Sun05262019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home लाइफ स्टाइल
लाइफ स्टाइल - दिव्य इंडिया न्यूज़
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव प्रचार से फुरसत पाने के बाद केदारनाथ धाम के दर्शन किए और वहां उनकी गुफा के अंदर साधना करते हुए फोटो जमकर वायरल भी हुई. पीएम नरेंद्र मोदी की इस फोटो ने सोशल मीडिया पर जमकर सुर्खियां लूटीं और बॉलीवुड से इसे लेकर जोरदार रिएक्शन भी आए. बॉलीवुड एक्ट्रेस और राइटर ट्विंकल खन्ना  ने साधना को लेकर अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर चुटकी ली है और मेडिटेशन करते हुए अपनी एक फोटो भी पोस्ट की है. वैसे भी ट्विंकल खन्ना सोशल मीडिया पर चुटकी लेने का कोई भी मौका छोड़ती नहीं हैं.  ट्विंकल खन्ना  ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की साधना की फोटो का मुकाबला करते हुए अपनी एक फोटो पोस्ट की है. ट्विंकल…
लखनऊ:  प्रज्ञा इंटरनेशनल ट्रस्ट और नान-वायलेन्स प्रोजेक्ट फ़ाउंडेशन इंडिया ने दो दिवसीय (29 और 30 अप्रैल) "स्कूलों में शांति के लिए" प्राथमिक स्तर की "प्रशिक्षकों के लिए प्रशिक्षण" कार्यक्रम आज दिनांक 30 अप्रैल को सम्पन्न हो गया, यह कार्यक्रम रिंग रोड , इन्दिरा नगर स्थित  आईसीसीएमआरटी  (सहकारी और कॉर्पोरेट प्रबंधन अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान) लखनऊ मे आयोजित किया गया था । इस चरणबद्ध प्रशिक्षण कार्यक्रम मे उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों से पधारे 34 महिला व पुरुष प्रतिभागियों ने प्रशिक्षण पूरा किया।  कार्यशाला के समापन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं भारतीय प्रबंध संस्थान (आई आई एम ) लखनऊ के पूर्व डीन श्री सुब्रत चक्रवर्ती ने अपना प्रशिक्षण पूरा कर चुके भावी प्रशिक्षकों को बधाई दी और प्रमाणपत्र वितरित किया ।…
दुनियाभर में आम बीमारियों में से एक बन गया है. इसे मरीज़ के ब्लड शुगर के स्तर के आधार पर पहचाना जाता है. हालांकि इसे पूरी तरह से ठीक करना आसान नहीं है, लेकिन अपनी डाइट (Diabetic Food Chart) में कुछ परिवर्तन करने से इसे काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है. खून में अगर शुगर लेवल बढ़ा हो तो ऐसे फलों का इस्तेमाल करना लाभदायक होता है जिनमें फाइबर की मात्रा ख़ूब हो. खूब सारा पानी पीना भी शुगर लेवल ( Sugar Levels) को ठीक रखने में मदद करता है. शुगर लेवल को ठीक रखने के लिए ऐहतियात बरतनी बहुत ज़रूरी होती है. ऐसा माना जाता है कि जंक फूड और ट्रांस फूड के कम सेवन से शुगर…
हिंदुत्व के खिलाफ बोलना हुआ खतरनाक, पत्रकारों के लिए स्थितियां ठीक नहीं नई दिल्ली: देश में लोकसभा चुनाव के बीच में वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2019 जारी किया गया है। रिपोर्टर्स  विदाउट बॉडर्स ने बृहस्पतिवार को इस रैंकिंग को जारी किया। भारत ने प्रेस की आजादी की इस रैंकिंग में पिछले साल के मुकाबले इस बार पिछड़ गया है। सूची में नॉर्वे शीर्ष स्थान पर है। भारत इस वैश्विक रैंकिंग में दो स्थान लुढ़कर 140वें स्थान पर पहुंच गया है। भारत में पत्रकारों के लिए स्थितियां ठीक नहीं है। माना जा रहा है कि यहां हिंदुत्व के खिलाफ बोलना खतरनाक हो सकता है। रिपोर्ट में पाया गया है कि ऐसे पत्रकार जो हिंदुत्व के खिलाफ लिखते या बोलते हैं, उनके…
नई दिल्ली: नासा के नये ग्रह खोज उपग्रह ने धरती के आकार के नये बाह्य ग्रह की खोज की है जो 53 प्रकाश वर्ष दूर एक सितारे की कक्षा में मौजूद है। ट्रांजिस्टिंग एक्सोप्लेनेट्स सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने उसी मंडल में वरुण ग्रह के आकार के एक ग्रह की खोज की है। यह अध्ययन एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लैटर्स में प्रकाशित हुआ है। अमेरिका के कार्नेजी इंस्टीट्यूशन फॉर साइंस की जोहाना टेस्के ने कहा, “यह बेहद उत्साहित करने वाला है कि महज एक साल पहले लॉन्च हुआ टीईएसएस ग्रहों की खोज के क्रम में पहले से ही एक जबर्दस्त बदलाव लाने वाला बन गया है।” इससे पहले नासा ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी के वार्षिक ह्यूमन एक्सप्लोरेशन रोवर चैलेंज के तौर पर भारत…
नई दिल्ली: एक एनजीओ ने अपनी रिपोर्ट में गंगा के पानी को पिछले तीन सालों में पहले से भी खराब होने का दावा किया है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2015 में चलाए गए 20 हजार करोड़ का गंगा नदी को स्वच्छ करने के प्रॉजेक्ट पर सवाल उठाए जा रहे हैं। एनजीओ की रिपोर्ट के मुताबिक कोलीफॉर्म बैक्टीरिया और बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) में बढ़ोत्तरी हुई है। वाराणसी में स्थित एनजीओ संकट मोचन फाउंडेशन (एसएमएफ) ने हाल में ही एक सर्वे में गंगा नदी को तीन साल में सबसे ज्यादा प्रदूषित बताया है। उसने अपने सर्वे के सैंपलों में कोलीफॉर्म बैक्टीरिया और बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) की मात्रा अधिक बताई है। गंगा नदी के जल में ऐसे बैक्टीरिया का…
लखनऊ: पेशाब करने में दर्द होना या यूरीन अक्सर लाल-भूरे रंग की आना खतरनाक हो सकता है, इसे बिलकुल भी नजर अंदाज न करें। गलत खान-पान और जरुरत से कम पानी पीने के कारण आजकल ज्यादातर लोग किडनी स्टोन का शिकार हो रहे है। किडनी स्टोन से पीड़ित लोग अक्सर दर्द के साथ यूरीन आने की शिकायत करते हैं, ऐसा तब होता है जब किडनी स्टोन मूत्रमार्ग से मूत्राशय में चले जाते है। अपोलोमेडिक्स सुपर स्पेशलिटी हाँस्पिटल के डाक्टर राहुल यादव सीनियर कंसलटेंट यूरोलाँजी एन्ड रेनल ट्रान्सप्लांट ने बताया कि किडनी की पथरी से पीठ या पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द हो सकता है, जो कुछ मिनटों या घंटो तक बना रह सकता है। पाचन क्रिया सही न…
दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 15 भारत में  लखनऊ: ग्रीनपीस और एयरविजुअल ने मिलकर ‘2018 वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट’ नाम से वायु प्रदूषण पर एक नयी रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में साल 2018 में पीएम 2.5 के प्रदूषण स्तर के डाटा को सामने लाया गया है। इस रिपोर्ट में यह सामने आया है कि दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 15 शहर भारत में हैं। इसमें लखनऊ नौवें स्थान पर है। इस रिपोर्ट में शामिल 3000 शहरों के पीएम 2.5 डाटा को देखकर पता चलता है कि पूरी दुनिया के लोगों के स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण की वजह से ख़तरा मंडरा रहा है। भारत का गुरुग्राम और ग़ाज़ियाबाद दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है। वहीं…
प्रयागराज: कुंभ मेले ने कई अनोखे बाबाओं / साधुओं की बदौलत लाखों लोगों को आकर्षित किया है। लाखों लोगों की भीड़ के एक साथ आने से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से नदियों को प्रदूषित किया जाता है। तीर्थयात्रियों द्वारा पवित्र स्नान के दौरान भारी मात्रा मे छोड़े गए प्लास्टिक उत्पादों के कचरे से पैदा हुई गंदगी नदी के तल और पारिस्थितिक संतुलन को प्रभावित करते हैं। आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए कंप्यूटर बाबा या टोपी वाले बाबा के शिविर का दौरा कुछ समय के लिए कुंभ के अनुभव का एक अभिन्न हिस्सा रहा है, परंतु इस वर्ष के कुम्भ मे प्लास्टिक बाबा विशेष आकर्षण का केंद्र रहे । प्लास्टिक बाबा नदी में छोड़े गए विभिन्न प्लास्टिक उत्पादों के खतरों के…
-फ़िरदौस ख़ान  रबी की फ़सल कट रही है. ख़रीफ़ की फ़सल की बुआई से पहले किसान खेतों को ख़ाली रखने की बजाय मूंग की फ़सल उगा कर अतिरिक्त आमदनी हासिल कर रहे हैं. फ़सल चक्र अपनाने से उत्पादन के साथ-साथ भूमि की उर्वरा शक्ति बनी रहती है. धान आधारित क्षेत्रों के लिए धान-गेहूं-मूंग या धान-मूंग-धान, मालवा निमाड़ क्षेत्र के लिए मूंग-गेहूं-मूंग, कपास-मूंग-कपास फ़सल चक्र अपनाया जाता है. मूंग की फ़सल भारत की लोकप्रिय दलहनी फ़सल है और इसकी खेती विभिन्न प्रकार की जलवायु में की जाती है. यह फ़सल सभी प्रकार की भूमि में उगाई जा सकती है, लेकिन अच्छे जल निकास वाली बलुई और दोमट मिट्टी इसके लिए उपयुक्त रहती है. मूंग ख़रीफ़, रबी और जायद तीनों मौसम में…
Page 1 of 16