Mon09242018

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home राज्य उत्तर प्रदेश

बलिया: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि ‘समाजवादी पूर्वांचल एक्सपे्रस-वे‘ का निर्माण हो जाने के बाद बलिया जनपद सीधे राजधानी से जुड़ जाएगा। इसका लाभ समाज के हर वर्ग को मिलेगा। बलिया सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों की खुशहाली और विकास में यह परियोजना महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। अगले वित्तीय वर्ष के बजट में लखनऊ-आजमगढ़-बलिया एक्सप्रेस-वे के लिए 1500 करोड़ रुपए की धनराशि राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित की गई है।

मुख्यमंत्री आज गोसाईपुर, जनपद बलिया में समाज कल्याण मंत्री श्री रामगोविन्द चैधरी के आवास पर एक मांगलिक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बलिया क्रान्तिकारियों की धरती रही है और इस मिट्टी ने देश को प्रधानमंत्री दिया है। 

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार ने योजनाओं को गांव-गांव तक पहुंचाकर उन्हें धरातल पर मूर्त रूप दिया है। गांवों के समग्र विकास के साथ-साथ गरीबों और किसानों को योजनाओं का लाभ पहुंचाकर उनकी आर्थिक स्थिति को सुधारा गया है। गांव, गरीब एवं किसान के लिए प्रदेश सरकार ने संसाधन जुटाकर उनकी मदद की है। इसके लिए बजट में पर्याप्त धनराशि की व्यवस्था की गयी है। 

सरकार ने बिजली, सड़क, पानी, सिंचाई की बेहतर व्यवस्था की है। साथ ही, नौजवानों को रोजगार देने के अपने वादे को भी पूरा किया है। शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक बनाने के साथ पुलिस में भी कई हजार नौजवानों की भर्ती की गयी है। जल्द ही पुनः भर्ती की शुरुआत की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस भर्ती में पारदर्शिता का पूरा ध्यान रखा गया है, ताकि कोई उँगली न उठा सके।  

श्री यादव ने विधायक जियाउद्दीन रिज़वी के घर पर आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में कहा कि खरीद-दरौली घाट पर पक्का पुल बनेगा। इसके लिए जल्द ही आवश्यक धनराशि स्वीकृत कर दी जाएगी। 

Published in राज्य

मंत्रियों को बांटे गए विभाग, राज्यपाल ने मुख्यमंत्री के प्रस्ताव पर किया अनुमोदन

लखनऊः उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के प्रस्ताव 15 कैबिनेट मंत्रियों, 8 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा 10 राज्य मंत्री को विभाग आवंटित कर दिये हैं। मुख्यमंत्री ने मंत्री  बलराम यादव, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अरूण कुमारी कोरी के वर्तमान कार्यभार में भी परिवर्तन किया है। श्रीमती अरूण कुमार कोरी के पास संस्कृति विभाग यथावत रहेगा।

कैबिनेट मंत्री अहमद हसन को बेसिक शिक्षा, बलराम यादव को माध्यमिक शिक्षा, अवधेश प्रसाद को होम गार्डस, प्रान्तीय रक्षादल, पारस नाथ यादव को ग्रामीण अभियंत्रण सेवा, राम गोविन्द चौधरी को समाज कल्याण, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण, सैनिक कल्याण, दुर्गा प्रसाद यादव को वन,  बृह्माशंकर त्रिपाठी को खादी एवं ग्रामोद्योग, रघुराज प्रताप सिंह राजा भैय्या को स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क, पंजीयन, नागरिक सुरक्षा, इकबाल महमूद को खाद्य एवं औषधि प्रशासन, महबूब अली को रेशम एवं वस्त्रोद्योग, अरिवन्द्र सिंह गोप को ग्राम्य विकास, कमाल अख्तर को खाद्य तथा रसद,  विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह को कृषि (कृषि विदेश व्यापार, कृषि निर्यात एवं कृषि विपणन को छोड़कर), कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान, बलवंत सिंह रामूवालिया को कारागार, साहब सिंह सैनी को पिछड़ावर्ग कल्याण तथा विकलांग जन विकास विभाग दिये हैं।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में रियाज अहमद को मत्स्य एवं सार्वजनिक उद्यम, फरीद महफूज किदवई को प्राविधिक शिक्षा, मूलचन्द्र चौहान को उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, राम सकल गुर्जर को खेल एवं युवा कल्याण, नितिन अग्रवाल को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन, यासर शाह को परिवहन, (7) मदन चौहानको मनोरंजन कर (8) सैय्यदा शादाब फातिमा को महिला कल्याण विभाग आवंटित किया गया है।

राज्यमंत्री के रूप में वसीम अहमद को बाल विकास, पुष्टाहार, बेसिक शिक्षा एवं ऊर्जा, डाॅ0 शिव प्रताप यादव को जन्तु उद्यान एवं चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, राधेश्याम सिंह को कृषि (कृषि विदेश व्यापार, कृषि निर्यात एवं कृषि विपणन को छोड़कर), कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान तथा चिकित्सा शिक्षा,  शैलेन्द्र यादव ललई को नियोजन एवं ऊर्जा, ओमकार सिंह यादव को ग्राम्य विकास, तेज नारायण पाण्डेय ऊर्फ पवन पाण्डेय को वन विभाग, सुधीर कुमार रावत को आई0टी0 एवं इलेक्ट्रानिक्स तथा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, हेमराज वर्मा को खाद्य तथा रसद, लक्ष्मीकान्त ऊर्फ पप्पू निषाद को खाद्य एवं रसद वंशीधर बौद्ध को समाज कल्याण, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण, सैनिक कल्याण विभाग आवंटित किया गया है।

Published in राज्य

लखनऊ। यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने कहा है कि देश का माहौल खराब हो चुका है इसलिए अब देश में इमरजेंसी लगा दी जानी चाहिए। आज़म खान ने देश के माहौल का हवाला देते हुए राष्ट्रपति से देश में राष्ट्रपति शासन लगाने और दोबारा लोक सभा चुनाव कराने की बात भी कही है। आपको बता दें कि इससे पहले आजम ने यूएन जाने की जिद करके विवाद खड़ा कर दिया था। आज़म खान ने कहा है कि देश में मानव अधिकारो का हनन हो रहा है।

दादरी कांड के बाद से आजम खान, साक्षी महाराज समेत कई नेता अब तक विवादित बयान दे चुके हैं। आजम ने कहा है कि आर. एस. एस. ने इस देश को अघोषित हिन्दू राष्ट्र बना दिया है। संविधान की घज्जियाँ उड़ाई जा रही हैं। ऐसे में राष्ट्रपति की ये ज़िम्मेदारी होती है की कानून लागू करने के लिए देश में इमरजेंसी लगाये और चुनाव करायें।

Published in राज्य

लखनऊ: सहकारिता मंत्री  शिवपाल सिंह यादव ने आज पैकफेड के नये मुख्यालय का उद्घाटन करते हुए कहा कि पैकफेड को नयी तहसीलों का काम दिया गया है जो आधुनिक तकनीकि से बनेंगी। पैकफेड को और अच्छा काम करने के लिए कर्मचारियों अधिकारियों को निर्देश दिये तथा इसी तरह अन्य सहकारी संस्थाएं भी अपनें भवनो का निर्माण करायेंगी। इस तरह पैकफेड ने अपने 11 निजी भवन बनवाये हैं। श्री यादव ने पैकफेड के निर्माण कार्य की सीमा 10 से बढ़ाकर 20 करोड़ कर दी है।

उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण, सिंचाई, जल संसाधन, सहकारिता एवं राजस्व विभाग मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि परिवर्तन लाना ही प्रदेश सरकार का उद्देश्य है एवं समय के अनुसार नयी तकनीकों का प्रयोग करके ही सहकारिता आन्दोलन को मजबूत किया जा सकता है। उन्हांेने कहा कि यदि हमें विश्व के साथ चलना है तो नयी टेक्नोलाॅजी का प्रयोग करना पडे़गा। श्री यादव ने कहा कि पिछले तीन सालों में प्रदेश सरकार ने सभी विभागों को नयी टेक्नालाॅजी से जोड़कर प्रदेश के विकास को प्रगति के पथ पर अग्रसर किया है तथा हम लगातार प्रयास कर रहेें है कि  इसका लाभ सभी प्रदेशवासियों को मिले।

सहकारिता मंत्री श्री शिवपाल सिंह यादव आज गोमती नगर विस्तार  लखनऊ, स्थित पैकफेड के नये मुख्यालय के उद्घाटन अवसर पर अपने विचार प्रकट कर रहे थे। उन्होेंने सभी अधिकारियों से  कहा कि गांव, गरीब, किसान और मेहनत करने वाले बेसहारा लोगों को कहीं भटकना न पड़े इसलिए सहकारिता आन्दोलन की शुरूवात की गयी थी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने पिछले तीन सालों में सहकारिता के लक्ष्य को पाने की हर-हाल में कोशिश की है। श्री यादव ने  कहा कि अधिक से अधिक किसानों एवं बेसहारा लोगों को सहकारिता आन्दोलन से जोड़ना ही हमारा लक्ष्य है तभी हम देश एवं प्रदेश की सेवा करने में सफल होंगे। सहकारिता मंत्री ने अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि सहकारी संस्था पर कहीं से तथा किसी भी स्तर से दाग नहीं लगना चाहिए। हमें इसकी शाख को हर-हाल में बनाये रखना है। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी, कर्मचारी लापरवाही और भ्रष्टाचार एवं घूसखोरी करेगा उसे किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जायेगा।

पीसीएफ के सभापति आदित्य यादव ने कहा कि किसानों की सेवा करके ही सहकारिता आन्दोलन को आगे बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि किसानों को खाद एवं बीज की परेशानी न हो इसलिए अभी से ही पर्याप्त मात्रा में भण्डारण कर लिया गया है।

Published in राज्य

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने उ0प्र0 की बीमार स्वास्थ्य सेवाओं पर गहरी चिंता व्यक्त की है। प्रदेश प्रवक्ता हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने आज पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि उ0प्र0 स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर मुख्यमंत्री से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक बड़ी-बड़ी बाते कही जा रही है पर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं की धज्जियां उड़ रही हैं। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर समाचार पत्रों में प्रकाशित होने वाली खबरे बेहद हैरान करने वाली है। कही जिन्दगी से महरूम हो गये मरीज को खून चढ़ाया जा रहा है तो कही शव का एक्सरे हो रहा है।

हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार अस्पतालों में मुक्त जांच और दवा दिये जाने की बात प्रचारित तो करती हैं लेकिन असलियत यह है कि गरीब व लाचार की सुनवाई नहीं है आए दिन कही अस्पताल के गेट पर ही इलाज न मिल पाने के अभाव में घंटों इंतजार कर मरीज की मृत्यु हो रही है तो कही गर्भवती महिलाओं की डिलवरी अस्पताल के गेट पर हो रही है। तो कही जिंदा बच्ची को ही मृत दिखा दिया जा रहा है।

हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि पंचायत आचार संहिता के नाम शिशुओं व प्रसूताओं के लिए 102 एम्बुलेन्स सेवा को 300 एम्बुलेन्श तथा 108 में 200 एम्बुलेन्स दिये जाने में देरी प्रदेश सरकार का एक लचर बहाना है। क्यों कि स्वास्थ्य सेवाओं पर आचार संहिता लागू नहीं होती है। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा प्रदेश सरकार द्वारा संचालित 108 एम्बुलेन्स सेवा लोगो को आवश्यकता पर उपलब्ध नहीं हो पाती इसी तरह महिला हेल्प लाइन पर जबाव ही नहीं मिलता और प्रदेश सरकार का स्वास्थ्य सेवाओं में गुणवत्ता सुधार तथा जबावदेह सेवा बनाने में रूचि नहीं।

हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने प्रदेश सरकार द्वारा 7 मेडिकल कालेज खोल जाने के लिए केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजने पर कहा कि यह अच्छी बात है कि प्रदेश में चिकित्सा, शिक्षा क्षेत्र में और अधिक शिक्षण संस्थान खोले जाएं लेकिन इससे भी अधिक अच्छा होता कि प्रदेश में सरकारी क्षेत्र में जितने मेडिकल कालेज वर्तमान में संचालित है उनकी गुणवत्ता तथा संचालन को लेकर सरकार गंभीर होती। हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि हालात यह है कि गोरखपुर मेडिकल कालेज हो या केजीएमयू विभिन्न फैकेल्टी में पढ़ाने वाले प्रोफेसर ही नहीं है। एसजीपीजीआई का ट्रामा सेंटर आज तक संचालित नहीं हो सका केन्द्र सरकार की योजना अन्र्तगत स्पेशल कम्पोनेन्ट प्लान के अन्र्तगत बसपा सरकार में बने प्रदेश के कई मेडिकल कालेज की स्थित हास्पास्पद है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि हालत यह है कि यदि मेडिकल काउन्सिल आफ इण्डिया ईमानदारी और निष्पक्षता पूर्वक सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कालेज की मानकों के आधार पर समीक्षा कर ले तो आधे से अधिक मेडिकल कालेजों की मान्यता के काबिल नहीं पाये जायेगे।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि उ0प्र0 के युवा मुख्यमंत्री कभी प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं तथा सरकारी मेडिकल कालेज की स्थित की गहन समीक्षा कर स्वास्थ्य सेवाओं को संवेदनशील गुणवत्ता परक जबावदेह और पारदर्शी बनाने के लिए कुछ व्यावहारिक कदम उठाते तो सम्भवतः प्रदेश की आम जनता को कुछ राहत मिलती।

Published in राज्य

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रदेश की समाजवादी सरकार का लक्ष्य उत्तर प्रदेश को खुशहाली व तरक्की के रास्ते पर ले जाना है। सेक्युलर और समाजवादी रास्ता ही विकास का वास्तविक रास्ता हो सकता है। पिछले साढ़े तीन साल के समय में समाजवादी सरकार प्रदेश को बहुत आगे ले आयी है। राज्य की स्थिति में काफी सकारात्मक बदलाव आया है। उत्तर प्रदेश ने वर्तमान में अनेक राज्यों को विकास गतिविधियों के मामले में काफी पीछे छोड़ दिया है।

मुख्यमंत्री आज जनपद बरेली के इज्जतनगर स्थित रेलवे के स्पोट्र्स स्टेडियम में बरेली-बागेश्वर स्टेट हाईवे-37 के तहत बरेली से बहेड़ी तक पी0पी0पी0 माॅडल पर नवनिर्मित 4-लेन सड़क के लोकार्पण समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। बाद में, उत्तराखण्ड के काठगोदाम, हल्द्वानी में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मार्ग का नाम प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री नारायण दत्त तिवारी के नाम पर रखा जाएगा।

बरेली-बागेश्वर स्टेट हाईवे-37 के तहत बरेली से बहेड़ी तक के नवनिर्मित मार्ग के लोकार्पण समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के विकास में अपने संसाधनों के साथ-साथ निजी क्षेत्र का भी सहयोग ले रही है। यह सड़क भी निजी क्षेत्र के सहयोग से बनायी गई है। इस सड़क के बन जाने से अभी तक जो दूरी दो से तीन घण्टे में तय की जा रही थी, उसे एक घण्टे में तय किया जा सकेगा। इससे उत्तराखण्ड राज्य को भी फायदा होगा। सड़कों के निर्माण में तेजी के लिए उन्होंने उपशा के सी0ई0ओ0 श्री नवनीत सहगल को बधाई दी। 

श्री यादव ने कहा कि अगर स्पीड को दो गुना कर दिया जाये तो अर्थव्यवस्था की गति तीन गुना हो जाती है अर्थात रफ्तार बढ़ने से खुशहाली और तरक्की की रफ्तार भी बढ़ जाती है। प्रदेश सरकार ने जिन सड़कों का शिलान्यास किया था वे अब पूरी होने लगी हैं और उनका उद्घाटन भी होने लगा है। समाजवादी सरकार सभी जिला मुख्यालयों को 4-लेन सड़कों से जोड़ने की योजना पर काम कर रही है। प्रदेश में अनेक जगहों पर 4-लेन सड़क बनायी जा रही है। समाजवादियों को एक और मौका मिलने पर प्रदेश के सारे जनपद 4-लेन की सड़कों से जुड़ जायेंगे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक ओर समाजवादी सरकार प्रदेश को विकास के रास्ते पर ले जा रही है, वहीं तमाम ताकतें ऐसी हैं, जिनका विकास से कोई लेना-देना नहीं है। वे केवल माहौल खराब करने का काम कर रही हैं। ये ताकतें ऐसे सवालों पर चर्चा करना चाहती हैं, जिनका विकास से कोई वास्ता नहीं है। ये सवाल ऐसे हैं, जो समाज को बांटने के साथ ही विदेशों में देश की बदनामी कराते हैं तथा सेक्युलर ताने-बाने को तोड़ते हैं। ये ताकतें केवल सत्ता में आने के लिए ऐसे सवाल उठाती हैं। श्री यादव ने कहा कि इन ताकतों को समाजवादी सरकार से विकास के मामले में मुकाबला करना चाहिए।

कार्यक्रम से पूर्व, उपशा के सी0ई0ओ0 श्री नवनीत सहगल ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए प्रदेश में उपशा के कार्याें का उल्लेख किया। लोकार्पण के पश्चात मुख्यमंत्री ने सड़क मार्ग से पूरी सड़क का अवलोकन किया तथा इस पर बने टोल प्लाजा परिसर में वृक्षारोपण किया। 

Published in राज्य

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के मुखिया भारतीय जनता पार्टी के अच्छे काम को खराब नहीं कह सकते। डॉ. राम मनेाहर लोहिया के परिनिर्वाण दिवस पर मुलायम सिंह यादव ने आज लखनऊ में देश की राजनीति में उनके योगदान को जमकर सराहा।

लोहिया ट्रस्ट कार्यालय में आज उनकी प्रतिमा पर माल्यापर्ण के बाद सपा सुप्रीमो ने वहां मौजूद लोगों को संबोधित भी किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि हम भारतीय जनता पार्टी के कुछ अच्छे कामों को खराब नहीं कह सकते। देशभक्ति के मुद्दे पर हम बीजेपी से इत्तेफाक रखते हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के अच्छे काम को अच्छा कहूंगा। बीजेपी के गलत काम की आलोचना भी करूंगा। मुलायम ने कहा कि बिहार के चुनाव में पहले बीजेपी जीत रही थी, लेकिन इस पार्टी ने आरक्षण का मुद्दा छोड़ अपना नुकसान किया है। मुलायम ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हमारी सरकार काफी अच्छा काम कर रही है। उत्तर प्रदेश जैसा विकास देश के किसी हिस्से में नहीं हो रहा है।

डॉ. लोहिया के बारे में मुलायम सिंह यादव ने कहा कि लोहिया ने लोकतंत्र के लिए बड़ी कुर्बानी दी। वह देश के गरीबों के सच्चे हितैषी थे। समाजवादी लोग भारतीय भाषाओं का विकास चाहते हैं। डॉ. लोहिया ने भी कहा था कि विदेशी भाषा पढ़ें लेकिन अपनी भाषा न भूलें। लोहिया ट्रस्ट में सपा सुप्रीमो के अलावा सीएम अखिलेश व शिवपाल यादव ने भी लोहिया जी को नमन किया।

मुलायम सिंह यादव डॉ. राम मनोहर लोहिया पार्क भी गये। लोहिया पार्क में राज्यपाल राम नाईक ने कहा मैं बहुत ही भाग्यशाली हूं जो मुझे लोहिया जी को देखने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि लोहिया जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। आज हमें लोहिया जी के विचारो पर चलने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हिंदी के लिए लोहिया जी ने बहुत काम किया। उनको कई भाषाओं पर अधिकार था।

Published in राज्य

बोले--यह वही लोग हैं जो  मुजफ्फरनगर दंगों में भी शामिल थे 

तौक़ीर सिद्दीक़ी 

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने दादरी घटना को 'गहरी साजिश' करार देते हुए कहा कि इस मामले में तीन लोगों के नाम सामने आए हैं। समीक्षा के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, भले ही उत्तर प्रदेश सरकार को कुर्बान ही क्यों ना करना पड़ जाए।

मुलायम सिंह यादव ने संवाददाताओं से कहा, '(दादरी प्रकरण में) एक पार्टी विशेष के तीन लोगों ने साजिश रची। ये वही साजिशकर्ता हैं, जिनका मुजफ्फरनगर दंगों में भी कहीं ना कहीं परोक्ष अपरोक्ष हाथ था। दादरी घटना जानबूझकर रची गई सुनियोजित साजिश है... दोषियों के खिलाफ हम कड़ी कार्रवाई करेंगे, चाहे वह कितना ही ओहदेदार या प्रभावाशाली क्यों ना हो और चाहे इसके लिए सपा को प्रदेश में अपनी सरकार ही क्यों ना कुर्बान करनी पड़े।'

तीनों नामों का खुलासा करने के बारे में पूछे जाने पर सपा प्रमुख ने कहा कि इस बारे में हम समीक्षा कर रहे हैं और जांच के बाद तीनों नामों का खुलासा कर दिया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि समीक्षा के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को निर्देश देंगे कि जिस तरह हमने किसी की परवाह किए बिना साम्प्रदायिक शक्तियों को कुचला, उसी तर्ज पर इन शक्तियों को कुचलने की जरूरत है।

सपा प्रमुख ने कहा, 'दादरी अत्यंत गंभीर घटना है। सपा सरकार मामले को पूरी गंभीरता से ले रही है। मुझे पता है कि मुख्यमंत्री (अखिलेश यादव) इस घटना को अत्यंत गंभीरता से ले रहे हैं... देश भर में सपा सरकार के उत्तर प्रदेश में किये गये कार्यों की चर्चा हो रही है। सरकार की अच्छी छवि बनी है.. इसी से बौखलायी साम्प्रदायिक शक्तियों ने ये साजिश रचकर सरकार का विकास से ध्यान हटाने का कुचक्र रचा है।'

उन्होंने कहा कि इससे पहले मुजफ्फरनगर में ऐसी ही साजिश रची गई थी। ये एक संप्रदाय विशेष के लोगों को डराने की साजिश है, लेकिन समाजवादी पार्टी ऐसी कोशिशों को कामयाब नहीं होने देगी। उन्होंने दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही। इस मामले में घटना के बाद से ही नेताओं के विवादास्पद बयानों का दौर जारी है।

आठ दिन पहले करीब 200 लोगों की भीड़ ने अखलाक को घर से बाहर निकालकर उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी। सरताज का छोटा भाई 22 साल का दानिश हमले में गंभीर रूप से घायल हो गया। उसका इलाज नोएडा के एक अस्पताल में चल रहा है जहां वह आईसीयू से बाहर आ गया है और वह परिवार से बातचीत कर पा रहा है। इस बीच बिसहड़ा में आने वाले कई भगवा नेताओं को अधिकारियों ने गांव में जाने से रोक दिया है। राजपूत बहुल इस गांव में आने वाले रास्ते पर अवरोधक लगाये गये हैं और बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद हैं। इस घटना के कारण देशभर में आक्रोश है।

Published in राज्य

लखनऊ: एक तरफ जहां दिल्ली से सटे दादरी की घटना को लेकर तनाव का माहौल है, वहीं इस बीच लखनऊ के एक मुस्लिम युवक ने साम्प्रदायिक सौहार्द का उदाहरण पेश करते हुए 60 फुट गहरे कुएं से एक गाय को निकालकर उसकी जान बचाई। प्रशासन ने उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा की है।

लखनऊ के ऐशबाग थाना क्षेत्र में एक गाय कुएं में दुर्घटनावश गिर गई थी। मोहम्मद जकी कुएं में उतरा और उसकी जान बचायी। मुस्लिम बहुल आबादी वाले क्षेत्र में स्थित इस कुएं के आसपास भारी भीड़ जमा हो गयी। जकी ने प्रशासन से मदद का इंतजार किए बिना गाय को बचाने की कोशिश शुरू की और वहां मौजूद भीड़ ने भी उसकी पूरी मदद की।

जकी ने बताया कि गाय को कुएं में गिरा देखकर बिना कुछ सोचे समझे वह उसे बचाने की जुगत में लग गया। इसी बीच मोहल्लेवालों की अपील पर मौके पर आई क्रेन से उसे बड़ा सहारा मिला। वह शीतलखेड़ा स्थित 60 फुट गहरे कुएं में क्रेन के सहारे नीचे गया और गाय को गमछे से बांध कर सुरक्षित बाहर निकाल लिया। इस दौरान उसे चोट भी लगी।

सांप्रदायिक सौहार्द की लखनवी तहजीब की अनूठी मिसाल कायम करने वाले जकी की लखनऊ के जिलाधिकारी राजशेखर ने तारीफ की है। इससे पहले ऐसी ही एक अन्य घटना में शुक्रवार को गोमती नगर में चार मुस्लिम लड़कों ने सीवर मेनहोल से एक बछड़े को निकालकर उसकी जान बचाई थी।

Published in राज्य
Page 1 of 85