Sat08172019

ताज़ा खबरें :
Back You are here: Home खेल Displaying items by tag: world cup
Displaying items by tag: world cup - दिव्य इंडिया न्यूज़

मुंबई: पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर का कहना है कि भारत ने आगामी क्रिकेट विश्व कप के लिए अपनी टीम में कई चोटिल खिलाड़ियों को रखने की ‘गलती’ की है जो खिताब बरकरार रखने के उसके अभियान को कठिन बना सकता है।

एक विशेष साक्षात्कार में वेंगसरकर ने कहा कि भारत को इस उम्मीद में कि खिलाड़ी फिट हो जाएंगे, विश्व कप की टीम में चोटिल खिलाड़ियों को नहीं लेना चाहिए था। उन्होंने साथ ही पिछले विश्व कप के मैन ऑफ दि टूर्नामेंट युवराज सिंह और फॉर्म में चल रहे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय को विश्व कप टीम से बाहर रखने पर हैरानी जताते हुए इसे ‘चौंकाने वाला’ बताया।

भारत विश्व कप में अपने अभियान की शुरूआत 15 फरवरी को ऐडिलेड ओवल में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले से करेगा। भारत पाकिस्तान से अब तक किसी भी विश्व कप मैच में नहीं हारा है। पूर्व कप्तान का मानना है कि पाकिस्तान के खिलाफ पहला मैच बहुत अच्छा अवसर है क्योंकि मैच में जीत दर्ज करने पर खिलाड़ियों की मनोदशा बदल जाएगी।

यह पूछे जाने पर कि  ऑस्ट्रेलिया में हुई त्रिकोणीय श्रृंखला में भारत के खराब प्रदर्शन का विश्व कप में टीम के मनोबल पर कोई असर पड़ेगा? वेंगसरकरने कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए। उन्हें इसे किसी भी दूसरे टूर्नामेंट की तरह देखना चाहिए। विश्व कप एक अलग और बड़ा टूर्नामेंट है जिसे भारतीय खिलाड़ियों को प्रेरित करना चाहिए। इसके अलावा वे एक अपेक्षाकृत अनुभवहीन एवं तुलनात्मक रूप से औसत पाकिस्तानी टीम के खिलाफ उतरेंगे जिसका विश्व कप में भारत के खिलाफ शून्य का रिकार्ड है। टीम का संयोजन (अगर सब फिट हो तो) पाकिस्तानी टीम की तुलना में अब भी बेहतर दिख रहा है।

यह पूछे जाने पर कि कुछ गेंदबाजों की चोट को देखते हुए क्या आप टीम के संयोजन से खुश हैं? ईशांत के फिट नहीं होने पर आप मोहित शर्मा या धवल कुलकर्णी में से किसे टीम में शामिल करेंगे? वेंगसरकर ने जवाब में कहा कि  भारत के पास विकल्प नहीं है इसलिए चोटिल खिलाड़ियों को रखना पड़ रहा है। स्पष्ट कहूं तो आप इस उम्मीद में कि खिलाड़ी फिट हो जाएंगे चोटिल खिलाड़ियों को टीम में नहीं रख सकते। इसकी बजाए उन्हें सफलता के लिए लालायित नए खिलाड़ियों को चुनना चाहिए था। अगर ईशांत फिट नहीं होते तो मुझे लगता है कि हाई आर्म एक्शन और गेंद को घूमाने की क्षमता वाले धवल को टीम में लेना चाहिए।

Published in खेल

कोलकाता। भले ही खराब प्रदर्शन के चलते टीम इंडिया को ज्यादातर जानकार वर्ल्ड कप के लिए दावेदार नहीं मान रहे हैं लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली इनसे इत्तेफाक नहीं रखते। गांगुली का मानना है कि भारतीय टीम वर्ल्ड कप के फाइनल तक पहुंच सक ती है। गांगुली ने कहाकि, इस वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के पास बड़ा मौका है। 

भारतीय टीम इस बार वर्ल्ड कप में खिताब बचाने के लिए उतरेगी, उसने 2011 में महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में यह खिताब अपने नाम किया था। धोनी के पास भी क्लाइव लॉयड और रिकी पोटिंग जैसे दिग्गजों की बराबरी करने का मौका है, इन दोनों ने लगातार दो बार अपनी टीमों को विजय बनाया था। भारत के वर्ल्ड कप जीतने के अवसर पर गांगुली ने कहाकि, स्थिति बदलने के लिए आपको केवल एक मैच चाहिए। धोनी के नेतृत्व में इस टीम इंडिया के पास क्षमता है और यदि भारत फाइनल तक पहुंचती है तो मुझे कोई अचंभा नहीं होगा। 

उन्होंने कहाकि, मुझे नहीं लगता है कि भारतीय टीम में ज्यादा समस्याएं है। भारतीय खिलाड़ी दबाव का सामना करने में सक्षम है। अगर टीम इंडिया अच्छा प्रदर्शन नहीं करेगी तो मुझे हैरानी होगी। इस दौरान उन्होंने कहाकि वर््ल्ड कप में विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और स्टीव स्मिथ पर उनकी नजरें रहेंगी और ये तीनों टॉप परफॉर्मर हो सकते हैं।

Published in खेल

मुंबई। वर्ल्ड कप 2015 में भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के खिलाफ 15 फरवरी को टूर्नामेंट का अपना पहला मैच खेलने जा रही हैं। इस मैच में जिस चीज को क्रिकेट लवर्स और टीम इंडिया सबसे ज्यादा मिस करने वाले हैं, वो है टीम में "सचिन फैक्टर"। ऎसा पहली बार होगा जब सचिन वर्ल्ड कप में भारत-पाक के बीच खेले जाने वाले मैच में टीम इंडिया का हिस्सा नहीं होंगे। 

अपने 24 साल के करियर में सचिन ने टीम को अहम योगदान दिया है। भारत-पाक के बीच वर्ल्ड कप में अब तक पांच भिडंत हुई हैं और सचिन पांचों बार भारतीय टीम का हिस्सा रहें हैं। यही नहीं इन दोनों देशों के बीच वर्ल्ड कप में केले गए पांच मुकाबले में सचिन तीन बार मैन ऑफ द मैच भी रह चुके हैं। ऎसे में टीम इंडिया के लिए वर्ल्ड कप 2015 में टीम में सचिन फैक्टर ना होना सभी को खलेगा। 

सचिन वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज हैं। उन्होंने पाक के खिलाफ खेले गए पांच मैचों में 78.05 के औसत से 313 रन बनाए हैं। वहीं सचिन के अलावा मात्र दो ही ऎसे भारतीय बल्लेबाज हैं, जिन्होंने वर्ल्ड कप में पाक के खिलाफ 100 रनों का आंकड़ा पार किया है। इन खिलाडियों में मोहम्मद अजहरूद्दीन और राहुल द्रविड़ का नाम शामिल है। अजहर ने पाक के खिलाफ तीन वर्ल्ड कप मैच खेलें है, जिनमें उन्होंने 118 रन बनाए हैं। जबकि द्रविड़ ने दो मैचों में 105 रन बनाए हैं। गौरतलब है कि पाकिस्तान अब तक वर्ल्ड कप में भारत के खिलाफ एक बार भी जीत नहीं दर्ज कर सका है।

Published in खेल

सेंट जोंस : वेस्टइंडीज की विश्व कप की तैयारियों को बुधवार को करारा झटका लगा जब रहस्यमयी स्पिनर सुनील नारायण ने अगले महीने शुरू हो रहे टूर्नामेंट से नाम वापिस ले लिया।

वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड की विज्ञप्ति के अनुसार नारायण ने कहा है कि उन्हें अपने नये एक्शन के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पूरे आत्मविश्वास से गेंदबाजी करने में अभी समय लगेगा। नारायण पर आईसीसी ने कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है लेकिन चैम्पियंस लीग टी20 टूर्नामेंट के दौरान उनका एक्शन अवैध करार दिया गया था

उन्होंने गेंदबाजी एक्शन में सुधार के लिये मदद का कैरेबियाई बोर्ड का प्रस्ताव ठुकरा दिया। विज्ञप्ति में उनके हवाले से कहा कि विश्व कप में खेलना अभी जल्दबाजी होगी। वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड से सलाह के बाद दोनों के हित में हमने फैसला किया है कि 100 प्रतिशत आत्मविश्वास हासिल करने के बाद ही मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी करूंगा। ऐसी अटकलें लगाई जा रही है कि त्रिनिदाद के ही ड्वेन ब्रावो और कीरोन पोलार्ड को वनडे टीम से बाहर किये जाने की वजह से उन्होंने यह फैसला लिया है। ब्रावो पिछले साल भुगतान विवाद के कारण भारत दौरा बीच में छोड़ने वाली वेस्टइंडीज टीम के कप्तान थे जबकि पोलार्ड टीम का हिस्सा थे।

Published in खेल

नई दिल्ली: सटोरियों की माने तो विश्वकप पर अभी से सट्टा लगना शुरू हो गया है। हालांकि सट्टा बाज़ार के मुताबिक मौजूदा चैंपियन भारत के लिए खबर अच्छी नहीं है। सटोरियों ने भारत को चौथे स्थान पर रखा है। सट्टा बाज़ार के मुताबिक ख़िताब की सबसे प्रबल दावेदार है ऑस्ट्रेलिया की टीम है। इसलिये उसका भाव सबसे कम यानी 2 रुपया 40 पैसा है। दूसरे नंबर पर 4 रुपये 30 पैसे के साथ दक्षिण अफ्रीका है। तीसरे नंबर पर है न्यूज़ीलैंड, जिसका भाव है 5 रुपये 30 पैसे है। जबकि भारतीय टीम का भाव है 6 रूपये 30 पैसे है।

सटोरियों के खेल पर मुंबई पुलिस ने भी अभी से नज़र रखना शुरू कर दिया है। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता धनंजय कुलकर्णी ने बताया कि पुलिस कमीश्नर राकेश मारिया ने खास तौर पर निर्देश दिया है कि मुंबई के जितने भी बुकी रिकॉर्ड पर हैं, उन पर नजर रखी जाये।

अगर जरूरत पड़े तो उन पर एहतियातन कार्रवाई भी की जाये और जिस भी पुलिस स्टेशन इलाके में सटोरिये सट्टा लगाते हुए पकड़े जाएगें उस पुलिस स्टेशन के थाना इंचार्ज के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी गई है। लेकिन, सटोरिये कहां मानने वाले है, वर्ल्ड कप शुरू होने के पहले ही उन्होंने सट्टा लगाना शुरू भी कर दिया है।

सटोरियों की नजर में मौजूदा चैंपियन भारत की हालत ख़राब है, वजह ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज़ में बेहद ख़राब प्रदर्शन और ट्राई सीरीज़ में भी टीम की बद से बदतर होती स्थिति, टीम में युवराज, सहवाग और गंभीर के नहीं होने से भी सट्टा बाज़ार में टीम पर असर पड़ा है।

ऑस्ट्रेलिया में वर्ल्डकप के आयोजन को भी सटोरिये भारतीय टीम के खिलाड़ियों के लिए माकूल नहीं मानते हैं। सटोरियों की माने तो ये शुरुवाती रुझान है, जब 3 फरवरी के बाद सारी टीमें एक-दूसरे से मैच खेलना बंद कर वर्ल्ड कप के लिए अभ्यास करना शुरू करेगीं। तब स्थिति ज्यादा साफ हो पाएगी और भाव में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा।

Published in खेल

मेलबर्न : विश्व कप के लिए ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम में चयन के कुछ फैसलों से नाखुश पूर्व कप्तान इयान चैपल ने कहा कि मेजबान देश को 14 फरवरी से शुरू हो रहे क्रिकेट के महाकुंभ में भारत और दक्षिण अफ्रीका से सबसे कठिन चुनौती मिलेगी।

चैपल ने ‘द डेली टेलीग्राफ’ अखबार में अपने स्तंभ में लिखा, ‘ऑस्ट्रेलिया को दक्षिण अफ्रीका और भारत से सबसे मजबूत चुनौती मिलेगी और ब्रैंडन मैकुलम के आक्रामक नेतृत्व में न्यूजीलैंड की टीम छुपा रूस्तम साबित हो सकती है।’

उन्होंने लिखा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया सबसे मजबूत टीम है लेकिन भारत का ताकतवर बल्लेबाजी क्रम और तेज गेंदबाजी दक्षिण अफ्रीका की प्रतिभाशाली तिकड़ी के बराबर है और बाकी टीमों से बेहतर है। ऑस्ट्रेलिया के बड़े मैदानों में क्षेत्ररक्षण महत्वपूर्ण होगा जिसमें शारीरिक चपलता की जरूरत होगी।’

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के लिए स्पिन गंेदबाजी चिंता का विषय है क्योंकि टीम ने विश्व कप की टीम में विशेषज्ञ लेग स्पिनर शामिल ना करने का फैसला किया है। चैपल ने कहा, ‘मुझे विश्व कप के लिए चुनी गयी 15 सदस्यीय टीम से केवल दो शिकायतें हैं, लेग स्पिनर को ना चुना जाना और माइकल क्लार्क के फिट ना हो पाने की स्थिति में स्टीव स्मिथ का उप कप्तान ना होना।’

Published in खेल

मेलबर्न : आस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने एक महीने पहले स्वीकार किया था कि चोटों के कारण वह शायद फिर से क्रिकेट नहीं खेल पायें लेकिन अब उन्होंने विश्व कप के बाद संन्यास की संभावना से इनकार किया और कहा कि वह 2019 में होने वाले टूर्नामेंट तक खेलना जारी रख सकते हैं।

हैमस्ट्रिंग की चोट और पीठ दर्द के कारण क्लार्क भारत के खिलाफ आखिरी के तीन टेस्ट मैचों में नहीं खेल पाये थे। उन्हें हालांकि 14 फरवरी से होने वाले विश्व कप के लिये आस्ट्रेलियाई टीम में चुना गया है। क्लार्क को फिटनसे साबित करने के लिये 21 फरवरी तक का समय दिया गया है। लेकिन क्लार्क ने कहा कि उन्हें पूरी तरह फिट होने का विश्वास है। उन्होंने कहा कि यह बड़ा मजाक लगता है कि कई लोग कह रहे हैं या सोचते हैं कि माइकल विश्व कप के बाद संन्यास लेने जा रहा है। मैं विश्व कप के बाद संन्यास लूंगा लेकिन मुझे नहीं लगता कि वह यह वाला विश्व कप होगा।

एक अंतराष्‍ट्रीय अखबार के अनुसार, क्लार्क ने कहा कि मैं अभी 33 साल का हूं और ब्रैड हैडिन जैसे खिलाड़ी से प्रेरणा लेता हूं जो 37 साल का है और क्रिकेट को चाहता है व टीम के लिये योगदान दे रहा है। मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता कि आखिर मैं अगला विश्व कप क्यों नहीं खेल सकता हूं।

Published in खेल
Page 7 of 7