Sun05262019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home कारोबार Displaying items by tag: hdfc
Displaying items by tag: hdfc - दिव्य इंडिया न्यूज़

नई दिल्ली: एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसिडेंट सिद्धार्थ सिंघवी बीती 5 सितंबर से लापता हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज कर लिया है. ANI के अनुसार, सिंघवी मुंबई स्थित कमला मिल्स के ऑफिस से 5 सितंबर से ही गायब हैं. सिंघवी की कार कोपर खैराने से 6 सितंबर को बरामद हुई थी. पुलिस ने गुमशुदगी का मामला एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन पर दर्ज कर लिया है. संदिग्ध स्थितियों में लापता हुए सिद्धार्थ की पत्नी ने 5 सितंबर को 10 बजे तक इंतजार किया. जब वह घर नहीं पहुंचे तो उन्होंने मामला दर्ज कराया. मालाबार हिल में परिवजनों के साथ रहने वाले सिद्धार्थ, उनकी पत्नी और 4 वर्षीय बच्चे के साथ रहते थे. सिद्धार्थ 5 सितंबर बुधवार को रात 8.30 बजे दफ्तर से निकले थे. जब 6 सितंबर को उनकी कार बरामद हुई थी उस खून के छीटे पड़े थे. इसके सैंपल को एसएफल भेज दिया गया. पुलिस को इस बात का शक है कि सिद्धार्थ के साथ कार में कोई और भी मौजूद था. पुलिस ने उनके फोन को ट्रेस किया, लेकिन उसका लोकेशन कमला मिल ही बता रहा है. पुलिस ने सिद्धार्थ के दोस्तों और परिजनों से पूछताछ की है. कार जहां बरामद हुई वह CCTV की मौजूदगी न होने से पुलिस को सही दिशा में जांच करने में परेशानी आ रही है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है.

Published in कारोबार

पटना: एचडीएफसी बैंक ने छात्रों को तुरंत और आसानी से शुल्क भुगतान की सुविधा देने के लिए बिहार में आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी के साथ समझौता किया है।

आज से इस विश्वविद्यालय से संबद्ध 60 से अधिक महाविद्यालयों के छात्र अपने घर पर ही आराम से परीक्षा शुल्क सहित 15 विभिन्न प्रकार के शुल्कों का सहज और समयबद्ध ढंग से भुगतान करने के लिए पेमेंट गेटवे का उपयोग कर सकेंगे।

आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी के साथ इस समझौते के तहत एचडीएफसी बैंक आरटीजीएसए एनईएफटी और इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के लिए अपना इलेक्ट्रॉनिक नकदी प्रबंधन प्लेटफॉर्म उपलब्ध करायेगा।

इस सेवा का औपचारिक शुभारंभ डॉ. अजय प्रताप सिंहए कुलसचिव . आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी, और संदीप कुमारए जोनल प्रमुख . बिहारए एचडीएफसी बैंकए मनोज कश्यप सीनियर वीपीए एचडीएफसी बैंक, और अन्य वरिष्ठ बैंक की उपस्थिति में किया गया। आर्यभट्ट बिहार का एकमात्र तकनीकी विश्वविद्यालय है जो राज्य में चिकित्सा विज्ञान अभियांत्रिकी नर्सिंग और बी एड महाविद्यालयों को संबद्धता प्रदान करता है।

यह पहल भारत के संपूर्ण सेवाओं वाले अग्रणी डिजिटल बैंक की ओर से तकनीक का सहारा लेकर ग्राहकों की सहूलियतए पहुँच और खुशी पर ध्यान दिये जाने की रणनीति का हिस्सा है। 

इनमें बायोमीट्रिक तकनीक के उपयोग से 30 मिनट में कागज रहित ऑटो लोन, नेटबैंकिंग पर 10 सेकेंड में पर्सनल लोनए पेजैपए चिल्लर और हाल में पेश एटीएम पर तत्काल ऋण शामिल हैं। यह सब एचडीएफसी बैंक के दमदार नेटबैंकिंग पोर्टल और आधिकारिक मोबाइल ऐप्प के अतिरिक्त है। ग्राहकों को नेटबैंकिंग पोर्टल पर 205 और ऐप्प पर 85 अलग.अलग तरह के लेनदेन करने की सुविधा मिलती है।

Published in कारोबार

लखनऊ: एचडीएफसी बैंक ने अटल पेंशन योजना के दूसरे चरण में अपने प्रदर्शन के लिए पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण की तरफ से प्रमुख पुरस्कार हासिल किये हैं। एचडीएफसी बैंक को अटल पेंशन योजना में सबसे अधिक लाभार्थी नामांकित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाले बैंक सहित तीन पुरस्कार मिले हैं।

 ये पुरस्कार हैं 

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाला बैंक . अधिकतम अटल पेंशन योजना लाभार्थी

निजी बैंकों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाला बैंक

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाला बैंक . निजी बैंकों में अटल पेंशन योजना महोत्सव (कार्निवाल)

दिल्ली में आयोजित एक समारोह में वित्त मंत्रालय के वित्तीय सेवा विभाग की विशेष सचिव सुश्री स्नेहलता श्रीवास्तव ने पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री हेमंत कॉन्ट्रैक्टर की मौजूदगी में एचडीएफसी बैंक के समावेशी बैंकिंग पहल के प्रमुख श्री विकास पांडे को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाला बैंक . अधिकतम अटल पेंशन योजना लाभार्थी पुरस्कार दिया। एचडीएफसी बैंक ने इस योजना के पहले चरण में भी निजी बैंकों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन बैंक का पुरस्कार जीता था। इस योजना का पहला चरण जून 2015 में और दूसरा चरण फरवरी 2016 में शुरू किया गया।

ये पुरस्कार असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों के लिए भारत सरकार की सामाजिक सुरक्षा पहल को बढ़ावा देने, जागरूकता पैदा करने और इस पहल से लोगों को जोड़ने में एचडीएफसी बैंक के योगदान को मान्यता देते हैं।

अटल पेंशन योजना भारत सरकार की सामाजिक सुरक्षा योजना है। इसकी घोषणा केंद्रीय बजट 2015-16 में की गयी और इसका आरंभ 9 मई 2015 को हुआ। इसका उद्देश्य कम आय वाले वर्गों और असंगठित क्षेत्र में काम रहे लोगों को सेवानिवृत्ति का ध्यान रखते हुए बचत के लिए प्रोत्साहित करना है।

Published in कारोबार

मुंबई: एचडीएफसी बैंक लिमिटेड ने आज मिस्ड कॉल मोबाइल रिचार्ज सेवा शुरू की। यह आपके प्रीपेड मोबाइल नंबर को टॉपअप करने का एक सामान्य मगर क्रांतिकारी मार्ग है। एचडीएफसी बैंक के उपभोक्ता अब बिना दुकान पर गये, बिना वेबसाइट पर लॉगिन किये या बिना कोई ऐप्प खोले, महज एक मिस्ड कॉल दे कर अपने मोबाइल को रिचार्ज कर सकेंगे। इसके अलावा उपभोक्ता इस मिस्ड कॉल मोबाइल रिचार्ज सेवा का लाभ देने के लिए अपने परिजनों या मित्रों को भी इससे जोड़ सकते हैं। 

इस सेवा से बैंक को अनुमानत: 90 करोड़ प्रीपेड मोबाइल उपभोक्ताओं अपने दायरे में लाने का अवसर मिलेगा। इसमें करीब 84 प्रतिशत स्मार्टफोन उपयोगकर्ता और 92 प्रतिशत  फूचर फोन उपयोगकर्ता शामिल हैं। भारत में 1 अरब से ज्यादा मोबाइल ग्राहक हैं। इस सुविधा का उपयोग करने के लिए डाटा प्लान की जरूरत नहीं है जो इस सुविधा को छोटे कस्बों और ग्रामीणों क्षेत्रों, जहाँ इंटरनेट कनेक्टिविटी कम है, में खास तौर पर उपयोगी बनाता है।

इस सेवा को सक्रिय करने के लिए उपभोक्ता बैंक में दर्ज मोबाइल नंबर से 7308080808 पर एक एसएमएस भेज सकते हैं। पूर्व-निर्धारित (डिफॉल्ट) रिचार्ज राशि 50 रुपये तय की गयी है लेकिन उपभोक्ता 10 रुपये से ले कर 250 रुपये तक के दायरे में अपनी पसंदीदा रिचार्ज राशि भी तय कर सकते हैं। अगली बार जब ग्राहक को रिचार्ज की जरूरत होगी, वह 7308080808 पर मिस्ड कॉल दे सकता है और तय राशि उसके मोबाइल नंबर के खाते में चली जायेगी। यह राशि ग्राहक के एचडीएफसी बैंक खाते से कट जायेगी। यह सेवा एक बार सक्रिय हो जाने पर इस सेवा का उपयोग किसी भी दूरसंचार सेवा प्रदाता के किसी भी फोन पर किया जा सकता है।

इसके अलावा एचडीएफसी बैंक के ग्राहक परिवार के सदस्यों और मित्रों को भी इस सेवा के लिए जोड़ सकते हैं और ग्राहक के अपने खाते से पैसा कटवा कर उन्हें मिस्ड कॉल के जरिये उनके मोबाइल रिचार्ज करने के लिए अधिकृत कर सकते हैं।

Published in कारोबार

श्री अरविंद सोसायटी के साथ की साझेदारी 

लखनऊ: एचडीएफसी बैंक ने उत्तर प्रदेश में चार लाख स्कूल शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए श्री अरविंद सोसायटी के साथ एक साझेदारी की है। न्यूनतम लागत के साथ नवोन्मेष पर विशेष ध्यान को दर्शाते हुए इस पहल को जीरो इन्वेस्टमेंट इनोवेशन इन एजुकेशन इनिशिएटिव का नाम दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार का प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा विभाग भी इस पहल में नजदीकी रूप से शामिल है और इसने जमीनी स्तर पर समन्वय एवं क्रियान्वयन में मदद करने के लिए श्री अरविंद सोसायटी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं।

इस कार्यक्रम में सरकार स्कूलों के चार लाख से अधिक शिक्षकों को सबसे पहले एक अवधारणा के रूप में श्नवोन्मेषश् से परिचित कराया जायेगाए और उसके बाद हर साल हजारों स्कूलों में शून्य निवेश वाले विचारों के कार्यान्वयन में सहयोग दिया जायेगा। यह अनुकूलन ;ओरिएंटेशनद्ध कार्यक्रम शिक्षकों को मौजूदा शिक्षा पाठ्यक्रम को समकालीन और प्रासंगिक बनाने के लिए आवश्यक परिवर्तनों के बारे में एक समग्र दृष्टिकोण देगा।

इस प्रयास के तहत राज्य के 1.7 लाख प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में से लिये गये शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगाए जिसका उद्देश्य 2 करोड़ से अधिक छात्रों की शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाना होगा। इनमें से 70 फीसदी छात्र ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं। यह अपनी तरह का पहला प्रयास हैए जो बैंक की ओर से अपने कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) कार्यक्रम के माध्यम से स्थानीय जनता के जीवन में सुधार लाने के लिए बैंक के निरंतर प्रयास का एक हिस्सा है। इसके पहले चरण में दो लाख से अधिक शिक्षकों को पहले ही प्रशिक्षित किया जा चुका हैए जिन्होंने 50,000 से अधिक नवोन्मेषी विचारों को सामने रखा है। इनमें से शीर्ष 25 विचारों का चयन करके राज्य भर में 40,000 स्कूलों में लागू किया जायेगा।

Published in कारोबार

मुंबई: एचडीएफसी बैंक लिमिटेड ने आज स्टार्ट-अप कंपनियों की सभी बैंकिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए अपनी तरह का पहला समाधान स्मार्टअप नाम से पेश किया। बैंक ने इसे मुंबई स्थित जोन स्टार्ट-अप्स इंडिया के साथ मिल कर शुरू किया है, जो एक स्टार्ट-अप एक्सेलरेटर है। स्मार्टअप को किसी स्टार्ट-अप कंपनी की बैंकिंग एवं भुगतान समाधान, सलाह और विदेशी मुद्रा सेवाओं से जुड़ी सारी जरूरतों को पूरा करने के अनुरूप बनाया गया है।

यह पहल स्टार्ट-अप के क्षेत्र में नवोन्मेष और उद्यम की भावना को प्रोत्साहित करने वाला परितंत्र विकसित करने के लिए एचडीएफसी बैंक की एक व्यापक कोशिश का एक हिस्सा है। जोन स्टार्टअप्स इंडिया का गठन बीएसई इंस्टीट्यूट (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की सहायक इकाई), रियरसन यूनिवर्सिटी के एक्सेलरेटर डिजिटल मीडिया जोन, रियरसन फ्यूचर्स इंक और साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी के बीच साझेदारी में हुआ है।

स्मार्टअप के फायदों में पहले 6 महीनों के लिए बिना न्यूनतम बैलेंस की आवश्यकता के बढ़ी   हुई लेन-देन सीमा, अपनी श्रेणी में सर्वोत्तम सुविधाओं और सबसे अधिक संख्या में उत्पादों के साथ अपनी जरूरतों के मुताबिक तैयार वेतन खाता (सैलरी एकाउंट),पेजैप व्यापार के लिए - जो उपलब्ध कराता है बिल (इन्वॉयस), आपूर्ति (डिलीवरी) और संग्रह का समाधान और सुरक्षित धन हस्तांतरण, सभी बैंकिंग जरूरतों और निवेश सलाह के लिए समर्पित रिलेशनशिप मैनेजर, टैक्स, नियामक और अनुपालन संबंधी मुद्दों के लिए चार्टर्ड एकाउंटेंट की सिफारिश, सभी विदेशी व्यापार और प्रेषण यानी विदेश से भुगतान पाने की सेवाओं के लिए नियामक दिशानिर्देशों एवं विशेष विनिमय दर को लेकर संपूर्ण समर्थन,स्मार्टबाय पर 3.2 करोड़ से अधिक एचडीएफसी बैंक उपभोक्ताओँ के लिए अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने का मौका शामिल हैं। 

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में आयोजित किये गये एक कार्यक्रम में एचडीएफसी बैंक के कंट्री हेड - शाखा बैंकिंग नवीन पुरी और निदेशक - जोन स्टार्टअप इंडिया अजय रामासुब्रमण्यम ने  स्मिता भगत, शाखा बैंकिंग प्रमुख - उत्तर एवं पश्चिम और सह-प्रमुख - ई-कॉमर्स, और पराग राव, कंट्री हेड - कार्ड भुगतान उत्पाद, मर्चेंट एक्वायरिंग सर्विसेज एवं मार्केटिंग, एचडीएफसी बैंक के साथ मिल कर स्टार्ट-अप्स का शुभारंभ किया।

Published in कारोबार

मुंबई: एचडीएफसी बैंक लिमिटेड मुंबई में 3, 4 मार्च, 2016 को एक डिजिटल इनोवेशन सम्मिट आयोजित कर रहा है। यह देश के बीएफएसआई क्षेत्र में होने वाला अपनी तरह का पहला खास कार्यक्रम है। इसमें निर्णायक समिति आने वाले दो दिनों में 30 चयनित स्टार्ट अप की ओर से पेश सर्वोत्तम समाधानों का चुनाव करेगी। इन 30 स्टार्ट अप को 100 से ज्यादा प्रविष्टियों में से चुना गया है।

विजेताओं को अपने समाधान एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों के लिए पेश करने का मौका दिया जायेगा। निर्णायक समिति में एचडीएफसी बैंक का वरिष्ठ प्रबंधन शामिल है। वित्तीय प्रौद्योगिकी (फिनटेक) क्षेत्र की स्टार्ट अप कंपनियों से इन 6 श्रेणियों में प्रविष्टियाँ आमंत्रित की गयी थीं  कुल मिला कर 100 से ज्यादा प्रविष्टियों का मूल्यांकन किया गयाए जिनमें से सर्वोत्तम 30 को चुना गया। 

यह पहल भारत के संपूर्ण सेवाओं वाले अग्रणी डिजिटल बैंक की ओर से तकनीक का सहारा लेकर ग्राहकों की सहूलियतए पहुँच और खुशी पर ध्यान दिये जाने की रणनीति का हिस्सा है। इसी के तहत बैंक ने 2014 में श्गो डिजिटलश् अभियान आरंभ कर श्बैंक आप की मुट्ठी मेंश् की पेशकश करने के बाद से बहुत.से नये और बेहद सफल डिजिटल बैंकिंग उत्पादों की शुरुआत की है।

इनमें बायोमीट्रिक तकनीक के उपयोग से 30 मिनट में कागज रहित ऑटो लोन, नेटबैंकिंग पर 10 सेकेंड में पर्सनल लोन, पेजैप, चिल्लर और हाल में पेश एटीएम पर तत्काल ऋण शामिल हैं। यह सब एचडीएफसी बैंक के दमदार नेटबैंकिंग पोर्टल और आधिकारिक मोबाइल ऐप्प के अतिरिक्त है। ग्राहकों को नेटबैंकिंग पोर्टल पर 205 और ऐप्प पर 85 अलग.अलग तरह के लेनदेन करने की सुविधा मिलती है।

इन नवोन्मेषों को पिछले महीने प्रतिष्ठित आईबीए बैंकिंग टेक्नोलॉजी अवार्ड्स में भी सराहा गया। एचडीएफसी बैंक ने आईबीए अवार्ड्स में बड़े बैंकों की श्रेणी में टेक्नोलॉजी बैंक ऑफ द ईयरए बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल ऐंड चैनल्स टेक्नोलॉजी और बेस्ट पेमेंट इनिशिएटिव्स के पुरस्कार हासिल किये।

इन डिजिटल प्रयासों के अलावा एचडीएफसी बैंक अपने राष्ट्रीय वितरण नेटवर्क के माध्यम से भी लोगों तक पहुँच बना रहा है।

Published in कारोबार

मुंबई:  एचडीएफसी बैंक के देशव्यापी रक्तदान अभियान मैं 930 शहरों और कस्बों में 2,000 से अधिक केंद्रों में बड़ी संख्या में लोगों ने रक्तदान रक्तदान किया। इस अभियान में तकनीकी सहायता देने के लिए बैंक ने प्रमुख अस्पतालों और ब्लड बैंकों के साथ समन्वय किया था। 

जीवन के हर क्षेत्र के लोगों ने आगे आकर इस अभियान में रक्तदान कियाए जिनमें बैंक कर्मचारीए ग्राहक, कंपनियों के अधिकारी और कॉलेजों के छात्र शामिल थे। एचडीएफसी बैंक के शीर्ष प्रबंधन में से कई लोग आज सबसे पहले रक्तदान करने वालों में शामिल रहे। 

इस साल एचडीएफसी बैंक ने कंपनियों से भी संपर्क किया और उनके परिसरों में रक्तदान शिविरों का आयोजन किया। इस पहल में 200 से अधिक कंपनियों ने सहभागिता कीए जिनमें भारतीय उद्योग जगत के कुछ सबसे बड़े नाम भी शामिल हैं। पिछले तीन वर्षों में देश के युवाओं से मिली बेहद उत्साहजनक प्रतिक्रिया से उत्साहित हो कर एचडीएफसी बैंक ने इस साल सहभागी कॉलेजों की संख्या बढ़ा कर 750 से अधिक कर दी। एचडीएफसी बैंक के रक्तदान अभियान में हिस्सा लेने वाले कॉलेज छात्रों की संख्या 2012 के 20,507 से बढ़ कर 2013 में 41,304 और 2014 में 67,871 हो गयी थी।

एचडीएफसी बैंक के कंट्री हेड.ऑपरेशंसए भावेश जवेरी ने कहा 'सामाजिक रूप से जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक के रूप में हम रक्त की माँग और आपूर्ति के बीच के अंतर को कम करना चाहते हैं। यह जीवन.रक्षा करने वाला ऐसा संसाधन है जिसका कोई विकल्प नहीं है'। 

Published in कारोबार

मुंबई: एचडीएफसी बैंक 11 दिसंबर को देश भर में रक्तदान अभियान का आयोजन करेगा। बैंक देश भर के 930 शहरों और कस्बों में 2,000 से अधिक केंद्रों में रक्तदान शिविरों की स्थापना करेगा। इस साल से एचडीएफसी बैंक कंपनियों के पास भी जा रहा है और उनके परिसरों में रक्तदान शिविर लगा रहा है। इस पहल में 200 से अधिक कंपनियों ने सहभागिता की है, जिनमें भारतीय उद्योग जगत के कुछ सबसे बड़े नाम भी शामिल हैं।

एचडीएफसी बैंक तीन साल से कॉलेज परिसरों में भी रक्तदान शिविरों की स्थापना करता रहा है। कॉलेजों में युवाओं की सकारात्मक प्रतिक्रिया से उत्साहित हो कर एचडीएफसी बैंक इस साल 750 से अधिक कॉलेज परिसरों में रक्तदान शिविरों का आयोजन करेगा। एचडीएफसी बैंक के रक्तदान अभियान में हिस्सा लेने वाले कॉलेज छात्रों की संख्या 2012 के 20,507 से बढ़ कर 2013 में 41,304 और 2014 में 67,871 हो गयी थी।

बैंक ने इस अभियान में तकनीकी सहायता के लिए 2000 से अधिक स्थानों पर स्थानीय अस्पतालों और और ब्लड बैंकों से तालमेल किया है।

Published in कारोबार

मुंबई: एसडीएफसी बैंक ने आज एटीएमए फोन बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग ऐप्लिकेशन और वेबसाइट जैसे विभिन्न माध्यमों पर उपयोग के लिए अपना सोनिक ब्राडिंग (म्यूज़िकल लोगो) पेश किया। इसका मकसद संगीत के उपयोग से एक अलग तरह की ब्रांड पहचान बनाना है। 

म्यूजिकल लोगो ब्रांड की संगीतमय कल्पना पेश करता है, जो मौजूदा दौर के क्रमिक विकास और उनके अनुसार बदलाव के अनुरूप है, जबकि परिचालन उत्कृष्टता, ग्राहकों पर ध्यान, उत्पाद में अग्रणी, लोग और दीर्घकालिकता जैसे ब्रांड के बुनियादी मूल्य यथावत हैं जो वक्त की कसौटी पर खरे उतरे हैं।

मोगोस्केप राग बिलावल और राग शुद्ध कल्याण से प्रेरित है। जहाँ राग बिलावल एचडीएफसी बैंक के नवोन्मेष और गतिशीलता को दर्शाता हैए वहीं राग शुद्ध कल्याण बैंक के मानवीय और आपकी परवाह करने वाले स्वरूप को प्रस्तुत करता है। मोगोस्केप में पियानो और गिटार जैसे सामयिक पश्चिमी वाद्य यंत्रों की सितार के साथ बेहतरीन जुगलबंदी की गयी हैए जिससे यह वैश्विक आकाक्षांओं और भारतीय जड़ों का अद्भुत मिश्रण बन जाता है।

तीन महीने लंबा यह अभियान बैंक के प्रमुख उत्पादों और पेशकशों पर रोशनी डालता है, जिसमें इंस्टैंट एकाउंट, वन क्लिक पेमेंट, 10.सेकेंड्स लोन, क्विक इन्वेस्टमेंट्स जैसे उत्पाद और पेशकशें शामिल हैं, जिसमें ग्राहकों को बैंक की शाखाओं में जाने और कागजी कार्यवाही जैसी कवायदों की जरूरत नहीं है और वे अपने मोबाइल फोन और इंटरनेट के इस्तेमाल से डिजिटल तरीके से इन सुविधाओं का उपयोग कर समय की बचत कर सकते हैं। 

Published in कारोबार
Page 1 of 3