Sat10242020

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home राजनीति शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीद- बेटे लव सिन्हा के जरिए लेंगे लोकसभा चुनाव में हुए 'अन्याय' का बदला
Friday, 16 October 2020 17:33

शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीद- बेटे लव सिन्हा के जरिए लेंगे लोकसभा चुनाव में हुए 'अन्याय' का बदला

Rate this item
(0 votes)

नई दिल्ली: बॉलीवुड के दिग्गज और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शत्रुघ्न सिन्हा के अभिनेता पुत्र लव सिन्हा पटना साहिब संसदीय क्षेत्र के तहत सबसे प्रतिष्ठित सीट बांकीपुर से चुनावी मैदान में है। इसके जरिए शत्रुघ्न सिन्हा बिहार में पिछले लोकसभा चुनावों में भाजपा द्वारा उनके साथ किए गए 'अन्याय' का बदला लेने की मांग कर रहे हैं।

पटना साहिब से चार बार के भाजपा सांसद शत्रुघ्न 2019 में भाजपा के केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद सिन्हा से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव हार गए थे। वह अपने गृह नगर से भाजपा द्वारा पिछले साल टिकट दिए जाने से इनकार किए जाने के बाद कांग्रेस में शामिल हो गए थे।  इस सीट का उन्होंने 2009 और 2014 में दो बार प्रतिनिधित्व किया था।

दो कार्यकाल से राज्यसभा सदस्य और केंद्रीय कैबिनेट मंत्री बनने वाले पहले भारतीय फिल्म अभिनेता शॉटगन के बेटे ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। शत्रुघ्न सिंह ने ट्वीट किया,  "सामान्य रूप से लोगों की मांग पर और विशेष रूप से हमारी अपनी पार्टी कांग्रेस के निर्देश से सबसे योग्य, अभिनेता, फिल्म निर्माता, साहसी, सकारात्मक और ऊर्जावान राजनीति में अपने कदम रखते हैं।  'बिहारी बाबू के बेटे लव की हमारे बिहार की राजधानी पटना की राजधानी' बांकीपुर 'से' बिहार पुत्र 'के रूप में नामांकन दाखिल करने के लिए सीधी एंट्री।"

उन्होंने कहा,  "अपने ही लोगों के प्यार, समर्थन और आशीर्वाद के साथ वह न केवल पिछले चुनाव में हम सभी के साथ हुए अन्याय के लिए लड़ रहे हैं, बल्कि बिहार के विकास, प्रगति, समृद्धि, गौरव और गौरव के लिए महत्वपूर्ण हैं।"

राज्य में वर्षों से बिहारी बाबू के नाम से जाने जाने वाले शत्रुघ्न की रणनीति अपने बेटे बिहार पुत्र को प्रोजेक्ट करने का उद्देश्य निर्वाचन क्षेत्र के युवा मतदाताओं पर जीत हासिल करना है।  अपनी ओर से लव का कहना है कि निर्वाचित होने पर वह पटना के विकास की दिशा में काम करेंगे, जो अन्य बातों के साथ जल-जमाव की एक गंभीर समस्या का सामना कर रहा है।

Read 8 times