Sat10242020

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home कारोबार दूसरी तिमाही में13.5 फीसदी तक सिकुड़ सकती है अर्थव्यवस्था: Brickwork
Saturday, 17 October 2020 17:39

दूसरी तिमाही में13.5 फीसदी तक सिकुड़ सकती है अर्थव्यवस्था: Brickwork

Rate this item
(0 votes)

छह महीने तक कठोर लॉकडाउन से गुजरने के बाद इकोनॉमी की हालत धीरे-धीरे सुधर रही है और कुछ इंडिकेटर इकोनॉमी की सुधरती सेहत के भी संकेत दे रहे हैं. हालांकि कुछ ऐसे भी इंडिकेटर हैं जो यह बताते हैं कि इकोनॉमी में जो सुधार दिख रहा है वह क्षणिक है. यह खुलासा रेटिंग एजेंसी Brickwork Ratings की रिपोर्ट में हुआ है. इस रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि दूसरी तिमाही जुलाई से सितंबर में अर्थव्यवस्था 13.5 फीसदी तक सिकुड़ सकती है और वित्तीय वर्ष 2020-21 की बात करें तो पूरी अर्थव्यवस्था 9.5 फीसदी तक सिकुड़ सकती है. रेटिंग एजेंसी का मानना है कि जब तक कि सरकार इकोनॉमी सुधारने के लिए तुरंत कोई एक्शन नहीं लेती है, इसमें सुधार की उम्मीद नहीं दिख रही है.

अगस्त मैं मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई 52 थी जो सितंबर में तेजी से बढ़कर 56% हो गई. यह पिछले 8 साल में सबसे अधिक है. सितंबर में 95,480 करोड़ का जीएसटी कलेक्शन हुआ जो कि पिछले साल के मुकाबले 3.8 फीसदी अधिक है और अगस्त के मुकाबले 10 फीसदी से अधिक है. यात्री गाड़ियों की बिक्री में भी 21वीं सदी की बढ़ोतरी हुई है. रेलवे ट्रैफिक में भी 15 फ़ीसदी की बढ़ोतरी दिखी है. छह महीने के लॉकडाउन के बाद मर्चेंटाइज एक्सपोर्ट्स में 5.3 फीसदी का ग्रोथ दिखा है जिसमें इंजीनियरिंग गुड्स, पेट्रोलियम प्रोडक्ट, दवाइयां और रेडीमेड गारमेंट्स हैं. इसके अलावा डिमांड में भी बढ़ोतरी दिखी है.

सुधार दिखने के बावजूद रेटिंग एजेंसी का कहना है कि यह रिकवरी कुछ ही समय के लिए है क्योंकि इस दूसरी तिमाही में पिछले साल की तुलना में नए प्रोजेक्ट पर कैपिटल एक्सपेंडिचर 81 फ़ीसदी तक गिर गया है जो यह दिखाता है कि निवेश में गिरावट आई है. इसके अलावा अगस्त में कोर सेक्टर ग्रोथ में निगेटिव 8.5 फीसदी चला गया है. गोल्ड और तेल के अलावा सभी वस्तुओं के आयात भी कम हुए हैं.

अप्रैल से जून की पहली तिमाही में जीडीपी 23.9 फीसदी सिकुड़ गई. कृषि और उससे जुड़े सेक्टर को छोड़कर और सभी सेक्टर में नेगेटिव ग्रोथ रेट दिखी थी. कंस्ट्रक्शन सेक्टर में सबसे अधिक सिकुड़न देखी गई. उसमें (-)50.3 फ़ीसदी की गिरावट आई थी. उसके बाद हड़ताल, ट्रांसपोर्ट, स्टोरेज और कम्युनिकेशन में (-) 47 फीसदी और मैनुफैक्चरिंग में (-)39.3 फीसदी की गिरावट दिखी. रिपोर्ट के मुताबिक इकोनॉमी में सुधार दिख रहा है लेकिन इन सभी सेक्टर्स में गिरावट का दौर जारी रहेगा.

Read 8 times