Fri08232019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home देश Displaying items by tag: modi
Displaying items by tag: modi - दिव्य इंडिया न्यूज़

अमरनाथ यात्रा को लेकर पर जारी स्पेशल एडवायजरी पर भड़कीं महबूबा मुफ्ती

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती अमरनाथ यात्रा को लेकर जारी की गई स्पेशल एडवायजरी पर बुरी तरह भड़की हैं। उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या नरेंद्र मोदी सरकार को सिर्फ अमरनाथ यात्रियों की चिंता है, क्या उनके लिए कश्मीरी और उनकी परेशानियां मायने नहीं रखती हैं?

दरअसल, शुक्रवार (दो अगस्त, 2019) को भारतीय सेना ने खुलासा किया कि इस बार की अमरनाथ यात्रा आतंकियों के निशाने पर थी। हालांकि, अच्छी बात रही कि सेना उनकी इस मंशा को नाकाम करते हुए एक पाकिस्तानी आतंकी को धर दबोचा है। साथ ही टेलीस्कोप लगी अमेरिकन स्नाइपर राइफल और नक्शा भी बरामद किया गया है।

इसी बीच, सरकार ने अमरनाथ यात्रा को लेकर एडवायजरी जारी की सभी श्रद्धालु जल्द से जल्द घाटी छोड़ दें। इसी पर टेलीविजन पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट किया था- सरकार ने आतंकी साजिश के मद्देनजर श्रद्धालुओं से इलाका छोड़ने के लिए कहा। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अर्थव्यवस्था के मसले पर ‘असल’ चेतावनी फिर से ऐसी ही सनसनीखेज खबरों के बीच गुम हो जाएगी।

पीडीपी चीफ ने इसी पर रीट्वीट में लिखा- अर्थव्यवस्था लगातार गिरती जा रही है, पर मुझे उम्मीद है कि हमेशा की तरह कश्मीरी आम लोगों को असल मुद्दों से भटकाने के लिए नहीं इस्तेमाल किए जा सकेंगे। ऐसे फैसलों के आपत्तिजनक नतीजे होंगे और वे कश्मीरियों को किनारे पर धकेल देंगे।

उन्होंने आगे एक और ट्वीट में कहा, “आप (सरकार) मुस्लिम बहुल एक भी राज्य का दिल नहीं जीत पाए, जिसने धार्मिक आधार पर विभाजन को नकारा और घर्मनिरपेक्ष देश को चुना।” वह आगे बोलीं- श्रीनगर की सड़कों पर अराजकता देखने को मिल रही है। लोग एटीएम, पेट्रोल पंप की ओर भाग रहे हैं और जरूरी सामग्रियों का स्टॉक जुटा रहे हैं। क्या भारत सरकार को सिर्फ यात्रियों (अमरनाथ) की सुरक्षा की चिंता है, जबकि कश्मीरियों को खुद के भरोसे छोड़ दिया गया है?

Published in देश

नई दिल्ली: संसद ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी। विधेयक में तीन तलाक का अपराध सिद्ध होने पर संबंधित पति को तीन साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है। तीन तलाक बिल पास होने के बाद पीएम मोदी ने अपनी पहली प्रतिक्रिया दी। पीएम मोदी ने बिल पास होने के बाद कहा कि तीन तलाक बिल पास होना लैंगिक न्याय की जीत है। इससे समाज में समानता आएगी। यह भाररत के लिए खुशी का दिन है। 

पीएम मोदी ने तीन तलाक बिल पर कई ट्वीट किए। उन्होंने ट्वीट किया- 'पूरे देश के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है। आज करोड़ों मुस्लिम माताओं-बहनों की जीत हुई है और उन्हें सम्मान से जीने का हक मिला है। सदियों से तीन तलाक की कुप्रथा से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को आज न्याय मिला है। इस ऐतिहासिक मौके पर मैं सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूं।"

Published in देश

नई दिल्ली: संसद ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी। विधेयक में तीन तलाक का अपराध सिद्ध होने पर संबंधित पति को तीन साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है। तीन तलाक बिल पास होने के बाद पीएम मोदी ने अपनी पहली प्रतिक्रिया दी। पीएम मोदी ने बिल पास होने के बाद कहा कि तीन तलाक बिल पास होना लैंगिक न्याय की जीत है। इससे समाज में समानता आएगी। यह भाररत के लिए खुशी का दिन है। 

पीएम मोदी ने तीन तलाक बिल पर कई ट्वीट किए। उन्होंने ट्वीट किया- 'पूरे देश के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है। आज करोड़ों मुस्लिम माताओं-बहनों की जीत हुई है और उन्हें सम्मान से जीने का हक मिला है। सदियों से तीन तलाक की कुप्रथा से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को आज न्याय मिला है। इस ऐतिहासिक मौके पर मैं सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूं।"

Published in देश

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेकर पर लिखी गई पुस्तक का विमोचन किया। उन्होंने इस मौके पर कहा कि मैं पहली बार चंद्रशेखर जी से 1977 में मिला था। मैं उनसे दिल्ली एयरपोर्ट पर मिला था जब मैं भैरों सिंह शेखावत जी के साथ यात्रा कर रहा था। दोनों नेता अपनी अलग राजनीतिक विचारधाराओं के बावजूद अच्छे मित्र की तरह एक दूसरे के करीब थे। साथ ही उन्होंने कहा कि देश की सेवा करने वाले सभी पूर्व प्रधानमंत्रियों के लिए एक म्यूजियम बनाया जाएगा। उन्होंने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनकी यादों को एक रणनीति के तहत मिटाने का प्रयास किया गया। लेकिन अब मैंने फैसला किया है कि दिल्ली में सभी पूर्व प्रधानमंत्रियों को समर्पित म्यूजियम स्थापित किया जाएगा। मैं पूर्व प्रधानमंत्रियों के जीवन के पहलुओं को साझा करने के लिए उनके परिवार के सदस्यों को आमंत्रित करता हूं। चाहे वे आईके गुजराल जी, चरण सिंह जी, देवेगौड़ा जी और डॉ. मनमोहन सिंह जी हों।

Published in देश

नई दिल्ली: बीजेपी सांसदों की बैठक मंगलवार को संसद के लाइब्रेरी में संपन्न हुई। उस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह समेत सभी मंत्री और सांसद मौजूद रहे। पीएम मोदी ने इस बात पर हैरानी और नाराजगी जताई कि मंत्री और सांसद संसद की कार्यवाही में क्यों नहीं शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो मंत्री रोस्टर के हिसाब से संसद में मौजूद नहीं हो रहे हैं उनके बारे में जानकारी दी जाए। पीएम मोदी ने कहा कि मंत्री या सांसद अपनी जिम्मेदारी से कैसे भाग सकते हैं। 

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मंत्रियों और सांसदों को जनता ने बड़ी जिम्मेदारी दी है और उसे आप सब लोगों को समझना होगा। सांसदों को जनता के बीच में रहने की जरूरत है ताकि वो सरकार की योजनाओं को आम लोगों के साथ साझा कर सकें। इस संबंध में मंत्री हों या सांसद किसी की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 

जानकारों का कहना है कि हाल ही में पीएम को इस बात की शिकायत मिली थी कि मंत्री और सांसद सदन की कार्यवाही से गैरहाजिर रहते हैं। इस तरह की लापरवाही की वजह से सरकार को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा है। लोकसभा में तीन तलाक बिल पर चर्चा के दौरान सांसदों की गैरमौजूदगी को खास मुद्दा बनाया गया। 

Published in देश

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसदों को अपने निर्वाचन क्षेत्रों में 'पदयात्रा' निकालने के लिए कहा है। इस 'पदयात्रा' के दौरान सांसदों को प्रत्येक बूथ के वरिष्ठ नागरिकों के साथ बातचीत और ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर महात्मा गांधी के विचारों को प्रचारित करना होगा। ये 'पदयात्राएं' गांधी जयंती दो अक्टूबर और सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर के बीच निकाली जाएंगी। प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को संसद भवन स्थित लाइब्रेरी भवन में पार्टी की बैठक को संबोधित करते हुए सांसदों को 'पदयात्राएं' निकालने के निर्देश दिए। 

इस बैठक के बाद संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने मीडिया से बातचीत में कहा, 'प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में अत्यंत महत्वपूर्ण कार्यक्रम 'गांधी 150' का जिक्र किया। इस साल महात्मा गांधी की 150वीं जयंती है। दो अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच सांसदों के लोकसभा क्षेत्रों में 150 किलोमीटर लंबी पदयात्रा निकाली जाएगी।' संसदीय कार्यमंत्री ने बताया कि राज्यसभा के सांसदों के बीच भी निर्वाचन क्षेत्र का बंटवारा किया जाएगा।

जोशी ने आगे कहा, 'पदयात्रा के लिए प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में कम से कम 15 से 20 टीमें बनाई जाएंगी। ये टीमें रोजाना 15 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगी। सांसदों से गांधी जी, स्वतंत्रता संग्राम पर कार्यक्रम आयोजित करने और पौधारोपण अभियान की शुरुआत करने के लिए कहा गया है।' मंत्री ने कहा कि इन यात्राओं का उद्देश्य गांवों को नए सिरे से खड़ा करना और उन्हें स्वावलंबी बनाना है। इस बैठक में मौजूद भाजपा के एक नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों से प्रत्येक बूथ पर स्थानीय लोगों से बातचीत करने और इस कार्यक्रम को राजनीति से दूर रखने के लिए कहा है। प्रधानमंत्री का कहना है कि इन कार्यक्रमों के जरिए हमें महात्मा गांधी के संदेशों को लोगों तक पहुंचाने का अवसर मिला है। 

बता दें कि पहली बार 2014 में सत्ता में आने के बाद पीएम मोदी ने महात्मा गांधी के 150वीं जयंती को ध्यान में रखते हुए 'स्वच्छता अभियान' की शुरुआत की। पीएम ने कहा कि गांधी जी को स्वच्छता बहुत पसंद थी और उनके जयंती के मौके पर देश यदि गदंगी मुक्त हो जाता है तो इससे बढ़कर और कोई तोहफा महात्मा गांधी के लिए नहीं हो सकता। 'स्वच्छता' अभियान को रफ्तार देने के लिए पीएम ने खुद झाड़ू उठाई और दिल्ली सहित अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सफाई अभियान में हिस्सा लिया। इसका असर यह हुआ कि भाजपा के अलावा विपक्ष के नेता भी सफाई अभियान में शरीक हुए और लोगों के बीच सफाई- स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ी।

Published in देश

ओसाका : प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ बैठक की। इस दौरान दोनों नेताओं ने प्रौद्योगिकी की ताकत के इस्तेमाल, रक्षा और सुरक्षा संबंधों को बेहतर बनाने के साथ-साथ व्यापार, ईरान और 5जी से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की।

जी-20 सम्मेलन के लिए जापान आए प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप को एक पत्र के जरिए 'भारत के प्रति अपना प्यार' जताने के लिए धन्यवाद दिया। यह पत्र अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस सप्ताह अमेरिका के विदेशी मंत्री माइक पोम्पिओ के जरिए भारत भेजा था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत, अमेरिका के साथ आर्थिक एवं सांस्कृतिक संबंधों को और मजबूत बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है। दोनों नेताओं ने जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ईरान, 5जी, द्विपक्षीय रिश्तों और रक्षा संबंधों पर चर्चा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ बैठक की। इस दौरान दोनों नेताओं ने प्रौद्योगिकी की ताकत के इस्तेमाल, रक्षा और सुरक्षा संबंधों को बेहतर बनाने के साथ-साथ व्यापार, ईरान और 5जी से जुड़े मुद्दों पर चर्चा

पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि राष्ट्रपति ट्रंप के साथ व्यापक मुद्दों पर चर्चा हुई। हमने प्रौद्योगिकी की शक्ति के इस्तेमाल के उपायों, रक्षा और सुरक्षा संबंधों को बेहतर बनाने के साथ-साथ व्यापार से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने लिखा, ''भारत, अमेरिका के साथ आर्थिक एवं सांस्कृतिक संबंधों को और मजबूत बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है।''

ट्रंप ने चुनाव में जीत को लेकर मोदी को बधाई दी और कहा कि दोनों देश सैन्य सहित विभिन्न क्षेत्रों में साथ काम करेंगे। ट्रंप ने कहा, ''वह शानदार जीत थी, आप इसके हकदार थे, आपने शानदार काम किया है। हमें बहुत अहम चीजों की घोषणा करनी है। व्यापार के संदर्भ में, विनिर्माण के संदर्भ में, हम 5जी पर चर्चा करेंगे। मैं आपको बधाई देता हूं और बातचीत को लेकर सकारात्मक हूं।''

उन्होंने आगे कहा, ''हम बहुत अच्छे दोस्त बन गए हैं और हमारे देश कभी इतने करीब नहीं रहे हैं। मैं इसे आश्वस्त होकर कहता हूं। हम सैन्य सहित अन्य क्षेत्रों में मिलकर काम करेंगे। हम आज व्यापार पर चर्चा करेंगे।'' ईरान को लेकर ट्रंप ने कहा, ''हमारे पास बहुत समय है। कोई जल्दबाजी नहीं है, वे समय ले सकते हैं। समय को लेकर किसी तरह का दबाव नहीं है।''

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर जानकारी दी, ''प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर चर्चा की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय एवं वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की।'' जापान-अमेरिका-भारत (जय) के बीच त्रिपक्षीय वार्ता के समाप्त होने के तुरंत बाद मोदी और ट्रंप ने द्विपक्षीय बैठक की।

मोदी-ट्रंप की बैठक इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण है क्योंकि अमेरिकी उत्पादों पर "अत्यधिक उच्च" शुल्क लगाने के भारत के निर्णय की अमेरिकी राष्ट्रपति खुलकर आलोचना करते रहे हैं। ट्रंप ने इससे पहले गुरुवार को जापान पहुंचने पर ट्वीट किया था, ''मैं पीएम मोदी से इस संबंध में बात करना चाहता हूं कि भारत ने वर्षों से अमेरिका के खिलाफ ज्यादा शुल्क लगा रखा है और हाल के दिनों में उसे और बढ़ा दिया गया है। यह अस्वीकार्य है और शुल्क को निश्चित रूप से वापस लिया जाना चाहिए।" भाजपा के हाल ही में संसदीय चुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के बाद मोदी की ट्रंप से यह पहली मुलाकात है।

Published in दुनिया

नई दिल्ली: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया का सबसे ताकतवर नेता चुना गया है। ब्रिटिश हेराल्ड के पाठकों ने वर्ल्ड मोस्ट पावरफुल पर्सन 2019 के लिए किए पोल में नरेंद्र मोदी को सबसे अधिक वोट किया। पीएम मोदी ने इस पोल दुनिया के सबसे ताकतवर देश माने जाने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ ही रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को भी पीछे छोड़ दिया। सर्वे में दुनिया के ताकतवर नेता बनने की सूची में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी शामिल थे। इस पोल में 30.9 फीसदी रीडर्स ने पीएम मोदी के पक्ष में मतदान किया। वहीं रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को 29 फीसदी लोगों ने वोट किया। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 21.9 फीसदी वोट के साथ इस सूची में तीसरे स्थान पर रहे। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को 18.1 फीसदी वोट के साथ सूची में चौथे स्थान पर संतोष करना पड़ा। इस पोल में दुनिया के 25 वर्ल्ड आइकन को शामिल किया गया था। एक्सपर्ट के पैनल ने आखिरकार अंतिम चार नामों का चयन किया। चयन प्रक्रिया के लिए इस मूल्यांकन में सभी आंकड़ों के लेकर गहन शोध और अध्ययन किया गया। नियमित वोटिंग सिस्टम के विपरीत ब्रिटिश रीडर्स को ओटीपी के जरिये वोट करना था। वोटिंग शुरू होने के दौरान एक सप्ताह में 30 लाख लोगों ने वेबसाइट पर हिट किया। पूरे उत्साह से अपने पसंदीदा नेता को वोट करने के क्रम में लोगों के अधिक हिट की वजह से वेबसाइट क्रैश भी हो गई। वेबसाइट का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘नमो’ के रूप में बड़े ब्रांड बन चुके हैं। लोकसभा चुनाव में उनकी जबरदस्त जीत ने उनके मजबूत नेतृत्व के साथ लोगों में उनके विश्वास को मजबूत किया है। एशिया के बड़े नेता के रूप में उभरेः पीएम नरेंद्र मोदी अपनी एक्ट ईस्ट नीति के कारण एशिया क्षेत्र में एक बड़े नेता के रूप में उभरे हैं। जलवायु परिवर्तन को लेकर पीएम मोदी की पहल को दुनिया ने सकारात्मक रूप में लिया है। ब्रिटिश हेराल्ड मैगजीन 15 जुलाई 2019 को पीएम मोदी को अपने कवर पेज पर छापेगी। ब्रिटिश हेराल्ड की तरफ से मैगजीन का कवर पेज भी रिलीज किया गया।

Published in देश

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को अपने संसदीय दल की कार्यकारिणी का गठन किया। लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसके नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उपनेता होंगे। राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा का दलित चेहरा, थावरचंद गहलोत को सदन का नेता जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी पीयूष गोयल को उपनेता नियुक्त किया गया है। गहलोत राज्यसभा में भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के स्थान पर सदन के नेता बने हैं। जेटली ने पार्टी नेतृत्व से अनुरोध किया था कि उनके स्वास्थ्य के मद्देनजर उन्हें प्रमुख पदों से मुक्त किया जाए। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी समिति में एक विशेष आमंत्रित के तौर पर शामिल किया जाना पार्टी में उनका कद बढ़ने को दिखाता है। लोकसभा चुनाव में ईरानी ने अमेठी सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराया था। भाजपा ने संजय जायसवाल को लोकसभा में मुख्य सचेतक नियुक्त किया है। यह पहली बार है जब पार्टी ने तीन महिला सांसदों को विशेष तौर पर महिला सांसदों के लिए सचेतक नियुक्त किया है। इन तीन महिला सचेतकों के अलावा अलग-अलग राज्यों से सांसदों के लिए 15 अन्य सचेतक भी नियुक्त किये गए हैं। लोकसभा में पार्टी के सांसदों की संख्या बढ़कर 303 हो गई है। लोकसभा से भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी समिति में अन्य विशेष आमंत्रितों में नितिन गडकरी, रविशंकर प्रसाद, अर्जुन मुंडा, नरेंद्र सिंह तोमर और जुएल उरांव शामिल हैं। भाजपा ने ऊपरी सदन के लिए छह सचेतक नियुक्त किये हैं जहां 70 सदस्यों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी है। राज्यसभा से कार्यकारिणी में विशेष आमंत्रितों में जे पी नड्डा, ओम प्रकाश माथुर, निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावडेकर शामिल हैं। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को पार्टी के संसदीय कार्यालय का फिर से प्रभारी और बाला सुब्रह्मण्यम कामर्सु को संसदीय दल कार्यालय का सचिव नियुक्त किया गया है। नवगठित भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी पार्टी में पीढ़ीगत बदलाव को दिखाती है क्योंकि शायद पहली बार लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी उसका हिस्सा नहीं हैं। दोनों अब सांसद नहीं हैं। उनके अलावा वरिष्ठ नेता अरूण जेटली और सुषमा स्वराज भी उसके सदस्य नहीं हैं। कार्यकारिणी की पहली बैठक संसद का सत्र शुरू होने से एक दिन पहले 16 जून को अपराह्न साढ़े तीन बजे होगी। सरकार ने उसी दिन सुबह में एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है जिसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री करेंगे।

Published in देश

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में शामिल होने के लिए पाकिस्तान के वायु क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करेंगे। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री का विमान ओमान के रास्ते किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक जाएगा। बिश्केक में एससीओ की बैठक 13-14 जून को होनी है और भारत को इस बैठक में हिस्सा लेना है। पाकिस्तान ने पीएम मोदी के विमान के लिए अपने वायु क्षेत्र का इस्तेमाल करने की अनुमति दी थी लेकिन शीर्ष स्तर पर हुई बैठक के बाद भारत ने उसके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल न करने का फैसला किया है। यह पाकिस्तान के लिए एक और झटका है। भारत पहले ही उसकी बातचीत की पेशकश को ठुकरा चुका है। भारत का कहना है कि पाकिस्तान जब तक आतंकवाद पर पूरी तरह रोक नहीं लगाता तब तक उसके साथ बातचीत नहीं हो सकती। सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी का विमान ओमान, ईरान और मध्य एशिया के वायु क्षेत्र से होते हुए बिश्केक जाएगा। बता दें कि पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी के विमान के लिए अपना वायु क्षेत्र खोलने की बात कही है लेकिन शीर्ष स्तर पर हुई बैठक में फैसला हुआ है कि पीएम मोदी का विमान पाकिस्तान के रास्ते बिश्केक नहीं जाएगा। पाकिस्तान के साथ किसी तरह की बातचीत से भारत पहले ही इंकार कर चुका है। अब उसके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करने के फैसले से उसे एक और झटका लगा है। भारत सरकार ने अपने इस फैसले से जाहिर कर दिया है कि वह पाकिस्तान से किसी तरह का एहसान लेने नहीं जा रही है। भारत ने स्पष्ट कहा है कि 'अपना वायु क्षेत्र खोलने के लिए आपका धन्यवाद! लेकिन हम आपके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल करने नहीं जा रहे।' जाहिर है कि एससीओ बैठक के दौरान भारत पाकिस्तान को कोई तरजीह देने नहीं जा रहा। इस बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शामिल होंगे। विदेश मंत्रालय पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि इस सम्मेलन के दौरान दोनों देशों के बीच कोई बैठक प्रस्तावित नहीं है। इससे पहले भारत ने पीएम मोदी के विमान के लिए अपना वायु क्षेत्र खोलने के लिए पाकिस्तान से अनुरोध किया था। भारत के इस अनुरोध पर पाकिस्तान ने अपना वायु क्षेत्र खोलने की बात कही थी। बता दें कि गत 26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण केंद्र पर भारतीय वायु सेना के एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपना वायु क्षेत्र पूरी तरह से बंद कर दिया था। बाद में उसने दक्षिणी क्षेत्र के अपने दो वायु मार्गों को खोला।

Published in देश
Page 1 of 32