Tue06182019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home देश Displaying items by tag: modi
Displaying items by tag: modi - दिव्य इंडिया न्यूज़

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को अपने संसदीय दल की कार्यकारिणी का गठन किया। लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसके नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उपनेता होंगे। राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा का दलित चेहरा, थावरचंद गहलोत को सदन का नेता जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी पीयूष गोयल को उपनेता नियुक्त किया गया है। गहलोत राज्यसभा में भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के स्थान पर सदन के नेता बने हैं। जेटली ने पार्टी नेतृत्व से अनुरोध किया था कि उनके स्वास्थ्य के मद्देनजर उन्हें प्रमुख पदों से मुक्त किया जाए। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी समिति में एक विशेष आमंत्रित के तौर पर शामिल किया जाना पार्टी में उनका कद बढ़ने को दिखाता है। लोकसभा चुनाव में ईरानी ने अमेठी सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराया था। भाजपा ने संजय जायसवाल को लोकसभा में मुख्य सचेतक नियुक्त किया है। यह पहली बार है जब पार्टी ने तीन महिला सांसदों को विशेष तौर पर महिला सांसदों के लिए सचेतक नियुक्त किया है। इन तीन महिला सचेतकों के अलावा अलग-अलग राज्यों से सांसदों के लिए 15 अन्य सचेतक भी नियुक्त किये गए हैं। लोकसभा में पार्टी के सांसदों की संख्या बढ़कर 303 हो गई है। लोकसभा से भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी समिति में अन्य विशेष आमंत्रितों में नितिन गडकरी, रविशंकर प्रसाद, अर्जुन मुंडा, नरेंद्र सिंह तोमर और जुएल उरांव शामिल हैं। भाजपा ने ऊपरी सदन के लिए छह सचेतक नियुक्त किये हैं जहां 70 सदस्यों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी है। राज्यसभा से कार्यकारिणी में विशेष आमंत्रितों में जे पी नड्डा, ओम प्रकाश माथुर, निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावडेकर शामिल हैं। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को पार्टी के संसदीय कार्यालय का फिर से प्रभारी और बाला सुब्रह्मण्यम कामर्सु को संसदीय दल कार्यालय का सचिव नियुक्त किया गया है। नवगठित भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी पार्टी में पीढ़ीगत बदलाव को दिखाती है क्योंकि शायद पहली बार लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी उसका हिस्सा नहीं हैं। दोनों अब सांसद नहीं हैं। उनके अलावा वरिष्ठ नेता अरूण जेटली और सुषमा स्वराज भी उसके सदस्य नहीं हैं। कार्यकारिणी की पहली बैठक संसद का सत्र शुरू होने से एक दिन पहले 16 जून को अपराह्न साढ़े तीन बजे होगी। सरकार ने उसी दिन सुबह में एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है जिसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री करेंगे।

Published in देश

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में शामिल होने के लिए पाकिस्तान के वायु क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करेंगे। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री का विमान ओमान के रास्ते किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक जाएगा। बिश्केक में एससीओ की बैठक 13-14 जून को होनी है और भारत को इस बैठक में हिस्सा लेना है। पाकिस्तान ने पीएम मोदी के विमान के लिए अपने वायु क्षेत्र का इस्तेमाल करने की अनुमति दी थी लेकिन शीर्ष स्तर पर हुई बैठक के बाद भारत ने उसके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल न करने का फैसला किया है। यह पाकिस्तान के लिए एक और झटका है। भारत पहले ही उसकी बातचीत की पेशकश को ठुकरा चुका है। भारत का कहना है कि पाकिस्तान जब तक आतंकवाद पर पूरी तरह रोक नहीं लगाता तब तक उसके साथ बातचीत नहीं हो सकती। सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी का विमान ओमान, ईरान और मध्य एशिया के वायु क्षेत्र से होते हुए बिश्केक जाएगा। बता दें कि पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी के विमान के लिए अपना वायु क्षेत्र खोलने की बात कही है लेकिन शीर्ष स्तर पर हुई बैठक में फैसला हुआ है कि पीएम मोदी का विमान पाकिस्तान के रास्ते बिश्केक नहीं जाएगा। पाकिस्तान के साथ किसी तरह की बातचीत से भारत पहले ही इंकार कर चुका है। अब उसके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करने के फैसले से उसे एक और झटका लगा है। भारत सरकार ने अपने इस फैसले से जाहिर कर दिया है कि वह पाकिस्तान से किसी तरह का एहसान लेने नहीं जा रही है। भारत ने स्पष्ट कहा है कि 'अपना वायु क्षेत्र खोलने के लिए आपका धन्यवाद! लेकिन हम आपके वायु क्षेत्र का इस्तेमाल करने नहीं जा रहे।' जाहिर है कि एससीओ बैठक के दौरान भारत पाकिस्तान को कोई तरजीह देने नहीं जा रहा। इस बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शामिल होंगे। विदेश मंत्रालय पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि इस सम्मेलन के दौरान दोनों देशों के बीच कोई बैठक प्रस्तावित नहीं है। इससे पहले भारत ने पीएम मोदी के विमान के लिए अपना वायु क्षेत्र खोलने के लिए पाकिस्तान से अनुरोध किया था। भारत के इस अनुरोध पर पाकिस्तान ने अपना वायु क्षेत्र खोलने की बात कही थी। बता दें कि गत 26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण केंद्र पर भारतीय वायु सेना के एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपना वायु क्षेत्र पूरी तरह से बंद कर दिया था। बाद में उसने दक्षिणी क्षेत्र के अपने दो वायु मार्गों को खोला।

Published in देश

नई दिल्ली: कांग्रेस ‘गरीबी पर वार, 72 हजार’ के नारे के साथ इस लोकसभा चुनाव में भाजपा को मात देने की रणनीति के साथ उतरी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘चौकीदार’ अभियान, बालाकोट हवाई हमला, राष्ट्रवाद, राष्ट्रीय सुरक्षा और जनकल्याण से जुड़ी योजनाओं के आक्रामक प्रचार के आगे ढेर हो गई। इस चुनाव में मुख्य विपक्षी पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन की स्थिति यह है कि वह 2014 के अपने 44 सीटों के आंकड़ों में महज कुछ सीटों की बढ़ोतरी करती दिख रही है। चुनाव से पहले और चुनाव के दौरान भी कई जानकारों का यह कहना था कि अगर कांग्रेस सीटों का शतक भी लगा लेती है तो वह उसके और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी लिए सहज स्थिति होगी, हालांकि ऐसा नहीं होता दिख रहा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में समूची पार्टी ने प्रचार अभियान प्रधानमंत्री मोदी पर केंद्रित रखा और राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए ‘चौकीदार चोर है’ का प्रचार अभियान चलाया जिसके जवाब में मोदी और भाजपा ने ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान शुरू किया। राहुल गांधी ने राफेल मुद्दे के अलावा ‘न्यूनतम आय गारंटी’ (न्याय) योजना को मास्टरस्ट्रोक के तौर पर पेश किया। पार्टी को उम्मीद थी कि गरीबों को सालाना 72 हजार रुपये देने का उसका वादा भाजपा के राष्ट्रवाद वाले विमर्श की धार को कुंद कर देगा, जबकि हकीकत में ऐसा नहीं हुआ। जानकारों का मानना है कि कांग्रेस के ‘नकारात्मक’ प्रचार अभियान के साथ पार्टी अथवा विपक्षी गठबंधन की तरफ से नेतृत्व का स्पष्ट नहीं होना भी भारी पड़ा। पार्टी के प्रचार अभियान की कमान संभालते हुए गांधी प्रधानमंत्री पद अथवा विपक्ष की तरफ से नेतृत्व के सवाल को भी प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से टालते रहे। वह बार बार यही कहते रहे कि जनता मालिक है और उसका फैसला स्वीकार किया जाएगा। कांग्रेस 2014 के आम चुनाव में 44 सीटों पर सिमट गई थी। यह पार्टी का अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन था। इसके बाद पिछले पांच वर्षों के सफर में कांग्रेस ने कई पराजयों का सामना किया, लेकिन पिछले साल नवंबर-दिसंबर में तीन राज्यों-मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों में उसकी जीत ने पार्टी की लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदों को ताकत देने का काम किया। यह बात अलग है कि पार्टी हवा के इस रुख को बरकरार नहीं पाई। ग़ौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार ' प्रचंड मोदी लहर' पर सवार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) रिकॉर्ड सीटों के साथ केंद्र की सत्ता पर काबिज होने जा रही है. निर्वाचन आयोग की ओर से बृहस्पतिवार को जारी मतगणना के रुझानों के अनुसार भाजपा जहां 292 सीटों पर आगे चल रही थी वहीं, कांग्रेस 50 सीटों पर आगे थी। आयोग ने सभी 542 सीटों के रुझान जारी किये हैं. अगर मौजूदा रुझान अंतिम परिणामों में परिवर्तित हुए तो भाजपा 2014 के अपने प्रदर्शन में सुधार कर ज्यादा सीटें जीतती दिख रही है. 2014 में भाजपा ने लोकसभा की 543 सीटों में से 282 सीटें जीती थीं। भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) 2014 की 336 सीटों के मुकाबले 343 सीटों पर काबिज होता दिख रहा है। चुनाव रुझानों का बाजार ने भी स्वागत किया है. बीएसएसी सेंसेक्स ने पहली बार 40 हजार की ऊंचाई को छुआ वहीं एनएसई के निफ्टी ने 12 हजार के स्तर को पार किया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया भी 14 पैसे मजबूत होकर 69.51 पैसे पर रहा. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी. सुषमा ने ट्वीट किया, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी - भारतीय जनता पार्टी को इतनी बड़ी विजय दिलाने के लिए आपका बहुत बहुत अभिनन्दन. मैं देशवासियों के प्रति हृदय से कृतज्ञता व्यक्त करती हूं.'

Published in देश

कुशीनगर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 'क्या हमारे जवान आतंकवादियों पर गोलीबारी करने से पहले चुनावी आयोग की अनुमति लेंगे।' पीएम मोदी ने कहा, 'आज सुबह पता चला कि कश्मीर में आतंकवादियों को हमारी सेना ने मार गिराया। अब कुछ लोगों की ये परेशानी है कि आज जब मतदान चल रहा है तब मोदी ने आतंकवादियों को क्यों मारा?'

पीएम मोदी ने कहा, 'वे बम-बंदूक लेकर सामने खड़े हैं, क्या वहां मेरा जवान चुनाव आयोग की अनुमति लेने जाये कि वे इसे गोली मारे या न मारे? अच्छा कश्मीर में जब से हम आये हैं हर दूसरे-तीसरे दिन सफाई होती रहती है। ये सफाई अभियान मेरा काम है भाई।'

पीएम मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पांच चरणों के मतदान के बाद विरोधी चारों खाने चित हैं और बैखला गये हैं। पीएम मोदी ने कहा, 'पांच चरण के मतदान हो चुके हैं और विरोधी चारों खाने चित हैं। बौखलाएं हैं, उन्हें समझ नहीं आ रहा कि इस चौकीदार पर लोगों का इतना प्यार क्यों उमड़ रहा है।'

इस दौरान पीएम मोदी ने बसपा सुप्रीमो मायावती को भी घेरने की कोशिश की और कहा कि अगर वे बेटियों की रक्षा के प्रति इतनी ही ईमानदार हैं तो आज ही, इसी समय राजस्थान की कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लें। पीएम मोदी ने अलवर गैंगरेप का जिक्र करते हुए कहा, 'बेटियों पर अत्याचार करने वाले, राक्षसी प्रवृत्ति के लोगों को सजा देने के लिए आपके इस चौकीदार ने फांसी की सजा का प्रावधान किया है। कांग्रेस सरकार की भी नीयत सही होती तो अलवर में जो हुआ उसे छिपाने में, दबाने में नहीं लगती।' 

पीएम मोदी ने मायावती पर तंज कसते हुए कहा जो लोग उनकी जाति पर सर्टिफेकेट मांग रहे हैं उन्होंने खुद मौका मिलने पर करोड़ो रुपये की संपत्ति खड़ी कर ली। बकौल पीएम, 'आज जो लोग मेरी जाति का सर्टिफिकेट मांग रहे हैं, जब उन्हें आपकी सेवा का मौका मिला तो उन्होंने अपने लिए सैकड़ों-हजारों करोड़ रुपए की संपत्ति खड़ी कर ली। मैं गुजरात में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहा, पांच साल से देश का प्रधानमंत्री हूं और मेरा बही खाता भी देश के सामने है।'

 कांग्रेस पर तंज कसते हुए पीएम ने साथ ही कहा, 'जब इन लोगों को मौका मिला तो इन लोगों ने कोयला घोटाला कर दिया। जब मुझे सेवा का अवसर मिला तो मैंने 7 करोड़ गरीब माताओं को मुफ्त गैस कनेक्शन देकर उन्हें धुंए से मुक्ति दिलाई।'

सपा—बसपा गठबंधन पर प्रहार करते हुए मोदी ने कहा कि वह मायावती और अखिलेश यादव से कहीं ज्यादा वक्त तक गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं लेकिन उनके दामन पर एक भी दाग नहीं लगा है। मोदी ने कहा कि जनता केन्द्र में मजबूत सरकार बनाने का निर्णय कर चुकी है। मोदी ने कहा कि विपक्षी दल लोकसभा चुनाव में चारों खाने चित हो जाएंगे क्योंकि लोगों ने एक मजबूत और ईमानदार सरकार बनाने की ठान ली है।

Published in देश

रोहतक (हरियाणा): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 1984 के सिख जनसंहार पर कांग्रेस की ओवरसीज इकाई के अध्यक्ष सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) के बयान पर करारा हमला करते हुए शुक्रवार को कहा कि देश पर सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली कांग्रेस कितनी असंवेदनशील रही है उसका प्रतीक सिख दंगों पर पार्टी के तीन शब्द हैं..'हुआ तो हुआ'। पीएम मोदी ने कहा कि इससे पार्टी (कांग्रेस) का चरित्र पता चलता है।

वर्ष 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या पर गुरुवार को सैम पित्रोदा ने कहा था, 'अब क्या है 84 का।' आपने (मोदी) पांच साल में क्या किया, उसकी बात करिए। वर्ष 84 में जो हुआ, वो हुआ।' पीएम मोदी ने 12 मई को लोकसभा के छठे चरण में हरियाणा की 10 सीटों पर मतदान के सिलसिले में रोहतक में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवारों के पक्ष में आयोजित रैली को लेकर पित्रोदा के इस बयान पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि देश पर सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली कांग्रेस कितनी असंवेदनशील रही है, उसका प्रतीक सिख दंगों पर कल बोले गये उसके नेता के तीन शब्द हैं.. 'हुआ तो हुआ' ये शब्द कांग्रेस का चरित्र, मानसिकता और इरादे हैं।

उन्होंने कहा कि इनके लिए जीवन का कोई मूल्य नहीं है। पीएम मोदी ने मतदाताओं से अपील की 'आपको कांग्रेस और उसके साथियों से सावधान रहने की जरूरत है। कांग्रेस ने 70 साल तक देश कैसे चलाया है, उनका दिमाग कैसे चलता है, उनकी खोपड़ी में कैसा अहंकार भरा है, ये कल केवल तीन शब्दों में उन्होंने खुद ही समेट दिया।'

Published in देश

फतेहाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को फतेहाबाद में जनसभा को संबोधित किया. पीएम ने अपने भाषण में कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. पीएम ने कहा कि कांग्रेस की झूठ और धोखे की नीति के कारण देश भर के किसानों को नुकसान उठाना पड़ा है.

पीएम ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा कि 23 मई की शाम तक पता चल जाएगा कि देश में कौन अपनी सरकार बनाने जा रहा है, और निश्चित रूप से फिर एक बार मोदी सरकार बनेगी. पीएम ने कहा आपका ये चौकीदार भारत को विश्व शक्ति बनाने के लिए जुटा हुआ है. जो राष्ट्र अपनी रक्षा नहीं कर पाता उसकी बात दुनिया कैसे सुनेगी. नए भारत की रक्षानीति क्या होगी इसका ज़िक्र कांग्रेस या उनके महामिलावटी साथियों ने अपनी जनसभा में एक भी बार भी नहीं किया है.

पीएम ने कहा 2014 से पहले पाकिस्तान आए दिन हमारे सैनिकों के साथ बर्बरता करता था, तब कांग्रेस की सरकार सिर्फ बयान देती थी लेकिन अब हमारे सपूत आतंकियों के अड्डे में घुसकर मारते हैं. पहली सर्जिकल स्ट्राइक कर हम जमीन से हमला करने गए. फिर हमने एयर स्ट्राइक की. जो आतंकी पहले हमें डराते थे, वो अब दुबक के बैठे हैं.

पीएम ने कहा कि देश में कई बड़े हमले करने वाला आतंकी मसूद अज़हर आज ग्लोबल आतंकी घोषित हो चुका है. पाकिस्तान भी अब मसूद अजहर के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर है. अपनी 5-6 साल की कोशिश करने के बाद भी कांग्रेस सरकार ऐसा नहीं करवा पाई थी. क्योंकि उसकी नीयत नहीं थी न ही उसकी नीति साफ थी.

पीएम ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत माता की जय बोलने पर ऐतराज जताने वाली कांग्रेस अब देशद्रोह का कानून हटाने की भी बात कह रही है. कांग्रेस चाहती है कि टुकड़े-टुकड़े गैंग को, भारत को गाली देने वालों को, तिरंगे का अपमान करने वालों, नक्सलवादियों के समर्थकों को खुली छूट मिले.

पीएम ने कहा देश की रक्षा करने वालों से झूठ बोलने और उन्हें सम्मान न देने की इनकी सोच के कारण ही कांग्रेस के लोग देश में नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं बना सके. अपने परिवार के लोगों के तो गली-गली में स्मारक बना दिये, लेकिन सैनिकों के सम्मान में कोई राष्ट्रीय स्मारक नहीं बना सके.

पीएम ने कहा आपके आशीर्वाद से किसानों को लूटने वालों को ये चौकीदार कोर्ट तक ले गया है. जमानत के लिए चक्कर काट रहे हैं, ईडी के दफ्तर में जूते घिस रहे हैं. इन्हें जेल के दरवाजे तक तो ले गया हूं, आने वाले 5 साल में अंदर भी कर दूंगा.

पीएम ने 1984 के सिख दंगों को लेकर कहा कि आपके इस चौकीदार ने सिखों के गुनहगारों को सजा दिलाने का वादा किया था आज उन्हें फांसी और उम्रकैद की सजा मिल रही है लेकिन कांग्रेस अब भी उन्हें ईनाम दे रही है. कांग्रेस ने 84 के दंगों में जिस पर सवाल उठे हों कांग्रेस ने उसे मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया.

करतारपुर कॉरिडोर पर पीएम ने कहा कि अगर बंटवारे के समय ज़रा भी जोर दिया जाता तो आज करतारपुर साहिब भारत में होता. हमारी सरकार चाहती है कि जो लोग करतारपुर दर्शन करने जाएं उन्हें कोई परेशानी न हो इसके लिए हमारी सरकार करतारपुर साहिब कॉरिडोर का निर्माण कर रही है.

Published in देश

सेरमपोर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुखयमंत्री ममता बनर्जी के बीच राजनीतिक तल्खी कोई नई बात नहीं है। ममता बनर्जी केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमेशा आक्रमक रहती हैं तो वहीं पीएम मोदी भी पश्चिम बंगाल सीएम पर निशाना साधने से चूकते नहीं हैं। चुनावी मौसम है, नेता प्रचार-प्रसार में जुटे हैं और अपने विपक्षी दलों पर तरह- तरह की बयानबाजी करने से चूक नहीं रहे हैं। इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के सेरमपोर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे। जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि 23 मई को चुनाव परिणामों के धोषणा के बाद चोरों तरफ कमल खिलेगा। पीएम ने इसके साथ ही कहा नतीजों के बाद ममता बनर्जी को उनके विधायक भी छोड़कर चले जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'दीदी देख लेना, 23 तारीख को जब नतीजे आएंगे, चोरों तरफ कमल खिलेगा तो तुम्हारे विधायक भी आपको छोड़कर भाग जाएंगे। आज भी दीदी तुम्हारे 40 विधायक मेरे संपर्क में हैं। दीदी तुम्हार बचना मुश्किल है अब क्योंकि आपने विश्वासघात किया है।' गौरतलब है कि पीएम नरेद्र मोदी अपनी चुनावी सभाओं में पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर लगातार आक्रमक रहते हैं। सेरमपोर में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा था कि टीएमसी के गुंडे हर संभव प्रयास करके वोट देने से लोगों को रोक रहे हैं। ऐसे में पीएम के 40 विधायकों के लेकर दिए गए बयान से साफ है कि चुनाव बाद कुछ भी संभव है।

Published in देश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की गई है। इसमें चुनाव आयोग को निर्देश देने के लिए कहा गया है। ये अर्जी कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष दायर की है। आचार संहिता के उल्लंघन के जो आरोप पीएम मोदी और अमित शाह पर लगे हैं, उन पर फैसला करने के लिए चुनाव आयोग को निर्देश देने के लिए ये याचिका दायर की गई है। सुप्रीम कोर्ट इस पर कल यानी मंगलवार को सुनवाई करेगा। याचिका में अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने दावा किया कि दोनों नेताओं ने तीन श्रेणियों के तहत चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया- वोटों का ध्रुवीकरण, अभियानों में सशस्त्र बलों का जिक्र और चुनाव के दिन रैलियां करना। याचिका में कहा गया कि प्रधानमंत्री और शाह ने प्रचार रैलियों में नफरत फैलाने वाले भाषण दिए। उन्होंने मतदान निकाय के प्रतिबंध के बावजूद जनसभा में सशस्त्र बलों के ऑपरेशन के बारे में बात की। चुनाव आयोग अभी तक कुछ नेताओं पर कार्रवाई कर चुका है, जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और समाजवादी पार्टी के आजम खान भी है। दोनों के 72 घंटे तक प्रचार करने पर रोक लगी थी। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पर भी चुनाव आयोग ने हाल ही में 72 घंटे का प्रतिबंध लगाया था। बसपा प्रमुख मायावती पर भी आयोग ने कार्रवाई की थी।

Published in देश

दरभंगा: धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के दरभंगा में आज एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि जिन्हें भारत माता की जय और वंदे मातरम् बोलने पर ऐतराज है उनकी जमानत जब्त होनी चाहिए। इसी जनसभा में पीएम ने राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद को नए हिन्दुस्तान का सबसे बड़ा मुद्दा करार दिया और आरक्षण व्यवस्था को लेकर विपक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि किसी के भी हक से कोई छेड़छाड़ नहीं होगी। चुनावी रैली में मोदी ने आरक्षण के संबंध में विपक्षी दलों के आरोपों को कोरी अफवाह बताया।

मोदी ने जोर दे कर कहा, ‘‘राजग की सरकार ने बाबा साहेब आंबेडकर के बताए रास्ते को और मजबूत किया है। लेकिन वोट के लिए महामिलावटी अफवाहें फैलाने में जुटे हैं। मैं आपको भरोसा देता हूं कि जब तक मोदी है तब तक किसी के भी हक से कोई छेड़छाड़ नहीं होगी।’’ विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा ‘‘जिस आतंकवाद ने श्रीलंका में 350 से ज्यादा मासूमों की जान ले ली, क्या वह मुद्दा नहीं हैं? हमारे पड़ोस में आतंक की फैक्ट्री चल रही है और महामिलावटी कहते हैं कि आतंकवाद मुद्दा ही नहीं है। महामिलावट करने वालों, आपके लिए आतंकवाद मुद्दा नहीं होगा, लेकिन नए भारत में ये बहुत बड़ा मुद्दा है। ये नया हिन्दुस्तान है, ये आतंक के अड्डों में घुसकर मारेगा।’’

लोगों से जनादेश मांगते हुए उन्होंने कहा कि हमारा देश मजबूत होना चाहिए और उसके लिए सरकार मजबूत होनी चाहिए। मजबूत सरकार के लिए प्रधानमंत्री मजबूत चाहिए, चौकीदार मजबूत चाहिए। मोदी ने कहा ‘‘आपका एक वोट आतंकवाद को खत्म कर सकता है, चौकीदार को अपना समर्थन दीजिए। आपका एक एक वोट मोदी को जाएगा और मोदी आतंकवाद को खत्म करके ही दम लेगा।’’ अपनी सरकार की जन कल्याण योजनाओं का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि चुनाव के बाद जब फिर राजग की सरकार बनेगी, तो हम प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से 5 एकड़ की शर्त हटाकर इस योजना का लाभ देश के सभी किसानों को पहुंचाएंगे। उन्होंने कहा कि हमने वादा किया था कि सौभाग्य योजना के तहत देश के हर परिवार तक बिजली पहुंचाने का काम हम पूरा करेंगे।

राजद पर चुटकी लेते हुए मोदी ने कहा, ‘‘मैं नितीश जी और सुशील जी को बधाई देता हूं कि इन्होंने बिहार से लालटेन को हमेशा-हमेशा के लिए विदा कर दिया और हर घर में बिजली पहुंचा दी।’’ कांग्रेस नीत पूर्ववर्ती संप्रग सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि गरीब के घर बिजली पहुंचाने का काम पहले की सरकार भी कर सकती थी, लेकिन सब अपने-अपने कुनबे का भला करने में जुटे थे।कोई फार्म हाउस बना रहा था, कोई शॉंिपग मॉल बनवा रहा था, कोई रेलवे टेंडर में खा रहा था, कोई हेलीकॉप्टर में दलाली खा रहा था ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 में लोगों कांग्रेस की नीयत को पहचाना और इस चौकीदार :मोदी: को जिम्मेदारी दी। उन्होंने कहा कि मैंने लाल किले से कहा था कि 1000 दिन में जिन 18,000 गांवों में बिजली नहीं पहुंची है, वहां बिजली दे देगें। हमने 1000 दिन से पहले ही देश के सभी गांवों में बिजली पहुंचा दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पर 2004 और 2009 के घोषणा पत्र में देश के हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा किया था लेकिन उसने धोखा देने का काम किया। उन्होंने युवाओं से अपील की कि इक्कीसवीं सदी में जो बेटा-बेटी पहली बार दिल्ली की सरकार चुन रहे हैं, वो हमारे नौजवान इस चुनाव का नेतृत्व कर रहे हैं। वे बस एक ही बात ठान कर चले हैं कि 21 वीं सदी का भारत उनकी आकांक्षाओं के मुताबिक हो। यह नए भारत की ललकार है।

Published in देश

चित्तौड़गढ़: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर खूब निशाना साधा। प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से पूछा कि आप ऐसा भारत देखना चाहते हैं जो पाकिस्तान को मुहतोड़ जवाब दे या फिर ऐसा भारत जो उसके सामने झुक जाए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी देश को मजबूत करती है जबकि कांग्रेस पार्टी भारत को कमजोर करने का काम करती है। प्रधानमंत्री ने चित्तौड़गढ़ में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ' आप कैसा भारत देखना चाहते हैं, जो पाक को जवाब दे या ऐसा भारत जो उनके सामने झुक जाए? एक ऐसा भारत जो आतंकवादियों को कड़ा जवाब देता है या एक भारत जो आतंकवादी हमलों के बाद मौन धारण करके बैठ जाता है। एक कांग्रेस जो देश को कमजोर करती है या एक भाजपा जो इसे मजबूत करती है।' पीएम ने इसके साथ ही कहा कि कांग्रेस ने वोट बैंक की राजनीति के लिए सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बनाया। उन्होंने कहा कि देश को विश्वास है कि मोदी खुद पर वार झेल सकता है लेकिन देश को कभी झुकने नहीं दे सकता। इस दौरान पीएम ने कहा कि पूरे देश में जो बीजेपी की लहर चल रही है,वह राजस्थान में भी दिख रही है, राजस्थान का एक एक साथी इस चौकीदार के साथ चट्टान की तरह खड़ा रहा है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि हिंदुस्तान का हर नागरिक इस चुनाव को अपनी जिम्मेदारी मानकर चल रहा है। पीएम ने कहा कि देश का उज्जवल भविष्य चाहने वाले नागरिक ही यह चुनाव लड़ रहे हैं। गौरतलब है कि राजस्थान की 25 लोकसभा सीट पर दो चरणों में वोट डाले जाएंगे। पहला चरण का मतदान 29 अप्रैल जबकि दूसरे चरण के वोट 6 मई को डाले जाएंगे।

Published in देश
Page 1 of 31