Sat10242020

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home देश कोरोना के मामले 74 लाख के पार,सक्रिय मामले घटकर 7.96 लाख के करीब
Friday, 16 October 2020 17:42

कोरोना के मामले 74 लाख के पार,सक्रिय मामले घटकर 7.96 लाख के करीब Featured

Rate this item
(0 votes)

नयी दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण के मामले सवा 74 लाख से अधिक हो गए हैं और पिछले एक सप्ताह के दौरान कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या नौ लाख से घटकर 7.96 लाख के करीब पहुँच गई हैं।

विभिन्न राज्यों से प्राप्त रिपोर्टों के मुताबिक शुक्रवार देर रात तक संक्रमण के 57,042 नये मामलों के साथ संक्रमितों का कुल आंकड़ा 74,25,555 हो गया है और मृतकों की संख्या 754 बढ़कर 1,12,947 हो गयी है। देश में नये मामलों की तुलना में कोरोना महामारी से निजात पाने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है और इसी कड़ी में 64,096 कोरोना मरीजों के ठीक होने के साथ अब तक 65,15,344 लोग इस बीमारी से मुक्ति पा चुके हैं।

कोरोना संक्रमण के नये मामलों में कमी आने और इनकी तुलना में स्वस्थ लोगों की संख्या वृद्धि होने के कारण सक्रिय मामलों में 8,448 की कमी दर्ज की गयी है। सक्रिय मामले घटकर आठ लाख से कम 7,96,080 पर आ गये हैं।

कोरोना से देश में सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र 1,89,715 सक्रिय मामलों के साथ शीर्ष पर है। वहीं कर्नाटक 1,12,427 मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है, जबकि केरल 95,009 सक्रिय मामलों के साथ तीसरे स्थान पर है।

कोरोना महामारी से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 11,447 नये मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15,76,062 पहुंच गयी। राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान नये मामलों की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या में वृद्धि दर्ज की गयी जिसके कारण सक्रिय मामलों में कमी आयी है। सक्रिय मामलों की संख्या 2,744 और घटकर 1,89,715 रह गयी।

इस दौरान रिकॉर्ड 13,885 और मरीजों के स्वस्थ होने से संक्रमण से मुक्ति पाने वालों की संख्या 13,44,368 हो गयी है तथा 306 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 41,502 हो गयी है। राज्य में मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 85.29 फीसदी पहुंच गयी है जबकि मृत्यु दर महज 2.63 प्रतिशत है

कोरोना संक्रमण के मामले में भारत दुनियाभर में अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। अमेरिका में संक्रमितों की कुल संख्या 79,82,291 हो गई और इस हिसाब से भारत अब 5.56 लाख मामले ही पीछे हैं।

Read 7 times