Sun07052020

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home खेल सड़कों पर चिप्स बेच रहा है रिचर्ड हैडली का यह सहयोगी
Saturday, 06 June 2020 15:48

सड़कों पर चिप्स बेच रहा है रिचर्ड हैडली का यह सहयोगी

Rate this item
(0 votes)

नई दिल्ली। क्रिकेट भारत जैसे देश में धर्म बन गया और क्रिकेटरों को बहुत ज्यादा सम्मान मिलता है लेकिन ऐसा हर देश में नहीं है। कुछ देशो में पूर्व खिलाड़ियों की हालात अच्छे नहीं है। ऐसा ही खबर अब न्यूजीलैंड से आ रहा है। इस देश के पूर्व तेज गेंदबाज को भी अपना घर चलाने के लिए सड़को पर 13 घंटे तक काम करना पड़ता है। अब न्यूजीलैंड के पूर्व तेज गेंदबाज एविन चैटफील्ड के बारें में अब ऐसी खबरें आ रही है। जिन्हें अपना घर चलाने के लिए चिप्स तक बेचना पड़ा।

अब 70 साल के हो चुके एविन ने न्यूजीलैंड टीम के लिए 43 टेस्ट मैच खेले। जिसमें 180 विकेट अपने नाम किये। उसके अलावा 114 एकदिवसीय मैच में उन्होंने 118 विकेट अपने नाम किये हैं। इतना ही नहीं घरेलू क्रिकेट में उन्होंने कुल 157 फर्स्ट क्लास मैच और 171 लिस्ट ए मैच खेला है। जिसके कारण उन्होंने अपने करियर में कुल 809 विकेट हासिल किये थे।

एक समय क्रिकेट पर राज करने वाले वेस्टइंडीज की मजबूत टीम को भी एविन चैटफील्ड ने अपने स्विंग और रफ़्तार से जमकर परेशान किया था। जब उन्होंने पहली पार में 6 विकेट और दूसरी पारी में 7 विकेट हासिल किये हैं। जो मैच 3 दिन में खत्म हो गया। जिस समय सर रिचर्ड हेडली अपनी गेंदबाजी से डर पैदा कर रहे थे। उस समय उन्हें एविन चैटफील्ड का ही साथ मिला था। वो उसी न्यूजीलैंड टीम का हिस्सा रहे थे। जिसने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में सीरीज हराया था। जो उस समय एक बहुत बड़ी उपलब्धि की तरह ही रहा था।

एक समय मैच में जब इंग्लैंड के खिलाफ नंबर 11 पर बल्लेबाजी के लिए उतरें तो उन्हें सिर पर चोट लगी जिसके बाद उन्हें इंग्लैंड के फिजियो ने साँस दिया फिर जाकर उन्हें होश आया था। लेकिन उसके बाद भी एविन चैटफील्ड ने 14 सालों तक क्रिकेट को खेला था। फ़रवरी 1989 में जाकर उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कहने का फैसला किया था।

जब क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद एविन ने कई छोटी-बढ़ी नौकरी की। चैटफील्ड को चिप्स बेचने वाले स्टोर में काम करना पड़ा। उससे पहले उन्होंने हट वैली एसोसिएशन में कोचिंग की लेकिन वेलिंगटन में उसके विलय के बाद उन्हें वो पद छोड़ना पड़ा था। उसके बाद उन्होंने दूध की गाड़ी चलाई। उसके बाद वो कुरियर बॉय भी बने। फ़िलहाल को कैब चला रहे हैं। खेल पत्रकारों से अक्सर वो मिल जाते हैं।

Read 17 times