Wed12112019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home कारोबार RCOM के डायरेक्टर पद से अनिल अंबानी का इस्तीफा
Saturday, 16 November 2019 18:03

RCOM के डायरेक्टर पद से अनिल अंबानी का इस्तीफा Featured

Rate this item
(0 votes)

नई दिल्ली: अनिल अंबानी ने कर्ज के बोझ से दबी टेलीकॉम कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी ने शनिवार को शेयर बाजारों को यह सूचना दी। शेयर बाजारों को दी जानकारी में कंपनी ने कहा है कि अंबानी के साथ ही छाया विरानी, रायना करानी, मंजरी काकर, सुरेश रंगाचर ने आरकॉम के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है। इससे पहले मणिकंतन वी, ने कंपनी के निदेशक एवं मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) का पद छोड़ा था। इन सभी के इस्तीफे कंपनी की कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स के सामने रखे जाएंगे। कंपनी फिलहाल दिवालिया होने की प्रक्रिया में है। कंपनी को जुलाई-सितंबर तिमाही में 30,142 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है। कंपनी ने कहा है कि इन इस्तीफों को कंपनी के ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) के समक्ष विचारार्थ रखा जाएगा। आरकॉम फिलहाल दिवालिया प्रक्रिया में है। सांविधिक बकाया पर उच्चतम न्यायालय के फैसले की वजह से कंपनी को अपनी देनदारियों के लिए भारी-भरकम प्रावधान करना पड़ा है। इससे चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में कंपनी को 30,142 करोड़ रुपए का एकीकृत घाटा हुआ है। बता दें कि अनिल अंबानी, छाया विरानी और मंजरी काकेर ने 15 नवंबर को इस्तीफा दिया। वहीं रायना कारानी ने 14 नवंबर और सुरेश रंगाचर ने 13 नवंबर को इस्तीफा दिया था। शुक्रवार को जारी तिमाही नतीजों के अनुसार आर-कॉम को 30 हजार करोड़ से अधिक का घाटा हुआ है। यह कॉर्पोरेट इतिहास में वोडाफोन-आइडिया के बाद दूसरा सबसे बड़ा घाटा है। वोडाफोन, आइडिया व एयरटेल द्वारा दूसरी तिमाही में लगभग 74 हजार करोड़ रुपए घाटा दिखाए जाने के बाद छोटे अंबानी (अनिल अंबानी) के स्वामित्व वाली आरकॉम बड़े संकट में फंस गई है। कर्ज के बोझ से दबी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) को वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर की दूसरी तिमाही में करीब 30,142 करोड़ रुपए का एकीकृत घाटा हुआ है। अब आर कॉम के इस घाटे को मिलाकर टेलीकॉम सेक्टर का दूसरी तिमाही में घाटा बढ़कर 1,04,108 करोड़ रुपए को पार गया है। वर्तमान में दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही आर-कॉम ने सर्वोच्च न्यायालय द्वारा वैधानिक बकाया पर फैसला सुनाए जाने के बाद देनदारियों के लिए प्रावधान के कारण जुलाई-सितंबर 2019 के लिए 30,142 करोड़ रुपए का समेकित नुकसान दर्ज किया है। एडजस्टेड ग्रास रेवेन्यू (एजीआर) मामले में बकाया भुगतान के लिए प्रोविजनिंग करने की वजह से आर-कॉम को इतना नुकसान हुआ है। आरकॉम की कुल देनदारियों में 23,327 करोड़ रुपए का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ रुपए का स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क शामिल है। आरकॉम और उसकी अनुषंगियों ने 1,210 करोड़ रुपए के ब्याज और 458 करोड़ रुपए के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है। आरकॉम ने कहा कि यदि इसके लिए प्रावधान किया जाता तो उसका नुकसान 1,668 करोड़ रुपये और बढ़ जाता। तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन आय घटकर 302 करोड़ रुपए रह गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 977 करोड़ रुपए थी।

Read 17 times