Wed12112019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home कारोबार
कारोबार - दिव्य इंडिया न्यूज़
नई दिल्ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने केंद्र सरकार की तरफ से कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती करने के निर्णय का स्वागत किया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को घरेलू कंपनियों के लिए सभी प्रकार के सेस व सरचार्ज मिलाकर 25.17 फीसदी टैक्स की घोषणा की। वित्त मंत्री ने कहा कि मौजूदा कटौती इस वित्त वर्ष में 1 अप्रैल से लागू हो जाएगी। इंडिया टुडे के कार्यक्रम शामिल होने पहुंचे गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि सरकार की तरफ से उठाया गया कदम अर्थव्यवस्था को उबरने में मदद करेगा। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि यह साहसिक और स्वागत योग्य निर्णय है। मालूम हो कि अरुण जेटली के वित्त मंत्री रहने के दौरान कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती कर इसे 30 फीसदी…
नई दिल्ली: शेयर बाजार में आज फिर गिरावट की लहर रही। बैंकिंग और एनर्जी शेयरों में भारी बिकवाली का दबाव रहने से बीएसई सेंसेक्स 470 अंक लुढ़ककर 36,093.47 पर बंद हुआ। एनएसई निफ्टी भी 135.85 अंक की चोट खाकर 10,704.80 पर बंद हुआ। सुबह करीब 10 बजे सेंसेक्स 252.14 अंक यानी 0.69 फीसदी की गिरावट के बाद 36,311.74 के स्तर पर कारोबार करते दिखा। निफ्टी की बात करें, तो 75.95 अंक यानी 0.70 फीसदी की गिरावट के बाद 10,764.70 के स्तर पर कारोबार करते दिखाई दिया। मंगलवार को भारी गिरावट के बाद बुधवार को सुधार दिखाई दिया था लेकिन गुरुवार को बाजार फिर से नकारात्मक माहौल के बीच रेड जोन चल पड़ा। शेयरों की बात करें, तो गुरुवार को वोडाफोन…
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार अब सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों में अपनी हिस्सेदारी कम करने की तैयारी में है. सूत्रों का दावा था कि सरकारी हिस्सेदारी को कम करने के पीछे सरकार का इरादा इन सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों को निजी क्षेत्र को सौंपना है. गौरतलब है कि ऊर्जा उत्पादन के क्षेत्र में नवरत्न कंपनी एनटीपीसी में इस समय सरकार की हिस्सेदारी 54 फीसदी है, जिससे इस इकाई पर सरकार का स्वामित्व है. वहीं, सूत्रों का दावा है कि सरकार फिलहाल 54 फीसदी में से 10 फीसदी इक्विटी बेचने का फैसला लेने जा रही है, जिसके लिए ऊर्जा मंत्रालय के इशारे पर एनटीपीसी ने समूचा ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया है और किसी भी समय दस फीसदी…
नई दिल्ली: देश में आर्थिक मंदी का असर अब सरकार के राजस्व पर भी देखने को मिल रहा है। साल 2019-20 के पहले साढ़े पांच महीनों में नेट डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में कमी देखने को मिल रही है। अप्रैल से सितंबर तक के बीच नेट डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में महज 4.4 लाख करोड़ करोड़ रहा। यह बढ़ोतरी महज 5 फीसदी ही रही। सरकार ने बजट अनुमान में 13.35 लाख करोड़ रुपये अर्जित करने का अनुमानित लक्ष्य रखा है। ऐसे में इस अनुमानित रकम को हासिल करने के लिए शेष समय में सरकार को मौजूदा राशि से दुगना राशि राजस्व के रूप में अर्जित करनी होगी। सितंबर का महीना सरकार के लिए डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण रहने…
मुंबई: कच्चे तेल (Crude Oil Soar) की कीमतों में आई जोरदार तेजी से देश की अर्थव्यवस्था (Crude Oil Impact on Indias GDP) को नुकसान पहुंचने की आशंका के चलते शेयर बाजार (Stock Market Crash) में भारी गिरावट देखने को मिली है| बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स (Sensex) 600 अंक गिरकर 36518 के स्तर पर आ गया है| वहीं, एनएसई के 50 शेयरों वाले प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी (Nifty) में 200 अंक की गिरावट आई है| यह 11 हजार के नीचे कारोबार कर रहा है| एक्सपर्ट्स का कहना है कि क्रूड में आए उछाल से भारतीय जीडीपी ग्रोथ पर निगेटिव असर होगा| इसीलिए विदेशी निवेशकों ने जमकर बिकवाली की है| इस गिरावट में निवेशकों के 2 लाख करोड़…
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि हाल में आए आर्थिक ग्रोथ के आंकड़े अनुमान से कमजोर हैं. बिज़नेस चैनल से बातचीत में उन्होंने बताया है कि 5 फीसदी जीडीपी ग्रोथ रेट उनके लिए सरप्राइज था. देश की आर्थिक ग्रोथ को बढ़ाने के लिए सरकार ने कई फैसले लिए हैं. FDI इनफ्लो पिछले साल से बेहतर है. आरबीआई गवर्नर का कहना है कि खाद्य महंगाई दर को लेकर कोई चिंता नहीं है. दाल, सब्जियों की कीमत को लेकर भी वो चिंतित नहीं है. सिर्फ शहरों में दूध अंडे की कीमतों में तेजी. खाद्य पदार्थों को लेकर शक्तिकांत दास ने कहा कि यह एक साल के लिए साइकलिक होता है. जीडीपी के आंकड़े अनुमान…
नई दिल्ली : भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का मानना है कि वृहत अर्थशास्त्र की अच्छी समझ रखने वाला व्यक्ति ही अर्थव्यवस्था को मौजूदा गिरावट से उबार सकता है। सरकार की आर्थिक नीतियों की प्राय: आलोचना करने वाले स्वामी की राय है, सरकार को आज संकट प्रबंधन के लिए अनुभवी राजनेताओं और पेशेवरों की टीम की जरूरत है। पेशेवेर ऐसे हों जिनके पास राजनीतिक की अच्छी समझ हो और भारतीय विचारों पर भरोसा करने वाले अर्थशास्त्री हों। साथ ही वे अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) तथा विश्वबैंक की लकीर के फकीर नहीं हो। उन्होंने अपनी पुस्तक ‘रिसेट: रिगेनिंग इंडियाज एकोनामिक लिगैसी’ में लिखा है, ‘अर्थव्यवस्था की जिम्मेदारी जिन्हें मिली है, उन्हें वास्तविकता का पता नहीं है। वे मीडिया को साधने तथा बातों में…
नई दिल्ली: यदि आप ICICI बैंक के ग्राहक हैं तो बैंक की तरफ से आपको एक झटका लग सकता है। ICICI बैंक ने ‘जीरो’ बैलेंस वाले खाता धारकों पर अपनी ब्रांच से नकद निकासी पर 100 से 125 रुपये का शुल्क वसूलेगी। बैंक की तरफ से यह शुल्क 16 अक्टूबर से प्रभावी हो जाएगा। बैंक की तरफ से यह शुल्क नकद जमा कराने पर भी लगेगा। यदि खाताधारक बैंक की नकद जमा मशीन से भी कैश जमा करवाता है तो उसे शुल्क का भुगतान करना होगा। शुक्रवार को ICICI बैंक की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि हम अपने ग्राहकों डिजिटल मोड में बैंकिंग करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहते हैं। इससे डिजिटल इंडिया के प्रयास को बढ़ावा…
वित्त मंत्री ने माना पटरी से उतरी हुई थी अर्थव्यवस्था, कहा- लाइन पर आ रही है  नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर आ रही है। नई दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वित्त मंत्री ने देश के आर्थिक हालात पर चर्चा की। सीतारमण ने सुस्त पड़ चुकी अर्थव्यवस्था में जान डालने के लिए कई एलान किए। इस दौरान उन्होंने कहा हमारा फोकस होम बॉयर्स और टैक्स रिफॉर्म पर है। सीतारमण ने टैक्‍सपेयर्स को बड़ी राहत देते हुए एलान किया कि ‘छोटे डिफॉल्‍ट में अब आपराधिक मुकदमा नहीं चलेगा। ऐसे टैक्‍स डिफॉल्‍टर्स पर कार्रवाई के लिए सीनियर अधिकारियों की मंजूरी जरूरी होगी जिनका टैक्स डिफॉल्‍ट 25 लाख रुपए होगा।’ उन्होंने…
नई दिल्ली: दिग्गज ऑटोमोबाइल कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा ने मौजूदा तिमाही में अपने वाहन कारखानों में आठ से 17 दिन तक उत्पादन बंद रखने की घोषणा की है। कंपनी ने शुक्रवार को कहा कि बिक्री का उत्पादन के साथ सामंजस्य रखने के लिए यह कदम उठा रही है। बता दें कि सरकार की कोशिशों के बावजूद वाहनों की बिक्री में कोई इजाफा नहीं हुआ है। डिमांड अभी भी कमजोर है और डीलर्स के पास काफी स्टॉक बचा हुआ है। इससे पहले कंपनी ने अगस्त में कहा था कि वह जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान अपने विभिन्न कारखानों में उत्पादन 8 से 14 दिन तक बंद करेगी। इसका मतलब यह है कि कंपनी ने अब कारखानों को अतिरिक्त तीन दिन बंद रखने…