़ रहे हैं. इनके पास दो ही मुद्दे हैं- मोदी की छवि को खराब करो और मोदी को हटाओ. लेकिन इन महामिलावटी लोगों को अहसास नहीं है कि मोदी आज यहां पर 130 करोड़ भारतीयों के आशीर्वाद से है. मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के रूप में मेरा करीब 2 दशक का काम रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि जनता जनार्दन तो ईश्वर का रूप है. इन पदों को मैंने जनता द्वारा दिया प्रसाद माना है. इस प्रसाद को शीश झुकाकर स्वीकार किया है.अपने भाषण में पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस का नामदार परिवार हो या फिर यहां बिहार का भ्रष्ट परिवार, इनकी संपत्ति आज सैकड़ों-हजारों करोड़ों रुपए में है. गरीब सवर्णों को दिए गए आरक्षण पर पीएम मोदी ने कहा‍ कि हमारे लिए देश के हर वर्ग, हर समुदाय, हर क्षेत्र का विकास जरूरी है. हम सबका साथ-सबका विकास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं. यही कारण है कि आजादी के इतिहास में पहली बार सामान्य वर्ग के गरीब युवाओं को भी 10% का आरक्षण मिल पाया है. इतना ही नहीं ओबीसी आयोग को महामिलावट वालों के तमाम अवरोध के बावजूद संवैधानिक दर्जा देने का काम भी एनडीए सरकार ने किया है.

पीएम मोदी ने कहा कि एनडीए सरकारों की यही निष्ठा और यही ईमानदारी है जिसके कारण 21वीं सदी का युवा आश्वस्त है. उन्‍होंने कहा कि बिहार हमेशा से शिक्षा और प्रतिभा की भूमि रही है. यहां से निकले IAS-IPS और सिविल सेवा के अन्य अफसर देश को आगे बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. बिहार के गांव-गांव की उम्मीदों को, सपनों को नई ऊंचाई देने के लिए, गरीब से गरीब तक टेक्नोलॉजी को हम कैसे पहुंचा रहे हैं, इसका उदाहरण है डिजिटल इंडिया अभियान. आखिर ये पैसे कहां से आए? पीएम मोदी ने कहा कि अगर गरीब की जरा सी भी परवाह होती, अगर देश की जरा सी भी परवाह होती, तो भ्रष्टाचार करने से पहले इनके हाथ कांपते. बिहार ने जिन पर दशकों तक भरोसा किया, उन्होंने बिहार को बदनामी के सिवाय क्या दिया?

उन्‍होंने कहा कि इन लोगों ने आप लोगों से विश्वासघात किया है. जिस जाति के नाम पर इन लोगों ने राजनीति की, उस जाति से इन्हें पार्टी चलाने के लिए कोई योग्य व्यक्ति नहीं मिला. क्या इतनी बड़ी पार्टी में, पार्टी को संभालने की योग्यता और किसी में नहीं है? जिस जाति और समाज ने आंख बंद करके इनके परिवार को अरबों-खरबों का मालिक बनाया, गाड़ी-बंगला-पद-प्रतिष्ठा सब कुछ दिया, उसके साथ भी इन लोगों ने धोखा ही किया. इन्होंने देश को कुछ नहीं दिया, बिहार को कुछ नहीं दिया, अपनी जाति को भी कुछ नहीं दिया. इतना ही नहीं, अपनी जाति के दूसरे लोगों पर दबदबा बनाए रखने के लिए, जाति में जो अच्छे होनहार नौजवान थे, उन्हें भी दबंगई के रास्ते पर चढ़ा दिया.

Read 2 times