Fri08232019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home खेल Displaying items by tag: world cup
Displaying items by tag: world cup - दिव्य इंडिया न्यूज़

ऑकलैंड :  सुरेश रैना (नाबाद 110) और महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 85) ने पांचवें विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी करके भारत को ईडन पार्क मैदान पर शनिवार को खेले गए आईसीसी विश्व कप-2015 के पूल-बी के अंतिम मैच में जिम्बाब्वे पर छह विकेट से जीत दिला दी। यह भारत की लगातार छठी जीत है।

भारत के लिए यह जीत उतनी आसान नहीं रही, जितनी दिख रही है। भारत ने जिम्बाब्वे द्वारा दिए गए 288 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए एक समय 92 रनों पर रोहित शर्मा (16), शिखर धवन (4), विराट कोहली (38) और अजिंक्य रहाणे (19) के रूप में चार अहम विकेट गंवा दिए थे लेकिन अपने करियर का पांचवां शतक लगाने वाले रैना और धोनी ने समय की मिसाल पेश कर 196 रनों की साझेदारी के साथ अपनी टीम को 48.4 ओवरों में जीत तक पहुंचा दिया।

मैन ऑफ द मैच चुने गए रैना ने 104 गेंदों का सामना कर नौ चौके और चार छक्के लगाए जबकि अपने करियर का 57वां अर्धशतक लगाने वाले धोनी ने 76 गेंदों पर आठ चौके और दो छक्के लगाए। धोनी ने छक्के के साथ भारत को जीत दिलाई।

इन दोनों ने रोबिन सिंह और अजय जडेजा द्वारा 1999 विश्व कप में पांचवें विकेट के लिए की गई 141 रनों की साझेदारी को पीछे छोड़ा। यह विश्व कप में भारत की लगातार 10वीं जीत है। भारत ने विश्व कप में अब तक के सबसे बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत हासिल की है।

यही नहीं, इन दोनों ने इस विश्व कप में भारत के लिए किसी भी विकेट के लिए अब तक की सबसे बड़ी साझेदारी की। दोनों ने धवन और रोहित के आयरलैंड के खिलाफ पहले विकेट के लिए जोड़े गए 174 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ा।

एक समय भारत ने 21 रन के कुल योग पर अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए थे। रोहित ने 21 गेंदों पर दो चौके लगाए। धवन तो 20 गेंदों पर सिर्फ एक चौका लगा सके। इसके बाद कोहली और रहाणे ने तीसरे विकेट के लिए 50 रन जोड़े लेकिन अर्धशतकीय साझेदारी होने के साथ रहाणे दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रन आउट हो गए।

रहाणे का विकेट 71 के कुल योग पर गिरा। इसके बाद कोहली को 92 के कुल योग पर रजा ने बोल्ड किया। कोहली ने 48 गेंदों पर चार चौके लगाए। कोहली की विदाई के बाद रैना और धोनी ने संयम के साथ खेलते हुए भारत लगातार छठी जीत तक पहुंचाया।

भारत अपने सभी मैच जीतकर ग्रुप-बी में शीर्ष पर है। वह पहले ही क्वार्टर फाइनल में जगह पक्की कर चुका है। वहीं, जिम्बाब्वे को छह मैचों में एक जीत मिली और उसके केवल दो अंक हैं।

इससे पहले, अपने विदाई मैच में शानदार शतक लगाने वाले कार्यकारी कप्तान ब्रेंडन टेलर (138) और सीन विलियम्स (50) की शानदार पारियों की बदौलत जिम्बाब्वे ने टॉस हारने के बाद बल्लेबाजी करते हुए खराब शुरूआत से उबरते हुए 48.5 ओवरों का सामना कर 287 रन बनाए।

एक समय जिम्बाब्वे ने 11, 13 और 33 रनों के कुल योग पर अपने तीन विकेट गंवा थे। चामू चिभाबा (7) को मोहम्मद समी ने चलता किया जबकि हेमिल्टन मासाकाद्जा (2) को उमेश यादव ने चलता किया। सोलोमन मिरे (9) का विकेट मोहित शर्मा ने लिया।

इसके बाद हालांकि अपने करियर का आठवां शतक लगाने वाले टेलर और विलियम्स ने चौथे विकेट के लिए 93 रन जोड़ते हुए टीम को मजबूती दी। विलियम्स का विकेट 126 के कुल योग पर गिरा। विलियम्स ने 57 गेंदों का सामना कर तीन चौके और इतने ही छक्के लगाए।

विलियम्स की विदाई के बाद टेलर ने क्रेग इर्विन (27) के साथ पांचवें विकेट के लिए 109 रन जोड़े। इसी साझेदारी के दौरान टेलर ने अपना शतक पूरा किया और साथ ही सर्वाधिक रनों की दौड़ में जिम्बाब्वे की ओर से तीसरे सबसे सफल एकदिवसीय बल्लेबाज बने। उनके नाम 5258 रन हैं। एंडी फ्लावर (6786) और ग्रांट फ्लावर (6571) ही उनसे आगे हैं।

टेलर ने 99 गेंदों पर शतक पूरा किया। उनकी 110 गेंदों की पारी में 15 चौके और पांच छक्के शामिल हैं। टेलर और इर्विन के आउट होने के बाद सिकंदर रजा (28) और रेगिस चाकाब्वा (10) ने 35 रनों की साझेदारी की लेकिन इसके बाद जिम्बाब्वे की टीम लय से भटक गई और अंतिम पांच ओवरों में 36 रन जोड़ते हुए चार विकेट गंवाए।

भारत की ओर से मोहम्मद समी, उमेश यादव और मोहित शर्मा ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि रविचंद्रन अश्विन को एक सफलात मिली। अश्विन हालांकि काफी महंगे साबित हुए। उन्होंने अपने कोटे के 10 ओवरों में 75 रन खर्च किए। भारतीय गेंदबाजों ने लगातार छठे मैच में विपक्षी टीम के सभी विकेट चटकाए।

Published in खेल

सेडन पार्क: मार्टिन गुप्टिल (105) के नेतृत्व में अपने बल्लेबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर न्यूजीलैंड ने शुक्रवार को सेडन मैदान पर खेले गए रोमांच से भरपूर आईसीसी विश्व कप-2015 के पूल-ए के अपने अंतिम मुकाबले में बांग्लादेश को तीन विकेट से हरा दिया। यह मेजबान टीम की लगातार छठी जीत है।

बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड के सामने 289 रनों का लक्ष्य रखा था, जिसका पीछा करते हुए कीवी टीम ने 48.5 ओवरों में सात विकेट गंवाकर जीत हासिल कर ली। मैन ऑफ द मैच चुने गए गुप्टिल ने 100 गेंदों का सामना कर 11 चौके और दो छक्के लगाए। उनके अलावा रॉस टेलर ने 56, ग्रांट इलियट ने 39, कोरी एंडरसन ने 39 और डेनियल विटोरी ने नाबाद 16 और टिम साउदी ने नाबाद 12 रन बनाए।

कीवी टीम ने एक समय 33 रनों पर कप्तान ब्रेंडन मैक्लम (8) और केन विलियमसन (1) के अहम विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद हालांकि गुप्टिल और टेलर ने तीसरे विकेट के लिए 131 रनों की साझेदारी की। गुप्टिल का विकेट 164 रनों के कुल योग पर गिरा।

गुप्टिल के आउट होने के बाद टेलर ने इलियट के साथ 46 रन जोड़े। इलियट 34 गेंदों पर पांच चौके और एक छक्का लगाने के बाद 210 के कुल योग पर आउट हुए। नौ रन बाद ही टेलर भी पवेलियन लौट गए। टेलर ने 97 गेंदों का सामना कर पांच चौके लगाए।

उनका स्थान लेने आए ल्यूक रोंची और एंडरसन के बीच 28 रनों की अहम साझेदारी हुई। रोंची 247 रन के कुल योग पर आउट हुए। इसके बाद एंडरसन ने अपनी टीम को जीत तक ले जाने की जिम्मेदारी ली। उन्होंने कुछ शानदार शॉट्स लगाए।

एंडरसन हालांकि 269 के कुल योग पर नासिर हुसैन की गेंद पर छक्का लगाने के प्रयास में बोल्ड हो गए। एंडरसन ने 26 गेंदों पर तीन चौके और तीन छक्के लगाए। विकेट पर विटोरी थे। उनका साथ देने साउदी आए।

दोनों पर टीम को जीत दिलाने का दबाव था, लेकिन इन दोनों ने इस दबाव को झेलते हुए 9 गेंदों पर 21 रन ठोककर अपनी टीम को जीत दिला दी। विटोरी ने 10 गेंदों पर एक चौका और एक छक्का लगाया जबकि साउदी ने छह गेंदों पर एक चौके और एक छक्का जड़ा।

यह पूल स्तर पर न्यूजीलैंड की लगातार छठी जीत है। कीवी टीम अपने पूल में शीर्ष पर है जबकि बांग्लादेश की टीम चौथे स्थान पर रहेगी। उसे छह में से तीन मैचों में जीत मिली है, जबकि दो मैचों में उसे हार मिली है। एक मैच का परिणाम नहीं निकल सका था। क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश का सामना भारत से होगा।

इससे पहले, आईसीसी विश्व कप-2015 में महमूदुल्लाह (नाबाद 128) के लगातार दूसरे शतक की बदौलत बांग्लादेश क्रिकेट टीम ने सेडन पार्क मैदान पर जारी अपने अंतिम पूल-ए मुकाबले में न्यूजीलैंड के सामने 289 रनों का लक्ष्य रखा है।

कीवी टीम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। महमूदुल्लाह (नाबाद 128) के लगातार दूसरे शतक की बदौलत बांग्लादेश ने महमूदुल्लाह 50 ओवरों में सात विकेट पर 288 रन बनाए। महमूदुल्लाह के अलावा सौम्य सरदार ने 51 और शब्बीर रहमान ने 40 रनों का योगदान दिया।

बांग्लादेश की शुरुआत हालांकि अच्छी नहीं रही थी। उसने 27 रन के कुल योग पर अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों-इमरुल कायेस (2) और तमीम इकबाल (12) के विकेट गंवा दिए थे लेकिन इसके बाद सौम्य और महमूदुल्लाह ने तीसरे विकेट के लिए  90 रन जोड़े।

सौम्य का विकेट 117 रन के कुल योग पर गिरा। उन्होनें 58 गेंदों पर सात चौके लगाए। सौम्य की विदाई के बाद महमूदुल्लाह ने शाकिब अल हसन (23) के साथ चौथे विकेट के लिए 34 और फिर मुशफिकुर रहीम (15) के साथ पांचवें विकेट के लिए 31 रन जोड़े।

रहीम का विकेट 182 रनों के कुल योग पर गिरा। इसके बाद महमूदुल्लाह ने शब्बीर के साथ 78 रनों की साझेदारी की। शब्बीर ने 23 गेदों पर पांच चौके और दो छक्के लगाए।

इसी साझेदारी के दौरान महमूदुल्लाह ने अपना शतक पूरा किया। यह विश्व कप में उनका दूसरा शतक है। यह मुकाम हासिल करने वाले वह बांग्लादेश् के एकमात्र बल्लेबाज हैं।  महमूदुल्लाह ने इससे पहले इंग्लैंड के खिलाफ शतक लगाया था।

महमूदुल्लाह ने शब्बीर की विदाई के बाद भी अपना सफर जारी रखा और नासिर हुसैन (11) के साथ 27 रनों की साझेदारी की। महमूदुल्लाह 123 गेंदों का सामना कर 12 चौके और तीन छक्के लगाकर नाबाद लौटे।

न्यूजीलैंड की ओर से ग्रांट इलियट, कोरी एंडरसन और ट्रेंट बाउल्ट ने दो-दो विकेट लिए।

Published in खेल

वेलिंगटन : बल्लेबाजी में अपने जौहर दिखाने वाले एबी डिविलियर्स ने आज यहां आलराउंड प्रदर्शन किया जिससे दक्षिण अफ्रीका ने संयुक्त अरब अमीरात को 146 रन से करारी शिकस्त देकर आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की औपचारिकता पूरी की। डिविलियर्स ने फिर से साबित किया कि वह दक्षिण अफ्रीका के लिये कितने महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने 99 रन की शानदार पारी खेली और बाद में अपनी मध्यम गति की गेंदबाजी से दो विकेट लिये। डिविलियर्स के अलावा फरहान बेहारडीन ने अंतिम क्षणों में 31 गेंदों पर नाबाद 64 रन बनाये जिससे पहले बल्लेबाजी का न्यौता पाने वाला दक्षिण अफ्रीका धीमी शुरूआत से उबरकर छह विकेट पर 341 रन बनाने में सफल रहा।

टूर्नामेंट में अब तक अपने सभी मैच गंवाने वाले यूएई ने शुरू से ही लक्ष्य तक पहुंचने की कोशिश नहीं की। उसका एकमात्र लक्ष्य क्रीज पर अधिक से अधिक समय बिताना रहा। फलहद अलशामी गेंदबाजी करने के दौरान चोटिल हो गये थे और वह बल्लेबाजी के लिये नहीं उतर पाये। इस तरह से यूएई की टीम 47.3 ओवर में 195 रन पर आउट हो गयी। स्वप्निल पाटिल ने सर्वाधिक नाबाद 57 रन बनाये लेकिन इसके लिये उन्होंने 100 गेंद खेली। भारत और पाकिस्तान से लीग चरण के मैच हारने वाले दक्षिण अफ्रीका ने इस तरह से पूल बी में अपने अभियान का सकारात्मक अंत किया। उसके छह मैचों में आठ अंक रहे और वह अभी पूल बी में भारत के बाद दूसरे स्थान पर है। यूएई की यह लगातार पांचवीं हार है। उसे अपने आखिरी लीग मैच में रविवार को वेस्टइंडीज से भिड़ना है।

यूएई ने जिस तरह से बल्लेबाजी में बेहद रक्षात्मक रवैया अपनाया उससे लग गया था कि उसने पहले ही हार मान ली है। उसके चोटी के तीनों बल्लेबाज सतर्कता बरतने के बावजूद देर तक नहीं टिक पाये। यूएई ने 13वें ओवर तक 45 रन पर तीन विकेट गंवा दिये थे। मोर्ने मोर्कल ने उसके शीर्ष क्रम को झकझोरा। पाटिल ने यहीं पर क्रीज पर कदम रखा और फिर आखिर तक एक छोर संभाले रखा। उन्होंने अपनी पारी में पांच चौके लगाये और इस बीच शैमन अनवर के साथ चौथे विकेट के लिये 63 रन की साझेदारी की। निचले क्रम में केवल मोहम्मद नवीद ही दोहरे अंक में पहुंचे। डेल स्टेन पर लगाया गया उनका छक्का दर्शनीय था। डिविलियर्स ने यूएई के बल्लेबाजों की मंशा को भांपकर बीच में स्वयं गेंद संभाली और तीन ओवर में 15 रन देकर दो विकेट लिये जो उनका गेंदबाजी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। वर्नोन फिलैंडर ने भी 34 रन देकर दो विकेट लिये।

डिविलियर्स ने डेविड मिलर के साथ चौथे विकेट के लिये 108 रन जोड़े जिससे दक्षिण अफ्रीका तीन विकेट पर 96 रन के स्कोर से उबरने में सफल रहा। डिविलियर्स जब शतक से केवल एक रन दूर थे तब अमजद जावेद की गेंद पर थर्ड मैन पर खड़े कामरान शहजाद को कैच दे बैठे। डिविलियर्स विश्व कप में 99 रन पर आउट होने वाले केवल तीसरे बल्लेबाज हैं। उनसे पहले एडम गिलक्रिस्ट 2003 में श्रीलंका के खिलाफ और जेपी डुमिनी 2011 में आयरलैंड के खिलाफ एक रन से शतक से चूक गये थे। डिविलियर्स के आउट होने के बाद डुमिनी भी पवेलियन लौटे लेकिन अब तक रन बनाने के लिये जूझ रहे बेहारडीन ने डेथ ओवरों में तेजी से रन जुटाकर टीम को मजबूत स्कोर तक पहुंचाया। वर्नोन फिलैंडर दस रन बनाकर नाबाद रहे।

Published in खेल

होबर्ट : लगातार चार वनडे मैचों में शतक जमाने वाले पहले बल्लेबाज बने कुमार संगकारा की पारी के दम पर श्रीलंका ने विश्व कप पूल ए के मैच में आज स्काटलैंड को 148 रन से हरा दिया ।

संगकारा ने 95 गेंद में 124 रन बनाये जबकि तिलकरत्ने दिलशान ने 104 रन की पारी खेली जिसकी मदद से श्रीलंका ने नौ विकेट पर 363 रन बनाये । जवाब में स्काटलैंड की टीम 43.1 ओवर में 215 रन पर आउट हो गई ।

कप्तान प्रेस्टन मोम्मसेन और फ्रेडी कोलमैन ने चौथे विकेट के लिये 118 रन जोड़े । उनके अलावा कोई बल्लेबाज ज्यादा देर टिक नहीं सका । श्रीलंका के लिये तेज गेंदबाज नुवान कुलशेखरा और दुष्मंता चामीरा ने तीन तीन विकेट लिये ।

संगकारा ने दो कैच भी लपके और एडम गिलक्रिस्ट को पछाड़कर विश्व कप में सर्वाधिक बल्लेबाजों का शिकार करने वाले विकेटकीपर बन गए । संगकारा के नाम 54 शिकार दर्ज हो गए हैं जबकि आस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट ने 52 बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा । श्रीलंका ने छह लीग मैचों में से चार जीते और अभी यह तय नहीं है कि 18 मार्च को सिडनी क्रिकेट मैदान पर होने वाले पहले क्वार्टर फाइनल में उसका सामना किससे होगा ।

स्काटलैंड की यह लगातार पांचवीं हार थी और टीम अब शनिवार को यहां आस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी लीग मैच खेलकर स्वदेश रवाना हो जायेगी । विश्व कप के बाद वनडे क्रिकेट को अलविदा कहने जा रहे संगकारा ने बांग्लादेश के खिलाफ 105, इंग्लैंड के खिलाफ नाबाद 117 और आस्ट्रेलिया के खिलाफ 104 रन बनाये थे ।

संगकारा मौजूदा विश्व कप में छह मैचों में सर्वाधिक 496 रन बना चुके हैं जबकि दिलशान 395 रन बनाकर दूसरे स्थान पर है । दोनों ने दूसरे विकेट के लिये 195 रन की साझेदारी की । टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करने वाले श्रीलंका ने पहला विकेट छठे ही ओवर में गंवा दिया था जब लाहिरू तिरिमन्ने एलेस्डेयर इवांस की गेंद पर स्लिप में कैच दे बैठे ।

स्काटलैंड को अगली सफलता के लिये 35वें ओवर तक इंतजार करना पड़ा । संगकारा और दिलशान ने 34वें ओवर में काइल कोएत्जर की लगातार दो गेंदों पर अपने शतक पूरे किये । दिलशान ने एक रन लेकर टूर्नामेंट में अपना दूसरा शतक जड़ा जबकि संगकारा ने अगली गंेद पर दो रन लेकर यह आंकउ़ा छुआ ।

वनडे क्रिकेट में लगातार तीन शतक जड़ने वाले छह बल्लेबाजों को संगकारा ने पछाड़ा । इनमें पाकिस्तान के जहीर अब्बास और सईद अनवर, दक्षिण अफ्रीका के हर्शल गिब्स, एबी डिविलियर्स और किंटोन डिकाक और न्यूजीलैंड के रास टेलर शामिल हैं । दिलशान ने इससे पहले बांग्लादेश के खिलाफ नाबाद 161 रन बनाये थे । वह तेज गेंदबाज जोश डेवी की गेंद पर डीप में कैच देकर आउट हुए ।

डेवी ने महेला जयवर्धने और संगकारा को लगातार दो गेंदों पर आउट किया । श्रीलंका एक विकेट पर 216 रन से चार विकेट पर 244 रन पर पहुंच गया । कप्तान एंजेलो मैथ्यूज ने बाद में 21 गेंद में 51 रन बनाये जिसमें स्पिनर मैट मचान को लगातार चार छक्के शामिल हैं । एक समय पर एक विकेट पर 216 रन बना चुकी श्रीलंका ने आठ विकेट 147 रन के भीतर गंवा दिये ।

Published in खेल

हैमिल्टन। आईसीसी विश्व कप-2015 के ग्रुप-बी के अपने मुकाबले में भारत ने आयरलैंड को एकतरफा मुकाबले में 8 विकेट से हरा दिया। भारतीय ओपनरों ने जबरदस्त शुुरुआत करते हुए जीत का आधार 15 ओवरों में ही तैयार कर दिया था। ओपनिंग बल्लेबाजों रोहित शर्मा और शिखर धवन ने जोरदार शुरुआत करते हुए 23 ओवर में ही 174 रनों की साझेदारी की।

शिखर धवन ने शानदार सेंचुरी जमाते हुए 100 रनों की पारी खेली। उन्हें स्टुअर्ट थॉमसन ने आउट किया। शिखर की ये वनडे में 8वीं सेंचुरी है। इस दौरान धवन खास तौर पर ज्यादा आक्रामक नजर आए और मैदान के चारों तरफ चौकों-छक्कों की बरसात कर दी। हालांकि रोहित शर्मा भी 64 रन पर स्टुअर्ट थॉमसन का शिकार बन गए। इसके बाद विराट कोहली और अंजिक्य रहाणे ने 8 विकेट रहते 37वे ओवर में भारत को जीत दिला दी। कोहली ने 44 और रहाणे ने 33 रनों की पारी खेली।

इससे पहले नियाल ओब्रायन (75) और कप्तान विलियम पोर्टरफील्ड (67) की बेहतरीन अर्धशतकीय पारियों की बदौलत आयरलैंड ने आईसीसी विश्व कप-2015 के ग्रुप-बी के अपने पांचवें मैच में भारत के सामने 260 रनों का लक्ष्य रखा। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए आयरिश टीम ने 49 ओवरों में सभी विकेट गंवाकर 259 रन बनाए। तीन मैचों में भारत के खिलाफ यह आयरलैंड का अब तक का सबसे बड़ा योग है।

पोर्टरफील्ड ने पॉल स्टर्लिंग (42) के साथ पहले विकेट के लिए 15 ओवरों में 89 रनों की साझेदारी की। यह आयरिश पारी की सबसे बड़ी साझेदारी साबित हुई। इस साझेदारी के दौरान पोर्टरफील्ड और स्टर्लिग ने भारतीय तेज गेदबाजों की जमकर खबर लेते हुए मैदान के हर कोने में बेहतरीन शॉट्स लगाए।

मजबूरी में कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को स्पिनरों को आजमाना पड़ा। उनका यह कदम सफलता लेकर आया। स्टर्लिग का विकेट 89 रन के कुल योग पर रविचंद्रन अश्विन ने लिया जबकि 92 के कुल योग पर सुरेश रैना ने एड जॉयस (2) को बोल्ड किया।

स्टर्लिग ने 41 गेंदों की पारी में चार चौके और दो बेहतरीन छक्के लगाए। इसके बाद हालांकि पोर्टरफील्ड और नियाल ने तीसरे विकेट के लिए 53 रन जोड़कर नुकसान की भरपाई की। पोर्टरफील्ड 145 के कुल योग पर मोहित शर्मा की गेंद पर उमेश यादव के हाथों लपके गए। आयरिश कप्तान ने 93 गेंदों का सामना कर पांच चौके और एक छक्का लगाया।

कप्तान की विदाई के बाद एंडी बालबिर्नी (24) ने नियाल के साथ मिलकर पारी को संवारने का काम किया। इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 61 रन जोड़े। बालबिर्नी का विकेट 206 के कुल योग पर गिरा। उन्होंने 24 गेंदों पर तीन चौके लगाए। आयरलैंड ने हालांकि इसके बाद 32 रनों के कुल योग पर छह विकेट गंवा दिए।

पारी के 39वें से 46वें ओवर के बीच आउट होने वाले बल्लेबाजों में केविन ओब्रायन (1), गैरी विल्सन (6), नियाल, स्टुअर्ट थाम्पसन (2) और जार्ज डॉकरेल (6) शामिल हैं। नियाल ने आयरलैंड के लिए भारत के खिलाफ सबसे बड़ी पारी खेलते हुए 75 गेंदों पर सात चौके और तीन छक्के लगाए।

भारत की ओर से मोहम्मद समी ने तीन और रविचंद्रन अश्विन ने दो विकेट लिए। इसके अलावा सुरेश रैना, उमेश, मोहित और रवींद्र जडेजा को एक-एक सफलता मिली।

भारत इस ग्रुप में अपने अब तक के सभी चार मैच जीतकर शीर्ष पर है। वह क्वार्टर फाइनल में स्थान पक्का कर चुका है लेकिन अंतिम-8 दौर में जगह बनाने का आयरलैंड का प्रयास अभी भी जारी है। भारत को हराकर वह इसमें सफल हो सकता है।

Published in खेल

हैमिल्टन : विश्व कप में इतिहास रचने की दहलीज पर खड़ी आत्मविश्वास से ओतप्रोत भारतीय टीम कल आयरलैंड के खिलाफ शानदार जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेगी ।

लगातार चार जीत के साथ क्वार्टर फाइनल में जगह बना चुकी गत चैम्पियन भारतीय टीम की नजरें लगातार पांचवीं जीत पर है । अगर वह आयरलैंड को हरा देती है तो विश्व कप में लगातार नौ जीत दर्ज करने का रिकार्ड उसके नाम हो जायेगा । इस अश्वमेधी अभियान का आगाज 2011 विश्व कप के दौरान चेन्नई में वेस्टइंडीज पर जीत के साथ हुआ था । पिछले मैच में वेस्टइंडीज पर मिली जीत उसकी लगातार आठवीं जीत थी जिसके साथ उसने 2003 में दक्षिण अफ्रीका में हुए विश्व कप में सौरव गांगुली की टीम के रिकार्ड की बराबरी कर ली थी ।

यह विश्व कप का एक और बेमेल मुकाबला होगा जिसमें भारत का इरादा आयरलैंड पर दबदबा बनाये रखने का होगा । दूसरी ओर आयरलैंड पूल बी में चौथे स्थान पर कब्जा करके क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की फिराक में है । पिछली बार भारत और आयरलैंड की टक्कर बेंगलूर में पिछले विश्व कप के दौरान हुई थी जिसमें मेजबान ने पांच विकेट से जीत दर्ज की थी । युवराज सिंह ने अर्धशतक जमाने के साथ पांच विकेट लिये थे ।

भारतीय गेंदबाजों ने एक ईकाई के रूप में टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए चार मैचों में 37 विकेट लिये हैं । इनमें से भुवनेश्वर कुमार ने संयुक्त अरब अमीरात के खिलाफ एक विकेट लिया था यानी बाकी पांच गेंदबाज 36 विकेट ले चुके हैं ।

आर अश्विन और मोहम्मद शमी नौ-नौ विकेट ले चुके हैं जबकि उमेश यादव, मोहित शर्मा और रविंद्र जडेजा को छह छह विकेट मिले हैं । यही नहीं गेंदबाजों का इकानामी रेट भी बेहतरीन रहा है । सबसे महंगे जडेजा साबित हुए हैं जिन्होंने 4.51 प्रति ओवर की दर से रन दिये हैं । यादव का इकानामी रेट 4.33 रहा है जबकि शमी ने चार रन प्रति ओवर की दर से रन दिये हैं । अश्विन का इकानामी रेट 3.91 रहा है । वहीं मोहित ने 3.90 की औसत से रन दिये हैं जो अब तक भारत के लिये इस टूर्नामेंट की खोज रहे हैं ।

सेडन पार्क मैदान छोटा होने के कारण भारतीय गेंदबाजों के लिये चुनौती कठिन होगी । भारतीय बल्लेबाज हालांकि इसका पूरा फायदा उठाने की कोशिश में होंगे । वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले मैच में फिनिशर रहे महेंद्र सिंह धोनी समेत सभी शीर्ष सात बल्लेबाज कम से कम एक अच्छी पारी खेल चुके हैं ।

पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ क्रमश: 77 और 137 रन बना चुके शिखर धवन का इरादा बड़ी पारी खेलने का होगा चूंकि वह अमीरात और वेस्टइंडीज के खिलाफ नाकाम रहे थे । विराट कोहली ( 219 रन ) ने अभी तक सभी मैचों में अच्छी शुरूआत की है । पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में उन्होंने शतक बनाया था । वेस्टइंडीज के खिलाफ 33 रन बनाने के बाद वह खराब पूल शाट खेलकर आउट हुए । सुरेश रैना और अजिंक्य रहाणे भी एक एक अच्छी पारी खेल चुके हैं । दोनों वेस्टइंडीज के खिलाफ खराब फार्म में दिखे और अब बड़ा स्कोर बनाना चाहेंगे ।

भारतीय बल्लेबाजों के लिये भी सेडन पार्क पर अपना खराब रिकार्ड ठीक करने का यह सुनहरा मौका होगा । भारत ने यहां आठ में से सिर्फ दो वनडे जीते हैं । इस मैदान पर वीरेंद्र सहवाग वनडे शतक जमाने वाले एकमात्र भारतीय बल्लेबाज हैं जिन्होंने 2002-03 में यह कारनामा किया था । आयरलैंड का इरादा क्वार्टर फाइनल में प्रवेश का होगा लेकिन इसके लिये उसे अगले दो मैचों में भारत या पाकिस्तान को हराना होगा ।

एड जायस उसके लिये चार मैचों में 233 रन बना चुके हैं जबकि एंडी बालबर्नी ने 219 रन बनाये हैं । आक्रामक केविन ओब्रायन अभी तक एक ही मैच में चल सके हैं और यही हाल उनके भाई नियाल ओब्रायन का है । तेज गेंदबाज बायड रैंकिन के बिना आयरलैंड की गेंदबाजी कमजोर लग रही है । तेज गेंदबाज एलेक्स कुसाक और स्पिनर जार्ज डाकरेल पर विकेट लेने का दारोमदार होगा । कुल मिलाकर भारत का पलड़ा हर विभाग में भारी है ।

Published in खेल

एडीलेड : बांग्लादेश की टीम ने  आज विश्व कप में क्रिकेट के जनक इंग्लैंड को हराकर क़्वार्टर फाइनल में जगह पक्की कर ली । जहाँ उसका मुकाबला भारत से होने की है । इसी के साथ इंग्लैंड की का इस विश्व कप सफर यहीं समाप्त हो गया। जीत के लिए 276 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम 48. 3 ओवरों  260 रन ही बना सकी। जोस बटलर (65 ) और क्रिस वोक्स (नाबाद 42 ) के प्रयास काफी नहीं साबित हुए । बांग्लादेश पहली बार विश्व कप के क़्वार्टर फाइनल में पहुंचा है ।  

इससे पहले मोहम्मद महमूदुल्लाह विश्व कप में शतक जड़ने वाले पहले बांग्लादेशी क्रिकेटर हो गए जिनकी पारी की मदद से बांग्लादेश ने पूल ए के मैच में सोमवार को इंग्लैंड के खिलाफ सात विकेट पर 275 रन बनाए।

महमूदुल्लाह ने 103 और मुशफिकर रहीम ने 89 रन बनाए। इससे पहले इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने टास जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया। दो बहनों से शादी करने वाले महमूदुल्लाह और रहीम ने पांचवें विकेट के लिये 144 गेंद में 141 रन जोड़े। एक समय बांग्लादेश ने 22वें ओवर में चार विकेट 99 रन पर गंवा दिये थे। महमूदुल्लाह ने अपनी पारी में सात चौके और एक छक्का लगाया । इससे पहले विश्व कप में सर्वोच्च स्कोर का बांग्लादेशी रिकार्ड तामिम इकबाल के नाम था जिसने पिछले सप्ताह नेल्सन में स्काटलैंड के खिलाफ 95 रन बनाये थे। रहीम ने अपनी 77 गेंद की पारी में आठ चौके और एक छक्का जड़ा।

अब तक चार मैचों में सिर्फ एक जीत दर्ज कर सकी इंग्लैंड टीम को न सिर्फ आज बांग्लादेश को हराना होगा बल्कि 13 मार्च को अफगानिस्तान को भी शिकस्त देनी होगी। बांग्लादेश के पांच और इंग्लैंड के दो अंक हैं। बांग्लादेश यदि 13 मार्च को हैमिल्टन में न्यूजीलैंड को हरा देता है तो क्वार्टर फाइनल में पहुंच जाएगा। तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने पहले दो ओवर में बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाजों इमरूल कायेस और तामिम इकबाल को पवेलियन भेजा। बांग्लादेश का स्कोर दो विकेट पर आठ रन हो गया था। टीम में अनामुल हक की जगह लेने वाले कायेस चौथी गेंद पर तीसरी स्लिप में क्रिस जोर्डन को कैच दे बैठे। वहीं तामिम ने दूसरी स्लिप में जो रूट को कैच दिया।

इसके बाद सौम्या सरकार और महमूदुल्लाह ने तीसरे विकेट के लिये 88 रन की साझेदारी करके टीम को संकट से निकाला। सरकार ने पांच चौकों और एक छक्के के साथ 40 रन बनाए। वह जोर्डन की गेंद पर विकेटकीपर जोस बटलर को कैच देकर आउट हुए। उस समय बांग्लादेश का स्कोर 21वें ओवर में 94 रन था। पांच रन बाद इंग्लैंड के आफ स्पिनर मोईन अली ने स्टार हरफनमौला शाकिब अल हसन को स्लिप में रूट के हाथों लपकवाया। महमूदुल्लाह 46वें ओवर में रन आउट हो गए। वहीं दो ओवर बाद रहीम भी अपना विकेट गंवा बैठे। इसके बावजूद बांग्लादेश ने आखिरी 10 ओवरों में 78 रन बनाए। इंग्लैंड के लिये एंडरसन और जोर्डन ने दो दो विकेट लिये जबकि क्रिस वोक्स ने 10 ओवर में 64 रन दे डाले और उन्हें कोई विकेट नहीं मिली।

Published in खेल

सिडनी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 377 रनों के विशालकाय लक्ष्य का पीछा करते हुए श्रीलंका के लिए तिल्करत्ने दिलशान ने अनोखा कारनामा कर दिखाया । दिलशान ने मिचेल जॉनसन के ओवर की हर एक गेंद पर चौका जड़ा, यानी कि 6 गेंदों में 6 चौके। दिलशान यहीं नहीं रूके फिर उन्होंने अगले ओवर में वॉटसन की गेंद पर भी चौका लगाया। इस तरह उन्होंने 7 गेंदों में 7 चौके जड़ दिए। 

पांचवें ओवर में कप्तान क्लार्क ने मिचेल जॉनसन को गेंद थमाई। स्ट्राइक पर दिलशान थे। मिच की इस ओवरपिच्ड गेंद पर दिलशान ने लॉन्ग ऑफ की तरफ चौका मारा। अगली गेंद पर दिलशान ने स्ट्रेट ड्राइव मारी। पांचवें ओवर की तीसरी गेंद फुल डिलिवरी थी जिसे डीप मिडविकेट की तरफ दिलशान ने टिकाया और उन्हें चौका मिला। चौथी गेंद मिचेल ने शॉर्ट लैंथ डाली लेकिन बैक्वर्ड स्क्वायर की तरफ चौका खाया। पांचवीं गेंद जॉनसन ने ओवरपिच्ड लैंथ डाली, इसे भी दिलशान ने बाउंडरी के पार पहुंचाया। आवेर की अंतिम गेंद फुलर डिलिवरी थी, लेकिन इसे एक्स्ट्रा कवर बाउंडी की तरफ भेजते हुए दिलशान ने एक ओवर में 6 चौके लगा डाले। 

इसके बाद छठे ओवर के लिए वॉटसन के पास गेंद गई और स्ट्राइक पर संगकारा आए। उन्होंने एक्स्ट्रा कवर की तरफ गैप में गेंद डाली और 3 रन लिए। छठे ओवर की दूसरी गेंद पर स्ट्राइक एक बार फिर दिलशान के पास आई और इस बार अपना मशहूर "दिलस्कूप" लगाते हुए दिलशान ने एक और चौका जड़ दिया। इस तरह उन्होंने 7 गेंदों पर लगातार 7 चौके जमाए।

 

Published in खेल

नेपियर : न्यूजीलैंड ने मैकलीन पार्क मैदान पर रविवार को खेले गए आईसीसी विश्व कप-2015 के पूल-ए के पांचवें मुकाबले में अफगानिस्तान को 6 विकेट से हरा दिया। यह न्यूजीलैंड की लगातार पांचवीं जीत है जबकि अफगानिस्तान टीम को चौथी हार।

अफगानिस्तान को 186 रन के योग पर समेटने के बाद न्यूजीलैंड ने मार्टिन गुप्टिल (57), कप्तान ब्रेंडन मैक्लम (42), केन विलियमसन (33), रॉस टेलर (नाबाद 24) और ग्रांट इलियट (19) की उम्दा बल्लेबाजी के दम पर 36.1 ओवरों में चार विकेट गंवाकर जीत हासिल कर ली।

इससे पहले, अफगान टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और मैन ऑफ द मैच चुने गए डेनियल विटोरी (18-4) और ट्रेंट बाउल्ट (34-3) की उम्दा गेंदबाजी के आगे 47.4 ओवर ही खेल सकी. उसके लिए हालांकि समीउल्लाह सेनवारी और नजीबुल्लाह जादरान ने अर्धशतक लगाए।

Published in खेल

पर्थ : गेंदबाजी में लय आने का श्रेय शोएब अख्तर को देते हुए भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कहा कि पाकिस्तान के दिग्गज गेंदबाज ने उन्हें रन अप छोटा करने की सलाह दी थी जिससे उन्हें अपनी गति बढ़ाने में मदद मिली।

शमी ने मैच के बाद कहा, ‘हाल में रन अप में बदलाव करने से निश्चित तौर पर मेरी गति बढ़ी है। इसलिए मैंने इसे जारी रखा और उम्मीद करता हूं कि इससे काफी फायदा होगा। मैंने शोएब अख्तर भाई से बात की और उन्होंने कहा कि मुझे लंबे कदम नहीं रखने चाहिए। मैंने कदमों के बीच दूरी कम की और इससे फायदा मिला। नया रन अप सहज है और इससे मेरी गति में भी इजाफा हुआ है।’

चोट के बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ वापसी करने वाले शमी ने वाका पर तीन विकेट चटकाए जिससे भारत लगातार चौथी जीत के साथ पूल बी से क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहा। भारतीय टीम को लीग के अपने अंतिम दो मैच न्यूजीलैंड में खेलने हैं और शमी अपने एक्शन में और बदलाव किए बगैर अच्छा प्रदर्शन जारी रखना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, ‘मैं अपने एक्शन में अधिक बदलाव नहीं करना चाहता। अधिकांश पूर्व खिलाड़ियों ने मुझे एक्शन में बड़ा बदलाव नहीं करने की सलाह दी है। एक्शन बदलने से आपको फायदा भी हो सकता है और नुकसान भी। मैं इस भ्रम में नहीं पड़ना चाहता और अपने रन अप में किए छोटे बदलाव से खुश हूं।’

Published in खेल
Page 3 of 7