Wed12112019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home खेल Displaying items by tag: world cup
Displaying items by tag: world cup - दिव्य इंडिया न्यूज़

मेलबर्न : चार सौ वनडे खेलने वाले दुनिया के चौथे बल्लेबाज बने कुमार संगकारा के शतक और तिलकरत्ने दिलशान की 161 रन की नाबाद पारियों के दम पर श्रीलंका ने गुरुवार को विश्व कप में बांग्लादेश को 92 रन से हरा दिया।

पहले मैच में न्यूजीलैंड से हारने के बाद अफगानिस्तान को दूसरे मैच में बमुश्किल हराने वाली एक बार की चैंपियन और दो बार की उपविजेता श्रीलंकाई टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए एक विकेट पर 332 रन बनाये। जवाब में बांग्लादेश की टीम 47 ओवर में 240 रन ही बना सकी।

एक समय पर बांग्लादेश के पांच विकेट 21वें ओवर में 100 रन पर गिराने के बाद श्रीलंकाई टीम को शाकिब अल हसन (46) और शब्बीर रहमान (53) ने जीत के लिये इंतजार करने पर मजबूर किया।

इससे पहले शुरुआती मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ 233 रन पर आउट होने के बाद अफगानिस्तान के खिलाफ 232 रन का लक्ष्य हासिल करने के लिये मशक्कत करने वाली श्रीलंकाई टीम ने आखिरकार उम्दा बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया। दूसरी ओर बांग्लादेश की फील्डिंग बेहद खराब थी जिसने पांच मौके गंवा दिये।

दिलशान ने पहले विकेट के लिये लाहिरू तिरिमन्ने (52) के साथ 122 रन जोड़े। इसके बाद संगकारा के साथ दूसरे विकेट के लिये 210 रन की नाबाद साझेदारी की। संगकारा ने अपने 22वें वनडे शतक में 13 चौके और एक छक्का लगाया।

दिलशान ने 17वें वनडे शतक में 22 चौके लगाये। तिरिमन्ने को अर्धशतकीय पारी में तीन जीवनदान मिले। अनामुल हक ने बांग्लादेशी कप्तान मशरेफ मुर्तजा के पहले ही ओवर में उनका कैच पहली स्लिप में छोड़ा। उस समय तिरिमन्ने का स्कोर 22 रन था। इसके बाद 44 के स्कोर पर शब्बीर रहमान की गेंद पर मुशफिकर रहीम ने उन्हें स्टम्प आउट करने का मौका गंवाया।

उन्हें रूबेल की गेंद पर फिर जीवनदान मिला जब प्वाइंट में मोमिनुल हक ने उनका कैच टपकाया। संगकारा ने आखिरी ओवर में अपना शतक पूरा किया। वह 400 वनडे मैच खेलने वाले चौथे क्रिकेटर बन गए। उनसे अधिक वनडे भारत के सचिन तेंदुलकर (463), श्रीलंका के सनत जयसूर्या (445) और मौजूदा टीम में साथी खिलाड़ी महेला जयवर्धने (444) ने खेले हैं।

बांग्लादेश के लिये तस्कीन ने 10 ओवर में 82 रन दे डाले और उन्हें विकेट भी नहीं मिला। बांग्लादेश की पारी की शुरुआत बेहद खराब रही और दूसरी ही गेंद पर लसिथ मलिंगा ने सलामी बल्लेबाज को बोल्ड कर दिया। उस समय स्कोर बोर्ड पर एक भी रन नहीं टंगा था। सौम्या सरकार (25) और अनामुल हक (29) ने दूसरे विकेट के लिये 40 रन जोड़े जब एंजेलो मैथ्यूज की गेंद को आगे बढकर खेलने के प्रयास में सरकार चूके और विकेट के पीछे संगकारा ने कुशल स्टम्पिंग का नमूना पेश किया।

स्कोर बोर्ड में एक रन जुड़ा था कि नये बल्लेबाज मोमिनुल हक ने सुरंगा लकमल की गेंद पर जयवर्धने को कैच थमा दिया। अनामुल हक (29) और महमूदुल्लाह (28) बड़ी पारियां नहीं खेल सके।

शाकिब और मुशफिकर रहीम ने छठे विकेट के लिये 64 रन की साझेदारी की। शाकिब ने 59 गेंद की पारी में चार चौके और एक छक्का लगाया । निचले क्रम में शब्बीर ने 62 गेंद में सात चौकों की मदद से 53 रन बनाये लेकिन जीत का लक्ष्य इतना बड़ा था कि इस पारी का कोई असर नहीं होना था।

श्रीलंका के लिये लसिथ मलिंगा ने तीन विकेट लिये जबकि सुरंगा लकमल और तिलकरत्ने दिलशान को दो-दो विकेट मिले।

Published in खेल

डुनेडिन : सामिउल्लाह शेनवारी की कैरियर की सर्वश्रेष्ठ 96 रन की पारी की मदद से अफगानिस्तान ने विश्व कप के रोमांचक मुकाबले में आज स्काटलैंड को तीन गेंद बाकी रहते एक विकेट से हराकर टूर्नामेंट में पहली जीत दर्ज की।

पहली बार विश्व कप खेल रहे अफगानिस्तान ने 211 रन का लक्ष्य 29.3 ओवर में हासिल करके युद्ध की विभीषिका झेल चुके अपने देशवासियों को जश्न मनाने का मौका दिया।

अपने कई साथी खिलाड़ियों की तरह शरणार्थी शिविरों में क्रिकेट का ककहरा सीखने वाले सामिउल्लाह शेनवारी ने 96 रन की पारी खेलकर टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचाया। एक समय पर उसके सात विकेट सिर्फ 97 रन पर गिर गए थे। जावेद अहमदी ने 51 रन का योगदान दिया जबकि पुछल्ले बल्लेबाज शापूर जदरान ने विजयी रन बनाये।

तीसरी बार विश्व कप खेल रहे स्काटलैंड की यह 11 मैचों में 11वीं हार थी। टास जीतकर पहले गेंदबाजी का अफगानिस्तान का फैसला हालांकि सही साबित होता दिख रहा था जब स्काटलैंड के शुरुआती विकेट जल्दी गिर गए। नौवें विकेट के लिये हालांकि 62 रन की साझेदारी की मदद से स्काटलैंड ने पहली बार विश्व कप में 200 रन का आंकड़ा पार किया। इससे पहले उसका सर्वोच्च स्कोर 186 रन था जो उसने 2007 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बनाया था।

स्काटलैंड के बल्लेबाजों ने अच्छी शुरुआत की लेकिन उन्हें बड़ी पारियों में नहीं बदल सके। अफगानिस्तान के लिये बायें हाथ के तेज गेंदबाज शापूर जदरान ने 38 रन देकर चार विकेट लिये। दौलत जदान ने 29 रन देकर तीन विकेट चटकाये।

उन्होंने दूसरे ही ओवर में कालम मैकलियोड को खाता खोले बिना पवेलियन रवाना किया। उनका कैच बैकवर्ड प्वाइंट पर नजीबुल्लाह जदरान ने लपका। अब तक तीन पारियों में मैकलियोड सिर्फ चार रन बना सके हैं।

हालीवुड अभिनेता सिल्वेस्टर स्टेलान के ‘रेम्बो’ लुक से प्रेरित होकर सिर पर बैंडाना पहनने वाले हामिद हसन ने 11वें ओवर में हामिश गार्डिनेर को पगबाधा आउट करके स्काटलैंड पर दबाव बढाया। दो गेंद बाद काइले कोएत्जर : 25 : भी दौलत जदरान की गेंद पर बोल्ड होकर पवेलियन लौट गए। कप्तान प्रेस्टन मोम्मसेन और मैट मचान ने 61 गेंद में 53 रन की साझेदारी की। मोहम्मद नबी ने मचान को आउट करके इसे तोड़ा। अगले ओवर में मोम्मसेन (23) भी विकेटकीपर अफसर जजाइ को कैच देकर पवेलियन लौट गए। मजीद हक (31) और एलेस्डेयर इवांस (28) ने नौवें विकेट के लिये अर्धशतकीय साझेदारी करके टीम को 200 रन के पार पहुंचाया।

अफगान टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए उम्दा आगाज किया। सलामी बल्लेबाज अहमदी ने पांचवां वनडे अर्धशतक 48 गेंदों में पूरा किया। अहमदी के आउट होने के बाद हालांकि अफगानिस्तान के विकेट जल्दी गिर गए। दो गेंद बाद मोहम्मद नबी (0) अपना विकेट गंवा बैठे।

शेनवारी को 20 के निजी योग पर स्लिप में मजीद हक ने जीवनदान दिया। उसने हालांकि नजीबुल्लाह जदरान और गुलबदन नाइब को लगातार दो गेंदों पर आउट करके अफगानिस्तान को संकट में डाल दिया। शेनवारी ने हालांकि सूझबूझ भरी पारी खेलते हुए सात चौकों और पांच छक्कों की मदद से 147 गेंद में 96 रन बनाये।

हक के एक ही ओवर में उन्होंने तीन छक्के जड़े लेकिन चौथा छक्का लगाने के प्रयास में आउट हो गए। उस समय भी अफगानिस्तान को 19 गेंद में 19 रन चाहिये थे। शापूर और हसन ने संयम नहीं खोते हुए टीम को जीत तक पहुंचाया। शापूर ने वार्डला के आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर चौका जड़कर विजयी रन बनाये।

Published in खेल

ब्रिस्बेन : गैरी विल्सन और केविन ओ ब्रायन की सही समय पर खेली गयी अर्धशतकीय पारियों से आयरलैंड ने आज यहां शेमान अनवर के शतकीय प्रयास को बेकार करके विश्व कप ग्रुप बी के उतार चढाव वाले मैच में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पर दो विकेट की रोमांचक जीत दर्ज की।

पहले बल्लेबाजी का न्यौता पाने वाले यूएई के लिये अनवर (106) ने शतक जड़ा। वह विश्व कप में सैकड़ा लगाने वाले यूएई के पहले खिलाड़ी भी बने। उन्होंने ऐसे समय में यह पारी खेली जबकि टीम ने छह विकेट 131 रन पर गंवा दिये थे। अनवर और अमजद जावेद (42) ने सातवें विकेट के लिये 107 रन की रिकार्ड साझेदारी करके टीम को नौ विकेट पर 278 रन के बड़े स्कोर तक पहुंचाया।

अपने पहले मैच में वेस्टइंडीज को हराकर सनसनी फैलाने वाले ‘जाइंट किलर’ आयरलैंड के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज अपनी अच्छी शुरूआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाये। पारी के 26वें ओवर में वह चार विकेट पर 97 रन बनाकर संघर्ष कर रही था। इसके बाद विल्सन (80) ने एक छोर संभाला जबकि केविन ओ ब्रायन ने 25 गेंदों पर आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 50 रन की तूफानी पारी खेली। इससे आयरलैंड 49.2 ओवर में आठ विकेट पर 279 रन बनाने में सफल रहा। आयरलैंड की यह दो मैचों में दूसरी जीत है जिससे उसके चार अंक हो गये हैं। इससे वह ग्रुप बी में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। यूएई को लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा। वह पहले मैच में जिम्बाब्वे से हार गया था।

विल्सन और एंडी बालबिर्नी ने पांचवें विकेट के लिये 72 रन जोड़कर टीम को संकट से बाहर निकाला। इसके बाद विल्सन और केविन ओ ब्रायन ने छठे विकेट के लिये 74 रन जोड़े लेकिन डेथ ओवरों में इन दोनों के आउट होने से मुकाबला रोमांचक बन गया। विल्सन जब मोहम्मद नवीद की गेंद पर कैच देकर पवेलियन लौटे तब आयरलैंड को जीत के लिये 16 गेंद पर 12 रन की दरकार थी। विल्सन ने अपनी 69 गेंद की पारी में नौ चौके लगाये। आयरलैंड के सामने आखिरी दो ओवरों में 10 रन का लक्ष्य था लेकिन उसके केवल दो विकेट बचे हुए थे।

जार्ज डाकरेल (नाबाद सात) और अलेक्स कुसाक (नाबाद पांच) टीम को लक्ष्य तक पहुंचाने में सफल रहे। आयरलैंड को आखिरी दस ओवरों में 95 रन की दरकार थी और केविन ओ ब्रायन की तूफानी पारी से वह अपना अजेय अभियान बरकरार रखने में सफल रहा। इस बीच यूएई के क्षेत्ररक्षकों ने कुछ कैच छोड़कर उसकी मदद की। यूएई की तरफ से अमजद जावेद ने तीन जबकि नवीद और तौकिर ने दो दो विकेट लिये।

इससे पहले अमीरात शीर्ष क्रम के दो बल्लेबाजों अमजद अली (45) और खुर्रम खान (36) की पारियों के बावजूद एक समय संघर्ष कर रहा था लेकिन अनवर और अमजद ने टीम को संकट से उबारा। उन्होंने विश्व कप में सातवें विकेट की साझेदारी का नया रिकॉर्ड भी बनाया।

अनवर का विश्व कप में इससे पहले सर्वोच्च स्कोर 67 रन था जो उन्होंने पहले मैच में जिम्बाब्वे के खिलाफ बनाया था। अनवर ने अपना शतक 79 गेंद में 10 चौकों और एक छक्के की मदद से पूरा किया। वह 106 रन बनाकर मैक्स सोरेंसेन की गेंद पर विकेटकीपर गैरी विल्सन को कैच देकर पवेलियन लौट गए। अनवर वनडे क्रिकेट में शतक जमाने वाले अमीरात के दूसरे बल्लेबाज है। उनके अलावा खुर्रम खान यह कारनामा कर चुके हैं जिन्होंने पिछले साल अफगानिस्तान के खिलाफ 132 रन बनाये थे। आयरलैंड की तरफ से आफ स्पिनर पाल स्टर्लिंग ने 10 ओवर में 27 रन देकर दो विकेट लिये।

Published in खेल
कैनबरा : वेस्टइंडीज ने आईसीसी क्रिकेट विश्व कप मैच में आज यहां जिंबाब्वे को डकवर्थ लुइस पद्धति के आधार पर 73 रन से हराया। इससे पहले क्रिस गेल ने अपने आलोचकों को करारा जवाब देते हुए  विश्व कप का पहला दोहरा शतक जड़ा और इस बीच मलरेन सैमुअल्स (नाबाद 133) के साथ दूसरे विकेट के लिये एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की रिकार्ड साझेदारी निभायी जिससे वेस्टइंडीज ने विश्व कप पूल बी के मैच में जिम्बाब्वे के खिलाफ दो विकेट पर 372 रन का विशाल स्कोर बनाया।
खराब फार्म के कारण आलोचकों के निशाने पर रहे गेल ने अपनी 147 गेंद पर 215 रन बनाये जिसमें दस चौके और 16 छक्के शामिल हैं। वह वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले कुल चौथे और पहले गैर भारतीय बल्लेबाज हैं। गेल से पहले भारत के सचिन तेंदुलकर (नाबाद 200), वीरेंद्र सहवाग (219) और रोहित शर्मा (209 और 264 रन) ने वनडे में दोहरे शतक लगाये थे। गेल ने विश्व कप में सर्वाधिक स्कोर का नया रिकार्ड बनाया। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के गैरी कर्स्टन का रिकार्ड तोड़ा जिन्होंने यूएई के खिलाफ 1996 में रावलपिंडी में नाबाद 188 रन बनाये थे। गेल ने यह पारी तब खेली जबकि वेस्टइंडीज ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दूसरी गेंद पर ही ड्वेन स्मिथ (शून्य) का विकेट गंवा दिया था। गेल पारी की आखिरी गेंद पर आउट हुए। उन्होंने सैमुअल्स के साथ दूसरे विकेट के लिये 372 रन की साझेदारी करके वनडे का नया रिकार्ड बनाया। इससे पहले का रिकार्ड तेंदुलकर और द्रविड़ के नाम पर था जिन्होंने 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैदराबाद में 331 रन जोड़े थे। गेल पिछले कुछ समय से रन बनाने के लिये जूझ रहे थे जिसके कारण उनकी काफी आलोचना हो रही थी। बायें हाथ के इस बल्लेबाज पर इसका काफी दबाव था यही वजह रही कि उन्होंने काफी धीमी शुरुआत की लेकिन आखिर में उनके तूफानी तेवरों के कारण वेस्टइंडीज आखिरी 13 ओवरों में 195 रन बनाने में सफल रहा। इनमें से 152 रन आखिरी दस ओवरों में बने।
गेल ने पहले 50 रन 51 गेंदों पर पूरे किये जबकि वह 105वीं गेंद का सामना करके शतक तक पहुंचे। यह वनडे में उनका 22वां शतक है। इसके बाद उन्होंने केवल 21 गेंद पर अगला पचासा ठोका और फिर जल्द ही अपना पिछला सर्वोच्च स्कोर (नाबाद 153 रन) पार किया। गेल ने 150 से 200 रन तक पहुंचने के लिये केवल 12 गेंद खेली और 138 गेंदों पर अपना पहला दोहरा शतक पूरा किया। वह दुनिया के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गये हैं जिन्होंने टेस्ट में तिहरा, वनडे में दोहरा और टी20 में शतक जड़ा हो। भाग्य ने भी गेल का साथ दिया क्योंकि जब वह 121 रन पर खेल रहे थे तब टिनसे पेनयांगरा की गेंद पर उन्होंने कैच थमा दिया लेकिन वह नोबाल निकल गयी। गेल ने उन्होंने स्पिनर तफादजवा कामुनगोजी के एक ओवर में दो चौकों और दो छक्कों की मदद से 21 रन बटोरे और फिर सीन विलियम्स के अगले ओवर में तीन छक्के जड़कर विश्व कप और वेस्टइंडीज की तरफ से वनडे में सर्वाधिक स्कोर का नया रिकार्ड बनाया। टेंडाई चतारा की गेंद चार रन के लिये भेजकर गेल ने अपना दोहरा शतक पूरा किया। वेस्टइंडीज की तरफ से इससे पहले वनडे में सर्वोच्च स्कोर का रिकार्ड विव रिचर्डस (189) के नाम पर था। दूसरे छोर पर सैमुअल्स शुरू से रन बनाने के लिये जूझते रहे लेकिन बाद में उन्होंने गेल से सबक लेकर कुछ अच्छे शाट लगाये। सैमुअल्स ने 95 गेंदों का सामना करके अपना अर्धशतक पूरा किया था। उन्होंने अपनी नाबाद पारी में कुल 156 गेंद खेली तथा 11 चौके और तीन छक्के लगाये। उन्होंने पारी के 49वें ओवर में पेनयांगरा पर 22 रन बटोरकर अपना स्ट्राइक रेट सुधारा। चतारा की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण हैमिल्टन मासकादजा पारी की आखिरी दो गेंद करने के लिये आये। गेल ने आखिरी गेंद पर मिडविकेट पर कैच थमाया।
Published in खेल

क्राइस्टचर्च:  मोईन अली के शतक की बदौलत इंग्लैंड ने आज पूल ए के मैच में स्काटलैंड को 119 रन से हराकर विश्व कप में पहली जीत दर्ज की ।

अली के 128 रन की मदद से इंग्लैंड ने आठ विकेट पर 303 रन बनाये । जवाब में स्काटलैंड की टीम 42 . 2 ओवर में 184 रन पर आउट हो गई । आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड से हारने के बाद इंग्लैंड को खोया आत्मविश्वास हासिल करने के लिये धमाकेदार जीत की दरकार थी लेकिन स्काटलैंड जैसी कमजोर टीम के खिलाफ यह जीत उतनी प्रभावशाली नहीं रही ।

इंग्लैंड की टीम ने एक समय दो विकेट पर 202 रन बना लिये थे और लग रहा था कि टीम विशाल स्कोर बनायेगी । अली और इयान बेल ने पहले विकेट के लिये 172 रन की साझेदारी की जो अब तक टूर्नामेंट में पहले विकेट के लिये सबसे बड़ी साझेदारी है । इसके बाद इंग्लैंड ने छह विकेट आखिरी 15 ओवर में 102 रन के भीतर गंवा दिये ।

अली को दूसरे ओवर में जीवनदान मिला था जब फ्रेडी कोलमैन उनका कैच लपकने में नाकाम रहे । स्विंग गेंदबाजों की मददगार विकेट पर अली ने आक्रामक बल्लेबाजी की । उन्होंने 107 गेंद की अपनी पारी में 12 चौके और पांच छक्के लगाये । बेल को भी पारी की शुरूआत में जीवनदान मिला जब एलेस्डेयर इवांस की गेंद पर उनकी पगबाधा की अपील खारिज हो गई । स्काटलैंड ने अपील नहीं की लेकिन रिप्ले से जाहिर था कि गेंद लेग स्टम्प पर पड़ रही थी ।

उन्हें आखिर में रिची बैरिंगटन ने पवेलियन भेजा और कैच काइले कोएत्जर ने लपका । अली को आफ स्पिनर मजीद हक ने आउट किया । अली के आउट होने के बाद इंग्लैंड के तीन विकेट दो रन और 10 गेंद के भीतर गिर गए । गैरी बालांस और जो रूट टिक नहीं सके । इंग्लैंड का स्कोर एक विकेट पर 201 रन से चार विकेट पर 203 रन हो गया ।

जेम्स टेलर और जोस बटलर अच्छी शुरूआत को बड़ी पारी में नहीं बदल सके । कप्तान इयोन मोर्गन ने जरूर 46 रन बनाकर टीम को 300 के पार पहुंचाया । स्काटलैंड के लिये जोश डावे ने 10 ओवर में 68 रन देकर चार विकेट लिये ।

जीत के लिये 304 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए स्काटलैंड की टीम के लिये सलामी बल्लेबाज कोएत्जर ने 84 गेंद में 11 चौकों की मदद से 71 रन बनाये । उनके अलावा कोई बल्लेबाज प्रभावी प्रदर्शन नहीं कर सका । प्रेस्टन मोम्मसेन और कोएत्जर के बीच चौथे विकेट की 60 रन की साझेदारी को तोड़कर जो रूट ने मैच पूरी तरह से इंग्लैंड की गिरफ्त में ला दिया । इंग्लैंड के लिये स्टीवन फिन ने 26 रन देकर तीन विकेट लिये ।

Published in खेल

नई दिल्ली। वर्ल्ड कप 2015 में भारत और वेस्ट इंडीज के हाथों लगातार दो हार के बाद पाकिस्तानी टीम प्रशंसकों और आलोचकों के निशाने पर हैं। पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने टीम के कप्तान मिस्बाह उल हक को निशाने पर लेते हुए उन्हें "कायर और स्वार्थी" करार दिया। अख्तर के साथ ही पाकिस्तान के अन्य पूर्व खिलाडियों ने भी टीम मैनेजमेंट और पीसीबी को आड़े हाथों लिया। 

अख्तर ने कहाकि, मैं पिछले कई दिनों से कह रहा हूं कि हमारी बुरी गत होने वाली है। मैंने मिस्बाह जितने कायर और स्वार्थी कप्तान को पहले कभी नहीं देखा। जब उसे पता है कि टीम की फॉर्म ठीक नहीं है और एक प्रेरणादायी लीडर की जरूरत है तो वह बल्लेबाजी के लिए वह ऊपर क्यों नहीं आते और यूनिस व अन्य आउट ऑफ फॉर्म बल्लेबाजों को बचाएं। 

उन्होंने साथ ही वर्ल्ड कप के बाद टीम में बदलाव की वकालत भी की। अख्तर ने कहाकि, मिस्बाह हमेशा से स्वार्थी खिलाड़ी रहे हैं और पहले अपने रनों की चिंता करते हैं और बाद में टीम के लिए सोचते हैं। पूर्व स्पिनर सकलैन मुश्ताक और मोहम्मद युसूफ ने भी टीम सलेक्शन पर सवाल उठाए। 

Published in खेल

मेलबर्न : शिखर धवन की कैरियर की सर्वश्रेष्ठ शतकीय पारी की मदद से भारत ने रविवार को विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका पर पहली जीत दर्ज करते हुए उसे 130 रन से हराया जो क्रिकेट के इस महासमर में उसकी सबसे बड़ी हार है।

धवन के 146 गेंद में 137 रन और अजिंक्य रहाणे के 60 गेंद में 79 रन की मदद से भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट पर 307 रन बनाये थे। जवाब में दक्षिण अफ्रीका की पूरी टीम 40.2 ओवर में 177 रन पर आउट हो गई। विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अब तक खेले गए चार मैचों में भारत की यह पहली जीत है।

भारत के लिये स्पिनर आर अश्विन ने 10 ओवर में 41 रन देकर तीन विकेट लिये जबकि मोहम्मद शमी और मोहित शर्मा को दो-दो विकेट मिले। दक्षिण अफ्रीका के लिये फाफ डु प्लेसिस (55) को छोड़कर कोई बल्लेबाज अच्छी पारी नहीं खेल सका।

इससे पहले भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप में अपना सर्वोच्च स्कोर बनाया। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप में उसका सर्वाधिक स्कोर 296 रन था जो 2011 में उसने नागपुर में बनाया था।

डैथ ओवरों में हालांकि भारतीय बल्लेबाजों का प्रदर्शन निराशाजनक रहा और आखिरी 39 गेंद में भारत ने 46 रन बनाकर पांच विकेट गंवाये। धवन ने अपना सातवां वनडे शतक जड़ते हुए 16 चौके और दो छक्के लगाये। विश्व कप में किसी भी बल्लेबाज का दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यह सर्वोच्च स्कोर है।

धवन ने 2013 चैम्पियंस ट्राफी में भी कार्डिफ में खेले गए मैच में इसी टीम के खिलाफ शतक जड़ा था। भारतीय शीषर्क्रम ने एक बार फिर उम्दा प्रदर्शन किया। धवन और विराट कोहली ने दूसरे विकेट के लिये 127 रन जोड़े। पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में शतक जमाने वाले कोहली ने 60 गेंद में 46 रन बनाये। लेग स्पिनर इमरान ताहिर ने उन्हें शार्ट मिडविकेट पर फाफ डु प्लेसिस के हाथों लपकवाया। रहाणे ने पाकिस्तान के खिलाफ नाकाम रहने का गम भुलाते हुए बेहतरीन बल्लेबाजी की। उन्होंने धवन के साथ तीसरे विकेट के लिये 16.3 ओवर में 125 रन की साझेदारी की। अपनी पारी में उन्होंने सात चौके और तीन छक्के लगाये।

धवन ने अपनी पारी में कई खूबसूरत स्ट्रोक्स लगाये। मेलबर्न वैसे भी उनका दूसरा घर है क्योंकि भारतीय टीम के साथ दौरे पर नहीं होने पर वह अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ यही रहते हैं। उन्हें 52 के स्कोर पर जीवनदान भी मिला जब परनेल की गेंद पर बैकवर्ड प्वाइंट पर हाशिम अमला ने उनका कैच टपकाया।

उन्होंने परनेल को ही चौका जड़कर अपना शतक पूरा किया। इसके बाद हेलमेट उतारकर बल्ला ऊपर उठाकर उन्होंने पंख की तरह हाथ फैलाते हुए इसका जश्न मनाया। धवन ने पहला छक्का स्टेन को लगाया जबकि दूसरा मोर्कल को जड़ा। रहाणे ने भी स्टेन को लांग आफ पर छक्का जड़ा।

दक्षिण अफ्रीका के लिये स्टेन ने आखिरी ओवर में चार खाली गेंदें फेंकी। उन्होंने 10 ओवर में 55 रन देकर एक विकेट लिया जबकि मोर्नी मोर्कल ने नौ ओवर में 59 रन देकर दो विकेट चटकाये। परनेल ने नौ ओवर में 85 रन देकर एक विकेट लिया।

मैदान पर जमा कुल 86786 दर्शकों में कम से कम 75000 भारतीय प्रशंसक थे। चैम्पियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी भारतीय टीम की हौसलाअफजाई के लिये पहुंचे थे। भारतीय गेंदबाजों ने भी एक बार फिर एक ईकाई के रूप में उम्दा प्रदर्शन किया। दक्षिण अफ्रीका की शुरूआत बेहद खराब रही और चौथे ही ओवर में सलामी बल्लेबाज किंटोन डिकाक (7) को शमी ने कोहली के हाथों लपकवाया। हाशिम अमला ने भी 11वें ओवर में मोहित की गेंद पर शमी को कैच थमाया । वह सिर्फ 22 रन बना सके।

कप्तान एबी डिविलियर्स (30) ने आते ही कुछ अच्छे स्ट्रोक्स लगाये लेकिन उनके आउट होने के बाद दक्षिण अफ्रीका मैच में लौट ही नहीं सका। खतरनाक डिविलियर्स को मोहित शर्मा ने सटीक थ्रो पर रन आउट किया। एक समय डिविलियर्स और फाफ डु प्लेसिस ने तीसरे विकेट के लिये 68 रन जोड़ लिये थे। डिविलियर्स के रन आउट होने के समय दक्षिण अफ्रीका का स्कोर दो विकेट पर 108 रन था। डु प्लेसिस ने मोहित की गेंद पर खराब पुल शाट खेला और कवर्स में धवन को कैच दे बैठे। इसके बाद दक्षिण अफ्रीका की टीम वापसी नहीं कर सकी।

जेपी डुमिनी (6) को अश्विन ने पवेलियन भेजा और पुछल्ले बल्लेबाजों से किसी चमत्कार की उम्मीद करना बेमानी थी। भारत को अब अगला मैच 28 फरवरी को संयुक्त अरब अमीरात से खेलना है। भारत के पास अब पूल की शीर्ष टीम के रूप में क्वार्टर फाइनल में प्रवेश का सुनहरा मौका है।

Published in खेल

ड्यूनेडिन : अनुभवी माहेला जयवर्धने की सही वक्त पर खेली गयी जुझारू शतकीय पारी से श्रीलंका ने अफगानिस्तान के खिलाफ कुछ विषम पलों से गुजरने के बाद विश्व कप क्रिकेट के पूल ए के मैच में आज यहां चार विकेट से करीबी जीत दर्ज की।

यूनिवर्सिटी ओवल मैदान पर 233 रन का पीछा करते हुए श्रीलंका का स्कोर एक समय चार विकेट पर 51 रन था। इसके बाद जयवर्धने (100) और कप्तान एंजेलो मैथ्यूज (44) ने पांचवें विकेट के लिए 126 रन की साझेदारी निभाकर टीम को संकट से उबारा। बाद में तिसारा परेरा ने नाबाद 47 रन की तेजतर्रार पारी खेली जिससे श्रीलंका ने 48.2 ओवर में छह विकेट पर 236 रन बनाकर विश्व कप 2015 में अपनी पहली जीत दर्ज की।

इससे पहले अफगानिस्तान की टीम पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर 49.4 ओवर में 232 रन बनाकर आउट हो गयी थी। उसकी तरफ से शीर्ष क्रम के बल्लेबाज अशगर स्टैनिकजई (54) ने अर्धशतक जमाया। उन्होंने और समीउल्लाह शेनवारी (38) ने तीसरे विकेट के लिये 88 रन की साझेदारी करके टीम को शुरूआती झटकों उबारा। श्रीलंका की तरफ से तेज गेंदबाज लेसिथ मलिंगा और मैथ्यूज ने तीन-तीन विकेट लिए। श्रीलंका की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उसके सलामी बल्लेबाज लाहिरू तिरिमाने और तिलकरत्ने दिलशान खाता भी नहीं खोल पाये।

अफगानिस्तान के नई गेंद के गेंदबाज दौलत जादरान (44 रन देकर एक विकेट) और शापूर जादरान (48 रन देकर एक विकेट) ने अपनी टीम को शुरूआती सफलता दिलायी। कुमार संगकारा (सात) भी अधिक देर तक नहीं टिक पाये। पहले बदलाव के रूप में आये तेज गेंदबाज हामिद हसन (45 रन देकर तीन विकेट) ने उन्हें बोल्ड किया। इसके बाद उन्होंने दिमुथ करूणारत्ने (23) को भी पवेलियन भेजा।

इससे मैच फिर से जीवंत हो गया लेकिन जीवन मेंडिस (नाबाद नौ) और परेरा ने 58 रन की अटूट साझेदारी करके श्रीलंका को पूरे दो अंक दिलाये। पारी के 48वें ओवर में हसन ने मेंडिस को विकेट के पीछे कैच करा दिया था लेकिन बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने रेफरल लिया जिसके बाद तीसरे अंपायर ने फैसला पलट दिया।

श्रीलंका पहले मैच में न्यूजीलैंड से हार गया था और इस तरह से उसने अपनी पहली जीत दर्ज की। अब तक अपने प्रतिद्वंद्वियों को कड़ी टक्कर देने वाले अफगानिस्तान को अब भी पहली जीत की तलाश है। इससे पहले स्टैनिकजई ने पहली बार विश्व कप में भाग ले रहे अफगानिस्तान की पारी को संवारने में अहम भूमिका निभायी।

बायें हाथ के स्पिनर रंगना हेराथ (41 रन देकर एक विकेट) ने उन्हें आउट किया। अपना पांचवां अर्धशतक बनाने वाले स्टैनिकजई ने 57 गेंदों का सामना किया तथा पांच चौके और एक छक्का लगाया। इसके कुछ ओवर बाद तिसारा परेरा (54 रन देकर एक विकेट) ने शेनवारी को भी आउट कर दिया।

नवरोज मंगल (10) को आउट करके श्रीलंका को पहली सफलता दिलाने वाले मैथ्यूज (41 रन देकर तीन विकेट) ने बाद में दो और विकेट चटकाये और अफगानिस्तान के पुछल्ले बल्लेबाजों को रन नहीं जोड़ने दिये। नयी गेंद संभालने वाले सुरंगा लखमल (36 रन देकर दो विकेट) ने भी सलामी बल्लेबाज जावेद अहमदी और नजीबुल्लाह जादरान (10) को आउट किया। अफगानिस्तान ने आखिरी पांच ओवरों में चार विकेट गंवाये और उसकी टीम 49.4 ओवर में आउट हो गयी।

Published in खेल

ब्रिस्बेन। वर्ल्ड कप 2015 में ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश के बीच ग्रुप बी का मुकाबला बारिश के कारण रद्द हो गया है। पिछले कुछ दिनों से यहां पर तूफान मंडरा रहा था और मैच होने पर संदेह बना हुआ था जो शनिवार को सच हो गया। सुबह से ही बारिश का दौर जारी रहा और दिनभर जारी रहा। इसके चलते अंपायरों ने काफी इंतजार के बाद मैच रद्द कर दिया। इसके चलते दोनों टीमों के बीच एक-एक बांट दिया गया। 

इस मैच के रद्द होने के कारण ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क को फिट होनेे के लिए और समय मिल गया है। बांग्लादेश अब गुरूवार को श्रीलंका से और ऑस्ट्रेलिया सहमेजबान न्यूजीलैण्ड से भिड़ेगा। वहीं अंकों के बंटवारे के चलते ऑस्ट्रेलिया अंक तालिका में दूसरे और बांग्लादेश तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। वहीं इस नतीजें ने इंग्लैण्ड की मुश्किलें बढ़ा दी है। 

इंग्लैण्ड को अभी तक खेले गए दोनों मैचों में करारी हार का सामना करना पड़ा है और वह तालिका में सबसे नीचे हैं। ऑस्ट्रेलिया-बांग्लादेश के बीच अंक बंटने के कारण उसके नॉक आउट में जाने पर संकट गहरा गया है। हालांकि अभी उसे चार मैच और खेलने है जिसमें श्रीलंका भी शामिल है। न्यूजीलैण्ड दो मैच में दो जीत के साथ सबसे ऊपर है। ऑस्ट्रेलिया ने पहले मैच में इंग्लैण्ड को हराया था। बांग्लादेश ने अपने पहले मैच में अफगानिस्तान को परास्त किया था और उस जीत से उसे दो अंक मिले थे।

Published in खेल

क्राइस्टचर्च : मध्य और निचले क्रम के बल्लेबाजों के उपयोगी योगदान तथा आंद्रे रसेल के ऑलराउंड खेल से वेस्टइंडीज ने आज यहां पाकिस्तान को 150 रन से करारी शिकस्त देकर विश्व कप क्रिकेट में शानदार वापसी की।

पहले मैच में आयरलैंड से हारने वाले वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर छह विकेट पर 310 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। मध्यक्रम में दिनेश रामदीन (51) और लेंडल सिमन्स (50) ने अर्धशतक जमाए जबकि डेरेन ब्रावो (49 रिटायर्ड हर्ट) और मलरेन सैमुअल्स (38) ने उपयोगी योगदान दिया।

निचले क्रम में डेरेन सैमी (28 गेंद पर 30 रन) और रसेल (13 गेंद पर नाबाद 42) ने तूफानी बल्लेबाजी की जिससे वेस्टइंडीज अंतिम दस ओवरों में 115 रन जोड़ने में सफल रहा। अपने पहले मैच में भारत से पराजित होने वाले पाकिस्तान के बल्लेबाज फिर से नहीं चल पाये और उसकी पूरी टीम 39 ओवरों में 160 रन पर ढेर हो गयी।

जेरोम टेलर (15 रन देकर तीन विकेट) ने पाकिस्तान के शीर्ष क्रम को बुरी तरह चरमरा दिया जिससे स्कोर चार विकेट पर एक रन हो गया जो एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में किसी भी टीम की सबसे खराब शुरुआत है।

रसेल (33 रन देकर तीन विकेट) और स्पिनर सुलेमान बेन (39 रन देकर दो विकेट) ने मध्य और निचले क्रम के बल्लेबाजों को आउट करने में अहम भूमिका निभायी। रसेल को मैन आफ द मैच चुना गया। पाकिस्तान का स्कोर जब 25 रन था तब तक उसकी आधी टीम पवेलियन लौट चुकी थी।

शोएब मकसूद (50) और उमर अकमल (59) ने छठे विकेट के लिये 80 रन जोड़े। शाहिद अफरीदी (28) दोहरे अंक में पहुंचने वाले तीसरे और आखिरी बल्लेबाज थे। वेस्टइंडीज ने विश्व कप 2015 में अपना खाता खोला जबकि लगातार दूसरे मैच में करारी हार से पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ गयी हैं।

टेलर ने इनमें पहले तीन बल्लेबाजों को खाता भी नहीं खोलने दिया। उन्होंने अपने पहले ओवर में जमशेद और यूनिस को आउट करके वेस्टइंडीज को स्वर्णिम शुरूआत दिलायी। कप्तान जैसन होल्डर ने चौथे ओवर की पहली गेंद पर शहजाद को पवेलियन भेजा। क्रीज पर लंबा समय बिताने के लिये मशहूर कप्तान मिसबाह उल हक (सात) भी टिककर नहीं खेल पाये। रसेल ने उन्हें अपना पहला शिकार बनाया।

मकसूद और अकमल ने विकेटों के पतन पर रोक लगायी लेकिन बड़े स्कोर का दबाव उन पर साफ दिख रहा था। बेन ने डेरेन सैमी की गेंद पर मकसूद का दर्शनीय कैच लेकर यह साझेदारी तोड़ी। इसके बाद रसेल और बेन को पुछल्ले बल्लेबाजों को समेटने में कोई परेशानी नहीं हुई। इससे पहले वेस्टइंडीज की शुरूआत भी अच्छी नहीं रही और आठवें ओवर तक उसका स्कोर दो विकेट पर 28 रन था। लेकिन इसके बाद पाकिस्तान ने लचर क्षेत्ररक्षण के कारण वेस्टइंडीज को वापसी का मौका दिया।

वेस्टइंडीज ने बीच के ओवरों में विकेट बचाये रखने के साथ रन भी बनाये। आखिरी दस ओवरों में तो उसके बल्लेबाज गेंदबाजों पर हावी हो गये जिससे टीम 300 रन के पार पहुंचने में सफल रही। आखिरी पांच ओवरों में ही 79 रन बने। सैमी और रसेल ने इस बीच पाकिस्तानी गेंदबाजी की धज्जियां उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।  

क्रिस गेल फिर से नाकाम रहे और 14 गेंद का सामना करने के बावजूद चार रन ही बना पाये। दूसरे सलामी बल्लेबाज ड्वेन स्मिथ ने 23 रन का योगदान दिया। डेरेन ब्रावो बायें पांव की हैमस्ट्रिंग में खिंचाव आने के कारण रिटायर्ड हर्ट हुए। उन्होंने इससे पहले 78 गेंदों पर 49 रन बनाये।

विकेटकीपर रामदीन ने बीच के ओवरों में दो उपयोगी साझेदारियां निभायी। उन्होंने ब्रावो के साथ 49 रन और पिछले मैच के शतकवीर सिमन्स के साथ 42 रन जोड़े। उन्होंने 40वें ओवर में आउट होने से पहले 43 गेंद की अपनी पारी में सात चौके लगाये। पाकिस्तान वेस्टइंडीज की पारी के दौरान जूझता रहा। उसने चार कैच टपकाये। इनमें से दो कैच तो अफरीदी ने छोड़े।

नासिर जमशेद ने पारी के पांचवें ओवर में स्मिथ का कैच छोड़ा। यह बल्लेबाज तब 11 रन पर था। अफरीदी ने इसके बाद 20वें ओवर में सैमुअल्स को जीवनदान दिया। वह तब 27 रन पर खेल रहे थे। इसके नौ ओवर बाद अफरीदी ने ब्रावो का कैच भी टपकाया। मोहम्मद इरफान ने 46वें ओवर में सिमन्स का कैच छोड़ा।

Published in खेल
Page 5 of 7