Mon09242018

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home धर्मकर्म
धर्मकर्म - दिव्य इंडिया न्यूज़
मेहदी अब्बास रिज़वी   फ़रिश्ते रोते हैं जिन्नों बशर भी रोते है, जो दर्दमंद हैं सब जान अपनी खोते हैं आज की तारीख़ वह तारीख़ है जब इस्लाम फिर से ज़िंदां हुआ और मुसलमान शर्मिंदगी  में डूब गया। करबला के तपते मैदान में तीन दिन की भूख और प्यास में अपने 71 साथियों के साथ इमाम हुसैन ने ज़मीन और आसमान पर एक ऐसी लकीर खींच दी जिसने इस्लाम और मुसलमान को अलग कर दिया। अगर कोई मुसलमान के अमल से इस्लाम को समझने की कोशिश करेगा तो उसे इस्लाम टुकड़ों में नज़र आयेगा, पर अगर कर्बला पर नज़र पड़े गी तो इस्लाम की रूह दिखाई दे गी। इस्लाम ने अल्लाह के बन्दों को बन्दगी का रास्ता दिखाया, इबादत का…
परम्परागत हजारों वर्षों से पूजा एवं यज्ञ आदि में हवन सामाग्री का प्रयोग होता आया है। हवन कुण्ड में अग्नि को प्रज्वलित करने के लिए आम के पेड़ की समिधा (लकड़ी) को अधिकाधिक रूप में प्रयोग में लाया जाता है तथा नवग्रह की शान्ति हेतु भिन्न-भिन्न समिधा (लकड़ी) का प्रयोग का किया जाता है जैसे-सूर्य ग्रह की शान्ति के लिए मदार, चन्द्रमा के लिए ढाक, मंगल के लिए खैर, बुद्ध के लिए लटजीरा, बृहस्पति के लिए पीपल, शुक्र के लिए गूलर, शनि के लिए शमी, राहु के लिए दूब, केतु के लिए कुश का प्रयोग किया जाता है। हवन सामग्री का प्रयोग वातावरण को शुद्ध करता है। चिकित्सकीय दृष्टिकोण से माना जाता है कि यह अनेक प्रकार के हानिकारक जीवाणुओं…
 कानपुर: जीवन में गुरु कोई भी हो सकता है। वह चाहे माता-पिता, भाई बहन या अन्य हों। गुरु वह है, जो आत्मा का ज्ञान कराए और ईश्वर प्राप्ति का मार्ग दिखाए। यह बात सोमवार को आचार्य किरीट भाई ने किदवई नगर स्थित अग्रसेन भवन में श्रद्धालुओं से कहीं। राधामाधव तुलसी सेवा समिति की ओर से गुरु पूर्णिमा महोत्सव पर सत्संग का आयोजन किया गया, जिसमें सबसे पहले संस्था के अध्यक्ष राम किशन अग्रवाल और अखिेलश मिश्रा ने आचार्य किरीट भाई का गुरु पूजन किया। इसके बाद सत्संग शुरू हुआ। आचार्य ने कहा कि गुरु की विचार धारा से अभिन्नता ही गुरु सेवा है। तन बल, धन बल और आत्मबल से भी बड़ा परमात्मा के नाम का बल है। मानुष्य की…
लखनऊ: अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि पहली बार उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भगवान महावीर जयंती के अवसर पर 29 मार्च को पहुंचेंगे | एक दिवसीय लखनऊ में प्रवास के दौरान आचार्य लोकेश की माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक शिष्ठमंडल के साथ मुख्यमंत्री निवास पर भेंट कर भगवान महावीर जयंती पर शुभकामनाओं का आदान प्रदान करेंगे | आचार्य लोकेश मुनि इस अवसर पर भगवान महावीर जन्म जयंती पर सन्देश देंगे| शिष्ठमंडल में आचार्य लोकेश मुनि के साथ सकल जैन समाज उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष श्री विनय जैन, सचिव ब्रिजेश जैन, प्रोफेसर डा. अभय कुमार जैन, श्री शैलेन्द्र जैन, अहिंसा विश्व भारती उत्तर प्रदेश संयोजक श्री प्रेम गुप्ता व श्री प्रवीण…
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने आज महाराजा अग्रसेन धर्म जागरण समिति द्वारा श्री खाटू श्याम मंदिर में आयोजित गीता ज्ञान यज्ञ का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी अभयानन्द सरस्वती जी महाराज, महाराजा अग्रसेन जागरण समिति के अध्यक्ष श्री शिव कुमार अग्रवाल, संयोजक श्री आर0डी0 अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन उपस्थित थे। राज्यपाल ने इस अवसर पर स्वामी अभयानन्द सरस्वती के प्रवचनों के संकलन ‘नारद भक्ति सूत्र’ का विमोचन भी किया। राज्यपाल ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि वे गीता के मर्मज्ञ नहीं हैं इसलिये स्वयं को गीता पर बोलने का अधिकृत नहीं मानते। गीता का ज्ञान असीम है, व एक ऐसी रचना है जिसे साक्षात् बह्म की वाणी कहा गया है। गीता…
लखनऊ: पौष शुल्क पूर्णिमा एवं शाकम्भरी देवी जयंती के अवसर पर मंगलवार को मनकामेश्वर उपवन घाट पर अदभुत छटा बिखर रही थी। वर्ष के प्रथम गोमती आरती के मौके पर घाट शरद ऋतु के पुष्पों से सुशोभित किया गया था। आदि माँ गोमती महाआरती को देखने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। नमोस्तुते माँ गोमती एवं मनकामेश्वर मठ मंदिर की श्रीमहंत दिव्यगिरी जी महाराज ने मुख्य मंच से माँ गोमती की महा आरती की। पंडित डॉ श्यामलेश तिवारी के आचार्यत्व में सभी वेदियों पर एक ही वेश भूषा में सभी पंडितों ने मंत्रों उच्चार के साथ माँ गोमती की आरती और पूजा अर्चना की। महा आरती में जगदीश गुप्त "अग्रहरि", तेजवीर सिंह, उपमा पांडेय, यश अग्रवाल, राजकुमार, विजय मिश्रा,…
लखनऊ: कार्तिक पूर्णिमा शुक्ल एवं गंगा स्नान के अवसर पर शनिवार को मनकामेश्वर उपवन घाट पर अदभुत छटा बिखर रही थी। देव दीपावली के मौके पर घाट हज़ारों दीपों से जगमगा रहा था। आदि माँ गोमती महाआरती को देखने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। 11 वेदियों से कराई गई आरती नमोस्तुते माँ गोमती एवं मनकामेश्वर मठ मंदिर की श्रीमहंत दिव्यगिरी जी महाराज ने मुख्य मंच से माँ गोमती की माह आरती की। पंडित डॉ श्यामलेश तिवारी के आचार्यत्व में सभी वेदियों पर एक ही वेश भूषा में सभी पंडितों ने मंत्रों उच्चार के साथ माँ गोमती की आरती और पूजा अर्चना की। महा आरती में तेजवीर सिंह, कुसुम सिंह, प्रभाकर मिश्रा, नंदकिशोर, ओ पी श्रीवास्तव, अवनीश त्रिवेदी, किरन…
रामकथा मानस मसान शूरू पहले दिन उमडी जनमैदिनी वाराणसी: काशी  में मानस का महिमा मंत्र है। वेद आदेश  करते है और उपनिषद  उपदेश  देते है। ब्रह्माण्ड के सबसे बडे उपदेशक विश्वनाथ यहां बैठे है। शमशान एक ज्ञान भूमि है और प्रत्येक व्यक्ति को मन से इसका भय निकालना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति के मन से प्रलोभन निकल जाये और मृत्यु का भय निकल जाये तो जीवन का मोक्ष अवश्य होता हैं। भगवान श्रीनाथ की नगरी नाथद्वारा से निकली कथा भगवान विश्वनाथ  के पटांगन पर आज पहुंची है और सतुआ बाबा की पावन तपस्थली में संकट मोचन की कृपा से आठ सौवीं कथा करने का सौभाग्य मिला है। यह संयोग ही है कि सात सौवीं कथा का सौभाग्य भी भगवान कैलाशनाथ के…
नई दिल्ली: देश में बढ़ती सांप्रदायिकता और सामाजिक ताना बाना में बढ़ती नफ़रतों के बीच हिंदुस्तान के एक कोने से ऐसी ख़बर सामने आयी है जिसने गंगा-जमुनी तहज़ीब का जीता जागता मिसाल पेश किया है। गुवाहाटी से करीब 75 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में इन तीनों गांवों- संधेली, पोकुआ और पनिगांव में लगभग 10,000 लोग रहते हैं और इनमें से आधे लोग हिंदू और आधे लोग मुसलमान हैं. आधे से ज्यादा सदी पहले पश्चिमी असम के नलबारी जिले में तीन गांवों को मिलाने वाली सड़क का नाम मिलन चौक या एकता का केंद्र रखा गया था. गुवाहाटी से करीब 75 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में इन तीनों गांवों- संधेली, पोकुआ और पनिगांव में लगभग 10,000 लोग रहते हैं और इनमें से आधे लोग हिंदू…
वाराणसी : शिव व् शक्ति की धरा धर्म नगरी वाराणसी में 21 से 29 अक्टूबर तक नौ दिन बड़े ही अदभूत अनुपम होंगे। उत्तरवाहिनी माँ गंगा की गोद में बसे काशी नगर के मणिकर्णिका घाट के सामने गंगा पार सतुआ बाबा जी की गौशाला में सन्त कृपा सनातन संस्थान द्वारा राष्ट्रीय संत मोरारी बापू की राम कथा का आयोजन होगा । बाबा विश्वनाथ की नगरी में होने वाली मोरारी बापू की 800 वीं राम कथा में ख्यातनाम कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां और इस बीच प्रसिद्ध राष्ट्रीय संत मोरारी बापू के प्रवचन सोने में सुगंध का काम करेंगे। नौ दिन धार्मिक सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की धूम रहेगी और इसके साक्षी बापू के हजारों भक्त बनेंगे। आस्था, संस्कृति, संगीत व् कला का यह…
Page 1 of 7